न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने उठाया दोहरा लाभ, उनकी सदस्यता हो रद्द : चितरंजन चौधरी

258

Ramgarh: रामगढ़ के विधायक एवं मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी की सदस्यता को रद्द करने की मांग को लेकर राजभवन को एक ज्ञापन भेजा गया है. ज्ञापन कांग्रेसी नेता चितरंजन चौधरी ने  आरटीआई के माध्यम से जानकारी हासिल कर राजभवन को भेजा है. श्री चौधरी ने शहर के थाना चौक में स्थित होटल ट्रीट के सभागार में गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर मामले की पूरी जानकारी दी.

मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी उठा रहे दोहरा लाभ

आरटीआई से जानकारी प्राप्त कर चितरंजन चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछले कुछ वर्षों से रामगढ़ के विधायक मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी दोहरा लाभ उठा रहे हैं. जो कानून के बिल्कुल खिलाफ है. विधायक रहते कोई दूसरा काम नहीं किया जा सकता. जबकि चंद्रप्रकाश राज्य के मंत्री भी है. उन्होंने फेयर डील प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से काम किया है. चंद्रप्रकाश इस कंपनी के निदेशक हैं. फेयर डील प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड का कार्यालय मकान नंबर 205 ग्राम सांडी रजरप्पा दर्ज है. इस कंपनी के 2000 शेयर हैं. जिसमें 1500 चंद्रप्रकाश चौधरी के नाम से है.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांडः डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी प्रधान, अनुराग गुप्ता समेत घटनास्थल गए सभी वरीय अफसरों का बयान दर्ज करने का निर्देश

कंपनी की एक निदेशक चंद्रप्रकाश चौधरी की मां कलावती देवी है

चितरंजन चौधरी ने बताया कि कंपनी में दो अन्य लोग भी निदेशक है. कंपनी की एक निदेशक चंद्रप्रकाश चौधरी की मां कलावती देवी है. ऐसे तो कलावती चौधरी चंद्रप्रकाश चौधरी की मां है. लेकिन निदेशक मंडल के पेपर में कलावती देवी पति का नाम ना देकर पिता का नाम दर्ज किया गया है. श्री चौधरी ने बताया कि कलावती देवी के नाम से 250 शेयर एवम एक निदेशक आशुतोष महतो के नाम 250 शेयर हैं. आशुतोष महतो के पिता का नाम राम जीवन महतो घर का पता झालदा दिया गया है. बताया गया कि यह निदेशक डम्मी के रुप में रखा गया है इसका मतलब यह कि सिर्फ दिखावे के लिए वह निदेशक है.

इसे भी पढ़ें- सरकार रंगमंच बनाने में व्यस्त, सबसे ज्यादा खर्च कर रहा है पीआरडी विभाग, सरकार कर रही पैसों का बंदरबांट : हेमंत सोरेन

कंपनी ने एक करोड़ 87 लाख रूपय का लिया काम

चितरंजन चौधरी ने बताया कि फेयर डील प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड रामगढ़ क्षेत्र के अधिकतर फैक्ट्रियों में ट्रांसपोर्टिंग का काम करती है. झारखंड सरकार के ग्रामीण विकास विभाग में इस कंपनी ने एक करोड़ 87 लाख रूपय का काम लिया है. यह सड़क निर्माण का काम है. यह कार्य 16 दिसंबर 2017 को मिला है. श्री चौधरी ने बताया कि सीसीएल रजरप्पा क्षेत्र में भी कोयला ट्रांसपोर्टिंग का काम फेयर डील प्राइवेट कंपनी को मिला है. उन्होंने कहा कि मैंने चंद् प्रकाश चौधरी के बारे में जानकारी के लिए कई विभागों में आरटीआई के द्वारा जमा किया है. लेकिन मंत्री के दबाव में कागजात नहीं दिए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने अपने पद का फायदा उठाते हुए पीपुल्स एक्ट का उल्लंघन किया है. सरकार में रहते हुए उन्होंने सरकारी टेंडर लेने का काम किया है. चितरंजन चौधरी ने राज्यपाल को दिए ज्ञापन में कहा है कि विधायक चंद्र प्रकाश चौधरी ने धारा 9A , 11, 8A और 191,1 का उल्लंघन किया है. इस हालत में उनकी सदस्यता को रद्द किया जाए. प्रेस कॉन्फ्रेंस में चंद्रशेखर पटवा , रणधीर गुप्ता, पंकज महतो सहित अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- सरकार ने माना मोमेंटम झारखंड के बाद किया फर्जी कंपनी से 6400 करोड़ का करार, पूछे जाने पर विधायक को दी गलत जानकारी

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल ने ऐसी शिकायत पर रद्द की थी विधायक की सदस्यता

चितरंजन चौधरी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने प्रदेश के बलिया की रसड़ा विधानसभा क्षेत्र के विधायक उमाशंकर सिंह की सदस्यता इसी प्रकार के शिकायत पर रद्द कर दी थी. उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि भारत निर्वाचन आयोग से उमाशंकर सिंह की राज्य विधानसभा की सदस्यता के संबंध में 10 जनवरी 2017 को प्राप्त अभिमत के आधार पर राज्यपाल ने भारत का संविधान के अनुच्छेद 192 ऑब्लिक वन के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए उमाशंकर सिंह का विधायक निर्वाचित होने की तिथि 6 मार्च 2012 से विधान सभा की सदस्यता समाप्ति का निर्णय पारित किया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: