Uncategorized

मलूटी के संरक्षण के लिए राज्‍य सरकार और आईटीआरएचडी के बीच समझौता

रांची : राज्य सरकार ने बुधवार को आईटीआरएचडी (इंडियन ट्रस्‍ट फॉर रूरल हेरिटेज एंड डेवलपमेंट) संस्‍था के साथ समझौता किया जिसके मुताबिक अब संस्‍था सुविख्यात मंदिरों के गांव मलूटी के प्राचीन टेराकोटा मंदिरों के संरक्षण, संवर्धन और जीर्णोधार करेगी।

मुख्य सचिव राजीव गौवा के कार्यालय कक्ष में श्री गौवा, पद्मभूषण एस॰के॰मिश्रा, वित्त विभाग के प्रधान सचिव अमित खरे की उपस्थिति में एमओयू पर हस्‍ताक्षर किया गया। राज्य सरकार की ओर से कला, संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग के सचिव अविनाश कुमार तथा आईटीआरएचडी की तरफ से संस्था के राज्य प्रतिनिधि एस॰डी॰सिंह ने समझौते पर हस्ताक्षर किया।

समझौते के मुताबिक संस्‍था को अधिकार होगा कि वो ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित किसी विरासत या धरोहर की पहचान करेगी। साथ ही संस्था राज्य के ग्रामीण स्थलों को पर्यटन स्थल के रुप में विकसित करने के लिए भी चिन्ह्ति करेगी। यह संस्था संबंधित ग्रामीण क्षेत्रों में आधारभूत संरचना एवं समग्र विकास की योजना बनाकर सरकार को परामर्श देगी।

इधर, सरकार ने मलूटी के मंदिर समूह के संरक्षण और विकास कार्य के लिए सरकारी, अर्द्ध सरकारी, देशी एवं विदेशी संस्थाओं या किसी अन्य स्रोतों से अनुदान प्राप्त करने के लिए भी आईटीआरएचडी को प्राधिकृत किया है।

इस अवसर पर मुख्य सचिव गौवा ने कहा कि आईटीआरएचडी जैसी अन्तरराष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित संस्था के साथ समझौता करने से काम की गुणवत्‍ता दिखेगी। संस्था द्वारा मलूटी के प्राचीन टेराकोटा मंदिरों का बेहतर एवं वैज्ञानिक तरीके से जीर्णोद्धार के साथ गांव के विकास का काम युद्ध स्‍तर पर किया जायेगा। इन विकास कार्य में पथ निर्माण, पेयजल, विघुत आपूर्त्ति, कौशल विकास, शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य इत्यादि के काम कराये जायेंगे। पर्यटक सुविधा केन्द्र की भी स्थापना यहां की जायेगी।
गौरतलब है कि कला, संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग द्वारा नौ जून (2015) को मंत्रिपषिद की बैठक में आईटीआरएचडी द्वारा समर्पित विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन के आलोक में राज्य सरकार के विभिन्न विभागों की सहभगिता सुनिश्चित की गयी है। इसमें कला, संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य, पर्यटन विभाग, ग्रामीण कार्य विभाग, स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा, ऊर्जा तथा पेयजल एवं स्वच्छता विभाग शामिल हैं। इन विभागों द्वारा मलूटी के मंदिरों के संवर्धन एवं गांव के विकास पर 13 करोड़ 60 लाख 35 हजार रुपये खर्च किये जायेंगे।

सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा इस वर्ष गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली के राजपथ पर मलूटी के टेराकोटा मंदिरों पर आधारित झांकी प्रस्तुत की गई थी। झांकी को भारत सरकार द्वारा द्वितीय पुरस्कार दिया गया था।

इस एमओयू के तहत राज्य सरकार के विभिन्न विभागों कला, संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य, पर्यटन विभाग, ग्रामीण कार्य विभाग, ऊर्जा, स्वास्थ्य विभाग, मानव संसाधन विकास विभाग, जल संसाधन विभाग, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग एवं आईटीआरएचडी के सहयोग से विभिन्न योजनाओं को मूर्त रुप दिया जाएगा। मलूटी के मंदिरों के संरक्षण एवं विकास परियोजना के लिए समिति का गठन किया गया है।

समन्वय एवं पर्यवेक्षण का कार्य कला, संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग के निदेशक की अध्यक्षता में किया जाएगा। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में झारखण्ड सरकार द्वारा सलाहकार समिति का भी गठन किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button