न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

मरीज की मौत पर हंगामा, परिजनों ने अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं होने का लगाया आरोप

47

Daltonganj : सदर अस्पताल में गुरुवार को एक बार फिर अव्यवस्था देखने को मिली. ऑक्सीजन के अभाव में एक मरीज की तड़प-तड़प कर मौत हो गयी. घटना के बाद मरीज के परिजनों ने जमकर हंगामा किया और दोषियों पर कार्रवाई की मांग की. इससे काफी देर तक अस्पातल में अफरा-तफरी का माहौल बना रहा. मरीज परेशान रहे और चिकित्सकों को इलाज करने में असुविधा हुई.

eidbanner

इधर, डॉक्टर आरके रंजन ने बताया कि मरीज का इलाज किया गया, लेकिन उनकी स्थिति बिगड़ने पर अस्पताल में लाया गया था. नतीजा उनकी कुछ देर बाद मौत हो गयी.

इसे भी पढ़ें – तत्कालीन भवन निर्माण विभाग की प्रधान सचिव राजबाला वर्मा ने टेंडर मैनेज करने वाले इंजीनियरों को दिया संरक्षण, सरयू राय ने जांच के लिए सीएम को लिखी चिट्ठी

इसे भी पढ़ें – रांची : पार्ट वन की परीक्षा में आया सिलेबस से बाहर का प्रश्न , विरोध में 20 हजार परीक्षार्थियों ने जमा कर दी खाली आंसर शीट

ऑक्सीजन समय पर नहीं मिलने से हुई मौत

जानकारी के अनुसार सांस लेने में तकलीफ होने के बाद पलामू जिले के पंडवा थाना क्षेत्र के कोकरसा निवासी रिटायर शिक्षक नंदकिशोर पांडेय को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां ऑक्सीजन समय पर नहीं मिलने के कारण उनकी मौत हो गयी. घटना के बाद उनके परिजनों और अभिभावक संघ के अध्यक्ष अधिवक्ता किशोर कुमार पांडेय उग्र हो गए और अस्पताल में जमकर हंगामा किया और जिला प्रशासन से दोषियों पर कार्रवाई की मांग की.

अस्पताल में अव्यवस्था का आलम

श्री पांडेय ने कहा कि नंदकिशोर पांडेय उनके रिश्तेदार थे. वे खुद उन्हें लेकर इलाज के लिए पहुंचे थे, लेकिन अस्पताल में भारी अव्यवस्था नजर आयी. वार्ड में ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध नहीं था. नतीजा कुछ देर बाद उनकी तड़प-तड़प कर मौत हो गयी.

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

mi banner add

इसे भी पढ़ें –  पुलिस के हत्थे चढ़े 4 साइबर अपराधी, फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को लगाते थे चूना  

इसे भी पढ़ें – चारा घोटाला : दुमका कोषागार से तीन करोड़ ग्यारह लाख की फर्जी निकासी मामले में फैसला टला, 16 को आ सकता है

इसे भी पढ़ें – कुख्यात राकेश भुइयां दस्ते का सफाया, अत्याधुनिक हथियार सहित शिकंजे में चार नक्सली

अस्पताल प्रबंधन ने आरोप को नकारा

इधर, अस्पताल प्रबंधन की ओर से डीपीएम प्रवीण कुमार ने बताया कि सदर अस्पताल में वैसे मरीज आते हैं, जो गरीब होते हैं. अस्पताल की सुविधाएं उनके लिए है. जिस समय ऑक्सीजन की आवश्यकता हुई थी, उस वक्त अस्पताल में नौ सिलेंडर थे. सिलेंडर लगाने में एक-दो मिनट का समय लग जाता है. मामले को बिना वजह तिल का ताड़ बनाया जा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: