न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ब्राह्मणों से जुड़े बयान पर सीएम रघुवर दास के बचाव में उतरी लोजपा, कहा- विरोधियों को नहीं पच रहा राज्य का विकास

36

Ranchi : एक ओर जहां पलामू में मुख्‍यमंत्री रघुवर दास एक बयान से ब्राह्मणों का एक समुदाय खफा है, वहीं दूसरी ओर लोक जनशक्ति पार्टी मुख्‍यमंत्री के बचाव में उतर गयी है. लोक जनशक्ति पार्टी के झारखंड प्रदेश अध्‍यक्ष बबन गुप्‍ता ने कहा है कि झारखंड के सीएम रघुवर दास ने पलामू में अपने भाषण के दौराण ब्राह्मणों के बारे में किसी भी प्रकार का अपमानजनक बातें नहीं की. उन्होंने उस क्षेत्र में फैले गरीबी एवं पिछड़ों पर चिंता जतायी थी. सीएम ने जातिगत वोट की राजनीति से ऊपर उठकर विकास की राजनीति को बढ़ावा देने का आह्वान किया. आज कुछ एक राजनीतिक लोग इसको गंदी राजनीति की शक्ल में जनता के बीच भ्रम फैला रहे हैं. जनता सब समझती है, झारखंड में विकास कौन कर रहा है, झारखंड में अभूतपूर्व विकास को देख कर विरोधियों को नहीं पच रहा है. इसलिए विरोधी जातिवाद की ओछी राजनीति पर उतर आये हैं. झारखंड में जितनी भी बहाली हुई उसमें 95% झारखंडवासियों का चयन हुआ है.

इसे भी पढ़ेंः मुख्यमंत्री के ब्राह्मण विरोधी बयान के पक्ष में उतरे सांसद निशिकांत हुए ट्रोल, सोशल मीडिया पर जमकर उड़ा मजाक

इसे भी पढ़ेंः सीएम ने कहा विपक्ष को मिर्ची लग रही है क्या, तो हेमंत ने कहा आप अधिकारियों के जाल में फंस चुके हैं, बाहर निकलें

सीएम विकास की बात करते हैं, विपक्ष समाज को तोड़ने की बात करती है

बबन गुप्‍ता ने कहा है कि सीएम रघुवर दास के स्पष्ट नीतियों से ही यह संभव हो पाया है. मुख्यमंत्री झारखंड में विकास की बात करते हैं, तो विपक्ष समाज को तोड़ने की बात करती है. यह काफी निंदनीय है. विपक्ष के पास आज कोई मुद्दा नहीं रह गया है. हर क्षेत्र में रघुवर दास के नेतृत्व में एनडीए की सरकार अभूतपूर्व सफलता प्राप्त कर रही है. जिसको जनता सर-आंखों पर बिठा रही है. आम जनता विपक्ष की दोहरी राजनीति भली-भांति समझ रही है. आने वाले समय में जनता इनको जवाब देगी.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड की जांच में तेजी आते ही बदल दिए गए सीआईडी एडीजी एमवी राव

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांडः डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी प्रधान, अनुराग गुप्ता समेत घटनास्थल गए सभी वरीय अफसरों का बयान दर्ज करने का निर्देश

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-01ः सीआईडी ने न तथ्यों की जांच की, न मृतकों के परिजन व घटना के समय पदस्थापित पुलिस अफसरों का बयान दर्ज किया

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-02ः-चौकीदार ने तौलिया में लगाया खून, डीएसपी कार्यालय में हुई हथियार की मरम्मती !

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-03- चालक एजाज की पहचान पॉकेट में मिले ड्राइविंग लाइसेंस से हुई थी, लाइसेंस की बरामदगी दिखाई ईंट-भट्ठे से

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: