न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारत को मिल सकते हैं पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमान : अमेरिकी अधिकारी

40

Washington : अमेरिकी रक्षा विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि लड़ाकू विमान के क्षेत्र में भारत-अमेरिका रक्षा संबंधों का रास्ता एफ-16 और एफ-18 लड़ाकू विमानों को खरीदने के भारत के फैसले पर निर्भर करता है. अमेरिका ने  भारत को इन लड़ाकू विमानों की पेशकश भी की है. दक्षिण और दक्षिणपूर्व एशिया के लिए उप सहायक रक्षा सचिव जोए फेल्टर ने गुरूवार को कहा था कि भारत की ओर से एक सकारात्मक फैसला पांचवीं पीढ़ी की आधुनिक लड़ाकू विमान प्रौद्योगिकी में आगे की राह तय कर सकता है. उन्होंने कहा कि ट्रंप प्रशासन लड़ाकू विमानों पर भारत के साथ करीबी सहयोग चाहता है. फेल्टर ने पीटीआई-भाषा को दिए विशेष साक्षात्कार में कहा, ‘‘मुझे लगता है कि (एफ-16) ब्लॉक 70 या एफ-18 के साथ लड़ाकू विमान सहयोग का रास्ता शुरू करना इस बात का बड़ा संकेत होगा कि भारत उस स्तर के सहयोग को लेकर गंभीर है, जो हमें लगता है कि भारत के हित में होगा. अगर हम इसी रास्ते पर रहे तो इससे ज्यादा करीबी सहयोग होगा और अधिक उन्नत तकनीक मिलेगी.’’ उन्होंने कहा कि भारत की वायु सेना के लिए सशस्त्र ड्रोन में उसके हित पर भी अमेरिका विचार कर रहा है. उन्होंने कहा कि इस मामले पर उन्हें न तो कोई पेशकश मिली है और न ही इस पर कोई फैसला लिया गया है.

इसे भी देखें- अमेरिका को सैन्य अड्डा बनाने की इजाजत नहीं देगा घाना : नाना अकुफो अद्दो

F-18 पर दोनों देशों में हुई बातचीत, F-35 को लेकर नहीं उठाया गया है कदम

पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान ट्रंप भारत को नि:शस्त्र ड्रोन बेचने पर सहमत हो गए थे ताकि हिंद महासागर में भारत की निगरानी करने की क्षमताओं को बढ़ाया जा सकें. पांचवीं पीढ़ी के एफ-35 लड़ाकू विमानों के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा कि दोनों तरफ से ऐसा कोई कदम नहीं उठाया गया जैसे कि मीडिया में खबरें आ रही हैं. अधिकारी ने कहा कि हालांकि एफ-18 समझौते पर बातचीत हो रही है. उन्होंने कहा, ‘‘हमारा एफ-18 दोहरे इंजन वाला लड़ाकू विमान है जिसे भविष्य में खरीदने के लिए भारत विचार कर सकता है. अमेरिका में यह बहुत अच्छी तरह से काम करता है और इसमें अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल हुआ है.’’

इसे भी देखें- पनामा ने वेनेजुएला के राजदूत को निकाला, उड़ानों को किया रद्द

Related Posts

demo

hotlips top

भारत के साथ करीबी सैन्य संबंध चाहता है अमेरिका

फेल्टर ने कहा कि भारत द्वारा एफ-18 लड़ाकू विमान खरीदना नौसैन्य क्षेत्र में भारत-अमेरिका के करीबी सहयोग का संभावित उदाहरण होगा. अमेरिका ने एफ-16 के ब्लॉक 70 संस्करण की पेशकश की है और यह तकनीक के लिहाज से यह अत्याधुनिक लड़ाकू विमान है. उन्होंने ये भी कहा कि ब्लॉक 70 लड़ाकू विमान को चुनने का मतलब है कि इसकी पूरी उत्पादन इकाई भारत चली जाएगी जो नयी दिल्ली की ‘‘मेक इन इंडिया’’ प्राथमिकता को पूरी करेगी. भारत को एफ-35 लड़ाकू विमान बेचने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अमेरिका ने अभी तक ऐसी कोई पेशकश नहीं दी है.

30 may to 1 june

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like