न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा के गढ़ में सेंधमारी से कांग्रेस उत्साहित, झाविमो ने कहा : प्रपंच कर भी मिलीं कम सीटें

26

Ranchi : गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा के परिणाम आ चुके हैं. दोनों राज्यों में भाजपा पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएगी, लेकिन कांग्रेस भाजपा की जीत से दुखी कम है और अपने अच्छे प्रदर्शन खुश ज्यादा है. गुजरात में भाजपा को कांटे की टक्कर देकर और उसके गढ़ में सेंधमारी कर कांग्रेस काफी उत्साहित है, वहीं झाविमो का भी कहना है कि कई प्रपंच करने के बाद भी भाजपा को कम सीटें मिली.

इसे भी पढ़ेंः गुजरात, हिमाचल में बीजेपी की जीत पर बोले हेमंत – जल्दी ही यह टाइटेनिक की नांव डूब जायेगी

भले जीती हो भाजपा पर प्रधानमंत्री पद के गरिमा की हुई है हारः सुखदेव भगत

कांग्रेस विधायक सुखदेव भगत ने कहा कि भले ही चुनाव में भाजपा की जीत हुई है, लेकिन प्रधानमंत्री पद के गरिमा की हार हुई है. कहा कि गुजरात में 22 सालों के बीजेपी के राज में जिन विकास के मुददे की बात होनी चाहिए थी, वहां भाजपा ने पाकिस्तान के मुद्दे उठाया. पाकिस्तान अहमद पटेल को सीएम बनाने का दांव चल रही है, राहुल मंदिर क्यों जाते हैं जैसे बकवास मुददों हावी किया गया.

इसे भी पढ़ेंः 20 दिसंबर को भाकपा माअोवादी का बिहार-झारखंड बंद, पुलिस हेडक्वार्टर ने किया नक्सल प्रभावित जिलों को अलर्ट

इलेक्शन कमीशन ईमानदार होता तो परिणाम कुछ और होते: सुबोधकांत सहाय

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने कहा कि भाजपा जीतकर भी हार गया है. भाजपा के पास साधन पैसा सबकुछ था. प्रधानमंत्री का लग्जरी भी उनके पास था. उन्होंने तो सीप्लेन तक का इस्तेमाल कर लिया. अगर इतने संसाधन हमारे पास होते और इलेक्शन कमीशन पार्शियल नहीं होता तो परिणाम कुछ और होता. जिस प्रकार राहुल का रोड शो कैंसल किया गया और वोटिंग के बाद प्रधानमंत्री ने जिस प्रकार रोड शो किया वो इलेक्शन कमीशन की विश्वसनीयता को भंग करता है.

palamu_12

इसे भी पढ़ेंः केंद्र ने आयुष चिकित्सकों की रिटायरमेंट उम्र सीमा की 65 साल, झारखंड में विभाग को नहीं है कोई फिक्र

छल, बल, धन, प्रपंच के प्रयोग के बाद भी भाजपा को कम सीटः झाविमो

झाविमो के केंद्रीय प्रवक्ता योगेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि गुजरात में फिर भाजपा सत्ता में आई, लेकिन बहुत मशक्कत के बाद सत्ता को बचाये रखने में कामयाब हुई. एक लंबे समय से गुजरात में शासन करने और गुजरात का विकास मॉडल पर इतराने, शेखी बघारने वाली भाजपा चुनाव के समय छल, बल, धन, प्रपंच का प्रयोग करने के बाद भी कम सीट लाई है, जबकि प्रधानमंत्री स्वयं गुजरात से हैं और गुजराती सेंटिमेंट का इस्तेमाल करने के बाद भी भाजपा की सीट धट जाना हार के समान है.

इसे भी पढ़ेंः ऐसी है राजधानी की पुलिसः शिकायत दर्ज कराने के लिए दो थानों का चक्कर लगाती रही छात्रा, सीनियर अफसरों ने भी नहीं उठाया फोन

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: