न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मध्यप्रदेश : हॉस्टल में चेकिंग के नाम पर 40 छात्राओं के कपड़े उतरवाये, इस्तेमाल किया हुआ सैनिटरी नैपकिन मिलने पर की ऐसी हरकत

38

Sagar : जांच के नाम पर आये दिन कपड़े उतरवाने के मामले सामने आते रहते हैं. पुणे के एमआईटी विश्वशांति गुरुकुल हायर सेकंडरी स्कूल में एचएससी एग्जाम के दौरान छात्राओं के कपड़े उतरवाने का मामला अभी लोग भूले भी नहीं होंगे कि मध्यप्रदेश के सागर जिले में स्थित एक हॉस्टल में चेकिंग के नाम पर छात्राओं के कपड़े उतरवाने का मामला सामने आ गया है. घटना डॉ. हरि सिंह गौर यूनिवर्सिटी के हॉस्टल का है. गौरतलब है कि हॉस्टल में रह रही छात्राओं ने बताया कि हॉस्टल कैंपस में इस्तेमाल किया हुआ सैनिटरी नैपकिन मिलने की वजह से वार्डन ने ऐसी हरतक की. हॉस्टल में रह रही करीब 40 छात्राओं ने वार्डन पर यह आरोप लगाया है.

इसे भी पढ़ें- पार्क पड़तालः रांची की खूबसूरती पर दाग बने शहर के पार्क, टूटी दीवार, फैली गंदगी और मॉडर्नाइजेशन के नाम पर अश्लीलता  

क्या कहना है छात्राओं का

मामले को लेकर छात्राओं ने बताया कि हॉस्टल कैंपस में इस्तेमाल किया हुआ गंदा नैपकिन मिला था, जिसकी वजह से वार्डन काफी गुस्से में आ गयी. गुस्से में आकर वार्डन ने छात्राओं की तलाशी लेनी शुरू कर दी, ताकि उन्हें यह पता चल सके कि किसने वह नैपकिन फेंका था. तलाशी के दौरान वार्डन ने अमानवीयता की सारी हदें पार कर दी. उन्होंने पता लगाने के चक्कर में छात्राओं के कपड़े तक उतरवा दिए.

इसे भी पढ़ें- झारखंड राज्यसभा चुनाव का कैल्कूलसः यूपीए को एक विधायक ने दिया धोखा,  बीजेपी को कोसने वाले ने ही दिया एनडीए का साथ

वाइस चांसलर से छात्राओं ने की शिकायत

घटना के बाद छात्राओं ने इस पूरे मामले के खिलाफ यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर आरपी तिवारी से इसकी शिकायत की. शिकायत मिलने के बाद वाइस चांसलर ने कहा कि यह घटना बहुत ही दुर्भाग्यवश और निंदनीय है. मैं छात्राओं से इस घटना को लेकर माफी मांगता हूं क्योंकि मैंने हमेशा ही यह कहा है कि सभी छात्राएं मेरी बेटियों जैसी हैं. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वो इस मामले के खिलाफ जल्द से जल्द ऐक्शन लेंगे और अगर इस मामले में वार्डन दोषी पायी जाती हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें- राज्यसभा चुनाव में प्रदीप यादव ने नहीं दिया यूपीए को वोट, जेवीएम सार्वजनिक करे अपना मत : अरूप चटर्जी

जांच के नाम पर कपड़े उतवाने का मामला कोई नया नहीं

पुणे के एमआईटी विश्वशांति गुरुकुल हायर सेकंडरी में भी इस तरह का मामला सामने आया था. जहां हायर सेकंडरी सर्टिफिकेट (एचएससी) एग्जाम दे रहीं छात्राओं ने आरोप लगाया था कि परीक्षा में जाने से पहले चेकिंग के दौरान उनके कपड़े उतरवाये गये थे. छात्राओं का कहना था कि 21 फरवरी को एचएससी परीक्षा के दिन सेंटर के अंदर जाने से पहले ही दिन दो महिला शिक्षकों ने चेकिंग करने के दौरान अंडरगारमेंट्स उतारने को कहा. साथ ही छात्राओं का आरोप है कि 26 और 28 फरवरी के दिन भी इसी तरह से तलाशी ली गयी. वहीं इस मामले को लेकर एक छात्रा ने 28 फरवरी के बाद शिकायत कीजबकि इस तरह के आरोपों पर एमआईटी प्रबंधन ने साफतौर पर इनकार कर दिया था. प्रबंधन की ओर से सिर्फ इतना ही कहा गया था कि स्कूल के स्टाफ की ओर से  सिर्फ सामान्य तरीके से चेकिंग की गयी थी और किसी को भी कपड़े उतारने को नहीं कहा गया था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: