न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भागलपुर हिंसा :  बेटे के बचाव में उतरे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने अर्जित शाश्वत पर दर्ज प्राथमिकी को बताया कुड़े का कचरा

29

Patna : भागलपुर में सांप्रदायिक हिंसा भड़काने का आरोप लगने के बाद केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के पुत्र अर्जित शाश्वत चौबे ने आरोपों को निराधार बताते हुए सरेंडर करने से इन्कार कर दिया है. वहीं शाश्वत के पिता अश्विनी चौबे के बीचबचाव में उतर आए हैं. उन्होंने अपने बेटे पर प्राथमिकी को लेकर कहा कि प्राथमिकी कचरे का टुकड़ा है, जो क्षेत्र के भ्रष्ट अधिकारी द्वारा दर्ज किया गया है. मेरा बेटा बेकसूर है. वहीं, अर्जित शाश्वत चौबे ने कहा है कि वह भागलपुर में सांप्रदायिक हिंसा को उकसाने के आरोपों पर उनके खिलाफ जारी गिरफ्तारी वारंट के खिलाफ अग्रिम जमानत याचिका दाखिल करेंगे. 

क्यों करूं सरेंडर, गायब नहीं  हूं, कोर्ट की शरण में हूं : अर्जित शाश्वत चौबे

केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के पुत्र अर्जित शाश्वत चौबे ने सवाल उठाया कि मुझे आत्मसमर्पण क्यों करना चाहिए? मैं कहीं गायब नहीं हो गया हूं. समाज के बीच में हूं. खोजना उन्हें पड़ता है, जो गायब हो गये हों. साथ ही उन्होंने कहा कि अदालत वारंट जारी करती है. लेकिन, अदालत शरण भी देती है. एक बार जब आप अदालत जाते हैं, तो आप वही करेंगे, जो आपके लिए वहां तय किया जाता है. वहीं दूसरी ओर, उन्होंने कहा कि अगर पुलिस गिरफ्तार करने के लिए आती है, तो मैं वही करूंगा, जो वह कहेगी. मैं अग्रिम जमानत के लिए अदालत में याचिका दायर कर रहा हूं. इधर, शाश्वत चौबे ने भागलपुर के नाथनगर में हुए तनाव के दोषी पदाधिकारियों को निलंबित करने की मांग की है. युवा भाजपा नेता शाश्वत चौबे ने राजद व कांग्रेस के भी दोषी नेताओं पर कार्रवाई की मांग की. शाश्वत ने बताया कि उन्होंने इस बाबत मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, डीजीपी समेत कई पदाधिकारियों को पत्र भेजा है. उन्होंने 17 मार्च को घटित घटना की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है.

अश्विनी चौबे

इसे भी देखें- डाटा लीक कांड: बैकफुट पर कांग्रेस, गूगल प्ले स्टोर से डिलीट किया अपना ऐप और मेंबरशिप वेबसाइट

आरोपी कोई भी हो, कानून अपना काम करेगा : के.सी.त्यागी

भागलपुर हिंसा मामले पर जेडीयू धर्मसंकट की स्थिति में है क्योंकि जिसपर आरोप है, वो बीजेपी के कदावर नेता और केंद्रीय मंत्री के पुत्र हैं, लिहाजा जेडीयू सांसद के.सी.त्यागी ने संयमित भाषा का प्रयोग करते हुए कहा है कि आरोप चाहे किसी पर भी हो, कानून अपने तरीके से काम करता है. और आरोपी को कानूनी प्रक्रिया का सामना करना पड़ता है.

इसे भी देखें- देशभर में सूचना आयोग की हालत खस्ता, खाली पड़े हैं 109 आयुक्त पद, झारखंड में 11 में से 9 पद रिक्त

हाथ में तलवार लिये पटना की सड़कों पर दिखे शाश्वत चौबे, फेसबुक पर पोस्ट किया वीडियो

नाथनगर में तनाव भले ही खत्म हो गया है. लेकिन, राजनीतिक और प्रशासनिक महकमे की सरगर्मी बढ़ गयी है. राजद-कांग्रेस-भाजपा के बीच चल रहे वाक् युद्ध और पुलिस द्वारा भाजपा के युवा नेता के खिलाफ दो बार खारिज होने के बाद निकले वारंट के बावजूद शाश्वत चौबे रविवार को रामनवमी के दिन पटना की सड़कों पर जुलूस में दिखे. इसमें वे भारत माता की जयऔर जय श्री रामके नारे भी लगा रहे हैं. यह वीडियो अर्जित शाश्वत चौबे के फेसबुक पेज पर भी मौजूद है.  वहीं, भाजपा नेता शाश्वत चौबे पर कार्रवाई के सवाल एडीजी मुख्यालय एसके सिंघल ने बताया कि पुलिस को आरोपित के खिलाफ एक मामले में वारंट मिल गया है. दूसरे मामले में वारंट का इंतजार किया जा रहा है. एडीजी ने दोहराया कि पुलिस की कार्रवाई कानून के अनुसार की जा रही है.

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: