न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ममता मिलीं सोनिया से, कहा- देश से भाजपा को जाना चाहिए, वन टू वन मुकाबला हो  

40

New delhi :  दिल्‍ली में मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष को गोलबंद किये जाने की कवायद जोर पकड़ रही है. इसकी धुरी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बन रही हैं. इसी कवायद को लेकर ममता ने बुधवार को सोनिया गांधी से मुलाकात की. इस संबंध मीडिया से बातचीत करने के क्रम में ममता बनर्जी ने कहा कि वे जब भी दिल्‍ली आती हैं,  तो सोनिया से मुलाकात करती हैं.  कहा कि सोनिया गांधी से उनका रिश्ता अच्छा है. यह भी बताया कि सोनिया से 2019 के चुनाव को लेकर चर्चा हुई है. ममता के अनुसार सोनिया का मानना है कि देश से भाजपा को जाना चाहिए.  ममता ने कहा कि भाजपा के खिलाफ हम चाहते हैं कांग्रेस का साथ मिले. हम चाहते हैं कि भाजपा के साथ सीधा वन टू वन मुकाबला हो. उन्‍़होंने वन टू वन मतलब समझाया कि जिस राज्य में भाजपा के खिलाफ जो पार्टी मजबूत हो,  उसे बाकी पार्टी सपोर्ट करें. इसमें वे कांग्रेस के समर्थन की आशा रखेंगी. ममता ने कहा कि वह चाहती हैं कि यूपी में माया-अखिलेश,  बिहार में लालू-कांग्रेस, कर्नाटक में कांग्रेस को जीत हासिल हो.

इसे भी देखें- राहुल का मीडिया पर तंज,  कहा- तथ्यों को तोड़मरोड़ कर उनके खिलाफ घृणा फैला रहा है मीडिया

ममता भाजपा के बगावती नेताओं से मिलीं

 ममता इससे पूर्व भाजपा के बगावती नेता शत्रुघ्न सिन्हा, पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी से मिलीं.  यशवंत सिन्हा ने ममता बनर्जी से मिलने के बाद मीडिया को बताया कि ममता सराहनीय कार्य कर रही हैं. हमारा समर्थन उनके साथ है. हमने एक साथ वाजपेयी सरकार में काम किया था और हमें उनपर पूरा विश्वास है. शत्रुघ्न सिन्हा के अनुसार ममता बनर्जी के व्यक्तित्व की तुलना हम किसी से नहीं कर सकते. हम उनके साथ हैं. यह पार्टी विरोधी गतिविधि नहीं है, बल्कि देशहित में उठाया गया कदम है. देश किसी भी पार्टी से ऊपर है और हम देश की रक्षा के संघर्ष में ममता के साथ हैं. हालांकि दोनों नेता तीसरे मोर्चे के सवालों से किनारा कर गये.

इसे भी देखें- सामरिक गठजोड़ मजबूत करने सुषमा स्वराज जापान की तीन दिवसीय यात्रा पर रवाना  

अरुण शौरी ने कहा, मोदी अपनी सरकार पर से नियंत्रण खो चुके हैं

ममता ने अरुण शौरी से भी मुलाकात की. इसके बाद अरुण शौरी ने प्रधानमंत्री मोदी पर हमलावर होते हुए कहा कि वे अपनी सरकार पर से नियंत्रण खो चुके हैं. कहा कि अर्थव्यवस्था के साथ-साथ सरकार की सभी नीतियां नाकाम साबित हो रही हैं. देश में निराशा का माहौल है. सरकार विकास, रोजगार और इन्फ्रास्ट्रक्चर जैसी महत्वपूर्ण जरूरतों को पूरा करने में नाकामयाब है. अरुण शौरी ने तीसरे मोर्चे के सवाल पर कहा कि छोटी-छोटी पार्टियां एकजुट होकर भाजपा के खिलाफ मोर्चा खड़ा कर टक्‍़कर दे सकती हैं.  

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: