न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

महिलाओं को ना कहें ये शब्द, ठीक नहीं हैं इनके मतलब, होती हैं आहत

53

NW Desk : महिलाएं बहुत ही इमोशनल होती है, इसलिए महिलाओं से बात करते हुए पुरुषों को काफी सजग रहना चाहिए. साथ ही उन्हें यह भी पता होना चाहिए कि ऐसे कौन से शब्द हैं जो महिलाओं के सामने नहीं बोलने चाहिए. असल में ये शब्द न सिर्फ महिलाओं का अपमान करते हैं, बल्कि उनके व्यकितत्व को आहत भी करते हैं. आप किसी महिला से प्यार करें या ना करें, लेकिन आपको महिलाओं का सम्मान जरुर करना चाहिए. क्योंकि हर महिला सम्मान की हकदार होती है. हर किसी का रंग-रुप, कद-काठी अलग-अलग होती है. हर कोई सर्वगुण संपन्न नहीं होता, आप भी नहीं है. इसलिए महिलाओं से बात करते समय कुछ शब्दों  का विशेष ख्याल रखना चाहिए. चाहें वो आपकी कितनी ही अच्छी दोस्त ही क्यों ना हों, उनके सामने ये कुछ शब्द इस्तेमाल करने से बचना चाहिए. क्या आप जानना चाहते हैं कि वे कौन से शब्द हैं? आइए हम आपको बताते है वो शब्द कौन से है………..

eidbanner

इसे भी पढ़ें: चारा घोटाला: दुमका ट्रेजरी केस में लालू को 7-7 साल की सजा, 30-30 लाख का जुर्माना

ईगोइस्ट

महिलाओं को यह शब्द बिल्कुल पसंद नहीं है. असल में जिन महिलाओं में कांफिडेंस होता है, कुछ पुरुष उसे उनका ईगो समझ बैठते हैं. नतीजतन वे उनकी नेगेटिव छवि दुनिया के सामने लाने की कोशिश करते हैं. जबकि वे ऐसी नहीं होतीं. अतः किसी भी महिला से बात करें तो उन्हें इगो न कहें. न सामने, न पीछे.

बहनजी

यूं तो बहनजी शब्द सम्मान से भरा शब्द है. लेकिन हमारे समाज में इस शब्द की अलग तरह से व्याख्या की गई है. इस शब्द के मुताबिक बहनजी वो महिलाएं होती हैं जो नासमझ, ग्रामीण, गैर पढ़ी-लिखी हैं. इसलिए जो महिलाएं मॉडर्न हैं, देश दुनिया की खबर रखती हैं, उन्हें यह शब्द कतई पसंद नहीं आता. सो, जो पुरुष महिलाओं के प्रति सम्मान रखते हैं, वे या तो इस शब्द को अच्छे संदर्भों में इस्तेमाल करें या फिर करने से बचें.

इसे भी पढ़ें:  महिला सुरक्षा एप्प की है भरमार, जाने एप्प के जरिए कैसे रखे खुद को सुरक्षित

कैरेक्टर लेस

कैरेक्टर लेस एक ऐसा शब्द है जो किसी भी महिला को सुनना पसंद नहीं आता. कई बार पुरुष गुस्से में इस शब्द का धड़ल्ले से इस्तेमाल कर जाते हैं. जबकि उन्हें इस शब्द के संवेदनशीलता का अहसास भी नहीं होता. वास्तव में कैरेक्टर लेस एक महिला के पूरे व्यक्तित्व को उलट कर रख देता है. उसके मान-सम्मान को भी चोट पहुंचाता है. इसलिए जो जरा भी संवेदशील पुरुष होगा, वह कभी भी इस तरह के शब्दों के इस्तेमाल नहीं करेगा. 

ओवर स्मार्ट

पुरुषों के जहन में अब भी ज्यादातर महिलाएं वैसी ही हैं जैसी कि वह पहले हुआ करती थीं. देश दुनिया से अनभिज्ञ, राजनीति की दुनिया से अपरिचित. जबकि सच्चाई आज इससे उलट है. यही कारण है कि पुरुष अपनी नादानी में कई स्मार्ट महिलाओं को ओवर स्मार्ट कह जाते है. ओवर स्मार्ट कहने का मतलब यह है कि आप महिला विशेष की स्मार्टनेस पर सवाल खड़ा कर रहे हैं. सो इस शब्द का इस्तेमाल न करें.

इसे भी पढ़ें:  संयुक्त राष्ट्र का चौंकाने वाला आंकड़ा, ‘दुनियाभर में भूख से 12 करोड़ से अधिक लोगों के मरने का खतरा’

स्वीटी

जरा सोचिए कि क्या आप किसी को भी स्वीटी कहकर पुकार सकते हैं? नहीं. क्योंकि किसी भी महिला को स्वीटी कहकर पुकारने का मतलब है कि आप उसके साथ बदतमीजी कर रहे हैं. हां, यदि महिला आपकी जानने वाली है और उसके साथ आपके रिश्ते हैं, तो बात अलग है. अगर ऐसा नहीं है तो स्वीटी शब्द के उपयोग से बचें.

ओवर रिएक्ट

हर महिला का किसी भी चीज को लेकर रिएक्ट करने का अपना-अपना अंदाज होता है. अगर उसे बात-बात पर ओवर रिएक्ट कहा जाए तो सही नहीं है.

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

मोटी

किसी भी महिला को उसके फिगर के विषय में किसी पर पुरुष से सुनना पसंद नहीं है. अतः उसकी फिगर को लेकर कभी किसी तरह की कमेंट न करें. खासकर मोटी तो उसे कभी न कहें.

इसे भी पढ़ें: झारखंड में तेजी से बढ़ रहे हैं टीबी के मरीज, हर घंटे 24 लोग होते हैं शिकार

 काली

महिला काली है या गोरी. इससे किसी को कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए. उन्हें इस तरह के शब्द सुनना भी पसंद नहीं है. इसलिए इस तरह के शब्दों का उपयोग किसी भी जानी या अनजानी महिलाओं के लिए न करें.

अनपढ़

अनपढ़ बोलना एक तरह किसी का अपमान करना है. यदि आप इस तरह के शब्द किसी महिला को बोलते हैं, तो वह इससे काफी आहत हो सकती है. सो, नजरंदाज करें.

चमची

कई बार देखने में आता है कि कोई लड़की यदि किसी एक के प्रति प्रतिबद्ध होती है तो दूसरे उसे उस लड़के विशेष की चमची कहकर पुकारते हैं. ऐसा न कहें. उसकी प्रतिबद्धता पर सवाल खड़ा होता है. साथ ही उसका दिल भी दुखता है.

इसे भी पढ़ें:  नौकरीपेशा महिलाओं की तुलना में हर सप्ताह 42 घंटे अधिक काम करती है घरेलू महिला

‘आई डोंट केयर

आप किसी भी महिला से अगर इस एक छोटे से वाक्य को कहेंगे तो उसे यही लगेगा कि उसकी आपके जीवन में कोई अहमितय नहीं है. आपको बताते चलें कि महिलाएं बहुत संवेदनशील होती हैं. इस तरह के शब्दों से वह परेशान हो उठती हैं.

पागल

प्यार में पागल कहना अलग बात है, लेकिन गुस्से में कभी पागल शब्द का इस्तेमाल न करें. इससे महिला को लगेगा कि जो शख्स उसे अब तक समझदार और होशियार समझता था. एकाएक उसे पागल कहकर उसकी समझदारी पर सवालिया निशान लगा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: