न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मरने से पहले स्टीफन हॉकिंग ने चेताया, कुछ सालों बाद रहने लायक नहीं रहेगी पृथ्वी, जाना होगा दूसरे ग्रह

39

London : प्रख्यात ब्रिटिश वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग अब नहीं रहे. ज्ञात हो कि बुधवार को स्टीफन हॉकिंग का कैम्ब्रिज स्थित उनके आवास पर निधन हो गया. उनके परिवार ने इसकी जानकारी दी थी. लेकिन मरने से पहले स्टीफन हॉकिन्स ने यह चेतावनी दी है कि कुछ सालों के बाद पृथ्वी रहने लायक नहीं रहेगी. लोगों को रहने के लिये दूसरे ग्रह पर जाना होगा. उन्होंने कहा कि मनुष्य अगले दो सौ सालों में पृथ्वी छोड़ दें. क्योंकि आने वाले समय में बढ़ती जनसंख्य, जलवायु परिवर्तन और पिंड से टकराव के कारण से जो रिजल्ट आयेगा उससे इंसान खुद को बचा नहीं पायेगा, इसलिये वे किसी दूसरे ग्रह में जाकर बस जायें. गौरतलब है कि उन्होंने यह चेतावनी अपनी मृत्यु से कुछ महीने पहले दी थी.

इसे भी पढ़ें- जब मर्लिन मुनरो के प्रशंसक हॉकिंग ने 200 साल के भीतर धरती के खात्मे की भविष्यनवाणी कर सनसनी फैला दी

ये था स्टीफन हॉकिंग का एक सबसे बड़ा डर

पृथ्वी को लेकर हॉकिंग का जो सबसे बड़ा डर जो था ग्लोबल वॉर्मिंग. हॉकिंग ने जुलाई 2017 में कहा था कि हमारे भौतिक संसाधनों का खतरनाक स्तर पर दोहन हो रहा है. बढ़ता तापमान, बर्फ का पिघलना, जानवरों की प्रजातियों का नाश, वनों की कटायी जारी है. जो कि आनेवाले समय में बहुत ही खतरनाक साबित होगा.  उन्होंने यह भी कहा था कि अगर ग्रीन हाउस गैस का उत्सर्जन कम नहीं किया गया तो पृथ्वी बहुत गर्म हो जायेगी. शुक्र ग्रह की तरह 460 डिग्री सेल्सियस का तापमान पृथ्वी पर भी हो जायेगा.

इसे भी पढ़ें- नहीं रहे दुनिया को बिग बैंग, ब्लैक होल्स का रहस्य बताने वाले ब्रिटिश वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग, 76 साल की उम्र में हुआ निधन

hotlips top
Related Posts

demo

पैरिस जलवायु के समझौते को लेकर भी हॉकिंग ने चेताया था

हॉकिंग ने कहा कि तकनीकी विकास के साथ मिलकर काम करने की वजह से बुरा प्रभाव पड़ रहा है. इसी के कारण आने वाले दिनों में परमाणु या फिर जैविक युद्ध के जरिये इंसानों का खात्मा हो सकता है. वैश्विक सरकार ही हमें इससे बचा सकती है. उन्होंने पैरिस जलवायु समझौते को लेकर भी चेताया था और कहा था कि इस समझौते से अमेरिका को अलग करने का वहां के राष्ट्रपति ट्रंप का फैसला पृथ्वी को तबाही की तरफ धकेल सकता है. वहीं ट्रंप के फैसले के कारण ग्लोबल वॉर्मिंग का स्तर वहां तक पहुंच सकता है जहां से शायद वापस आना मुश्किल होगा या फिर नामुमकिन.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like