Uncategorized

ब्लू व्हेल गेम की खतरनाक जाल में फंसा गिरिडीह का युवक, खुद को खत्म करने की कोशिश की

Giridih: ब्लू व्हेल गेम को लेकर सरकार और कोर्ट के विभिन्न दिशा निर्देशों के बावजूद आज भी यह गेम युवाओं और किशोरों को अपनी गिरफ्त में लगातार ले रहा है. देश के विभिन्न राज्यों में पिछले कई महीनों में हुए विभन्न वारदातों के बाद एक बार फिर इस गेम की वजह से एक युवक डिप्रेशन में आ कर खुद को खत्म करने पर उतर आया.

ब्लू व्हेल गेम खेलने के कारण परेशान था संदीप, चल रहा था इलाज

मामला झारखंड के गिरिडीह का है. गिरिडीह निवासी जगदीश पासवान का बेटा संदीप 25 वर्ष का है. कई दिनों से वह इस गेम को खेल रहा था कई स्टेप्स पार करने के बाद जब उसे लगा कि वह इसमें बुरी तरह से फंस चुका है, तब वह इससे निकलने की कोशिश करने लगा और जब निकल नहीं पाया तो वह भारी डिप्रेशन का शिकार हो गया. इस गेम के कारण संदीप का डिप्रशन इतना बढ़ गया कि उउसे डिप्रेशन से निकलने के लिए इलाज का सहारा लेना पड़ा लेकिन इसी दौरान उसने खुद को खत्म करने के लिए भारी मात्रा में डिप्रेशन की ही एक दवा इंपेरामईन खा लिया.

इसे भी पढ़ें: गेम नहीं एक खतरनाक झांसा है ब्लू व्हेल

जब संदीप मानसिक रूप से परेशान रहने लगा तब इस गेम में फंसे होने का पता चला

भारी मात्रा में एक साथ यह दवा लेने के कारण संदीप की हालत चिंताजनक बनी हुई है. उसे बेहतर इलाज के लिए कोडरमा सदर अस्पताल से रिम्स रेफर कर दिया गया है. संदीप के पिता ने बताया कि जब संदीप मानसिक रूप से परेशान रहने लगा, तब उन्हें बेटे द्वारा ब्लू व्हेल गेम खेलने की जानकारी मिली. गेम के बारे में जानकारी मिलते ही संदीप को इलाज के लिए लाया गया लेकिन उसकी हालत दिन ब दिन बिगड़ती चल गयी. गौरतलब है कि इस गेम में रोज एक टास्क दिये जाते हैं, कुल 50 दिनों का टास्क होता है, जिसके तहत बड़ी ही चालाकी से इस गेम का एडमिन गेम खेलनेवाले के दिल दिमाग पर हावी हो जाता है और अंतिम स्थिति ऐसी होती है कि इस गेम के जाल में फंसा व्यक्ति खुद को खत्म करने की कोशिश करने लगता है.

इसे भी पढ़ें: ब्लू व्हेल चैलेंज की गिरफ्त में अब बड़े भी, 21 वर्षीय महिला जा रही थी समुद्र में डूबने

इससे पहले भी कई लोग इस गेम के जाल में फंस कर खुद को नुकसान पहुंचा चुके हैं

धनबाद के एक सीबीएसई स्कूल में चौथी क्लास में पढ़ने वाले छात्र के हांथ पर बने ब्लू व्हेल के चित्र पर उसकी टीचर की नजर पड़ी. टीचर ने फौरन इस बात की सूचना स्कूल के प्रबंधन को दिया जिसके बाद स्कूल प्रबंधन भी सकते में आ गया. हालांकि जो चित्र बना था, वह गेम का शुरुआती चरण ही था. समय रहते पता चलने पर क्लास टीचर और स्कूल प्रबंधन की सजगता से बच्चे की जान बच गई.

इसे भी पढ़ें: ‘ब्लू व्हेल’ गेम का ‘शिकार’ बना छात्र, लगायी फांसी

उड़ीसा में जानलेवा गेम ब्लू व्हेल की गिरफ्त में आये एक आईटीआई के छात्र को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. पुलिस के अनुसार असमान्य व्यवहार करनेवाला यह छात्र गेम के कारण डिप्रेशन में था.

पंचकूला में 17 वर्षीय एक किशोर ने कथित रूप से फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली. इसे संदिग्ध रूप से कुख्यात ब्लू व्हेल चौलेंज ऑनलाइन गेम से जुड़े मामले के रूप में देखा गया.

राजस्थान के झुंझुनूं जिले के बिसाऊ कस्बे की जटिया राजकीय सीनियर स्कूल के चार छात्रों के कथित रूप से ब्लू व्हेल गेम की गिरफ्त में आने का मामला सामने आया. जटिया राजकीय स्कूल के प्रधानाचार्य कमलेश कुमार तेतरवाल ने प्रार्थना सभा में छात्रों को ब्लू व्हेल गेम के नुकसान के बारे में जानकारी दी. सभा के बाद नौवीं कक्षा के एक छात्र ने अपने साथियों को ब्लू व्हेल खेलने के बारे में बताया. इसकी जानकारी प्राचार्य को लग गई. छात्र से बुलाकर पूछा तो उसने गेम खेलने की बात मान ली.

लखनउ में एक छात्र ने संदिग्ध रूप से प्रतिबंधित वेब गेम ब्लू व्हेलखेलने की वजह से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. पुलिस सूत्रों के अनुसार इंदिरा नगर क्षेत्र में रहने वाले छात्र आदित्य वर्द्धन (14) का शव उसके कमरे में दुपट्टे के सहारे लटकता पाया गया. उसके परिजन के मुताबिक वह पिछले दो सप्ताह से अपने मोबाइल पर कोई गेम खेल रहा था और उसके बाद से ही वह काफी तनाव में था. जांच के दौरान पुलिस को आदित्य के दोस्तों के जरिये मालूम हुआ कि वह ब्लू व्हेल गेम खेल रहा था.

पैरेंटस के द्वारा सही पैरेंटिंग की जरूरत

बता दें कि अबतक दुनिया भर में 150 से ज्यादा बच्चे इस गेम के कारण अपनी जान दे चुके हैं. गूगल सर्च के ट्रेंड डाटा के मुताबिक इंटरनेट पर ब्लू व्हेल को सर्च करने वाले दुनिया के टॉप 10 शहरों में 7 भारत के हैं. जबकि कोच्चि दुनिया में सबसे आगे है. साइबर क्राइम के जानकार साइबर पीस फाउंडेसन के प्रेसीडेंट विनीत कहते हैं यदि ब्लू व्हेल गेम को बंद भी कर देते हैं, तो तुरंत ही कुछ सेकेंडों में पिंक व्हेल या व्हाइट व्हेल के नाम से नया लिंक आपके सामने आ जाता है. खासतौर पर बच्चे इसके टारगेट होते हैं क्योंकि बच्चे इनोसेंट होते हैं और आसानी से इसकी गिरफत में आ जाते हैं. ऐसी स्थिति में बच्चों को सही तरीके से इसकी जानकारी दी जाने की जरूरत है. पैरेंटस मोबाइल छीन कर फेंक दें या ऐसी कोई हरकत करें जिससे बच्चे पर गलत असर हो उससे अच्छा है कि वे अपने बच्चों को लेकर पहले से ही अलर्ट रहें. पैरेंटस के द्वारा सही पैरेंटिंग की जरूरत है. ब्लू व्हेल एक चैलेंजिग गेम है जिसमें स्टेप बाइ स्टेप कई चैलेंज दिये जाते हैं और इसका लास्ट चैलेंज होता है सुसाइड करना. कुछ लोग इसे अफवाह भी मान रहे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button