न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा और संघ नफरत की सियासत छोड़ें तो हम साथ देने को तैयार : जमीयत

13

News Wing
Lucknow, 13 December:
मुसलमानों के प्रमुख सामाजिक संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्‍यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने कहा है कि जमीयत या मुसलमानों का भाजपा से सिर्फ भेदभाव और फिरकापरस्‍ती को लेकर विरोध है. अगर भाजपा और राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ साम्‍प्रदायिकता और नफरत की सियासत छोड़ दें तो हम उसका साथ देने को तैयार हैं. मौलाना मदनी ने मंगलवार रात आयोजित ‘राष्‍ट्रीय एकता सम्‍मेलन’ में कहा कि जमीयत या मुसलमानों का भाजपा से कोई व्‍यक्तिगत विरोध नहीं है. भाजपा अगर अमन-ओ-इंसाफ और प्‍यार मुहब्‍बत को बढ़ावा दे और अपनी नफरत की सियासत छोड़ दे और नफरत फैलाने वालों को सजा दे तो जनता उसका साथ होगी.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांडः डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी प्रधान, अनुराग गुप्ता समेत घटनास्थल गए सभी वरीय अफसरों का बयान दर्ज करने का निर्देश

भेदभाव और फिरकापरस्‍ती को लेकर भाजपा का विरोध करती है जमीयत

उन्‍होंने कहा कि जमीयत को सत्‍ता की कोई ख्‍वाहिश नहीं है. वह सिर्फ भेदभाव और फिरकापरस्‍ती को लेकर भाजपा का विरोध करती है. भाजपा और संघ अगर भेदभाव और साम्‍प्रदायिकता की सियासत को आग लगा दें तथा प्‍यार और मुहब्‍बत को अपनाये तो हम उनका साथ देने के लिये तैयार हैं. हालांकि मौलाना मदनी ने यह भी कहा कि कुछ मुट्ठी भर लोग नफरत फैलाकर हिन्‍दुस्‍तान को आग लगाना चाहते हैं. अगर भाजपा उन्‍हें वाकई छूट दे रही है तो ज्‍यादातर अमनपसंद भारतवासी उसे 2019 के लोकसभा चुनाव में सबक सिखाएंगे.

इसे भी पढ़ें- अपने ही वार्ड से पर्षद चुनाव लड़ने की पाबंदी खत्म, डिप्टी मेयर और उपाध्यक्ष के लिए भी होंगे चुनाव, राजनीतिक पार्टियां निकाय चुनाव में दिखायेंगी दम

कत्‍ल वहीं हो रहे हैं, जहां-जहां भाजपा की हुकूमत है : अरशद मदनी

उन्‍होंने कहा कि चंद मुट्ठी भर लोग जहां चाहें किसी को कहीं भी पकड़कर कत्‍ल कर रहे हैं और कोई पूछने वाला नहीं है. ये कत्‍ल वहीं हो रहे हैं, जहां-जहां भाजपा की हुकूमत है. वे दीवाने यह समझते हैं कि हुकूमत हमारी है. हम जो चाहे कर सकते हैं. अगर वाकई इन लोगों को छूट दी जा रही है तो भाजपा को साल-डेढ़ साल के बाद इसका अंजाम भुगतना पड़ेगा. उन्‍होंने कहा कि मुल्‍क की खराब सूरतेहाल से निपटना हर हिन्‍दुस्‍तानी का फर्ज है. अगर मुल्‍क में खुदा ना खास्‍ता बरबादी आयी तो वह हिन्‍दू या मुसलमान को नहीं देखेंगी. उसका नतीजा सबको भुगतना होगा. मुट्ठी भर लोग मुल्‍क में तबाही मचाये हुए हैं. सबसे पहले अखलाक का कत्‍ल हुआ, लेकिन जिन लोगों ने उस कत्‍ल के खिलाफ अपने अवार्ड वापस किये. उनमें 99 प्रतिशत गैर-मुस्लिम थे. इसका मतलब है कि मुल्‍क के ज्‍यादातर लोग शांति चाहते हैं.

आतंकवाद के नाम पर मुस्लिम नौजवान 20-20 साल से जेलों में बंद

मदनी ने कहा कि आज आतंकवाद के नाम पर मुस्लिम नौजवान 20-20 साल से जेलों में बंद हैं. आज तक जुर्म साबित नहीं हुआ. दरअसल इसके पीछे मकसद यह साबित करना है कि इस्‍लाम अमन का धर्म नहीं बल्कि आतंकवाद का मजहब है. इस्‍लाम का इतिहास 1400 साल का है तो हिन्‍दुस्‍तान में इसका इतिहास 1300 साल का है. अगर यह मजहब आग लगाने वाला होता तो 1300 साल में तो हिन्‍दुस्‍तान का वजूद खत्‍म हो गया था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: