Uncategorized

बोकारो में बोलीं मुख्य सचिव : राज्य में उद्योग लगाने के लिए जमीन की कमी नहीं

Bokaro : राज्य में उद्योग लगाने के लिए पर्याप्त मात्रा में पूर्व से ही काफी जमीन पड़ी हुई है. वहीं सरकारी जमीन भी काफी मात्रा में है. इस कारण राज्य में उद्योग लगाने के लिए जमीन कभी भी बाधा नहीं बन सकती है. उद्योग लगाने वालों को हर हालत में राज्य सरकार की ओर से जमीन मुहैया कराया जाएगा. उक्त बातें राज्य की मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने बोकारो में कही. मुख्य सचिव मोमेंटम झारखंड के तीसरे ग्राउंड शिरोमणि समारोह के आयोजन से पूर्व आयोजन स्थल का जायजा लेने बोकारो पहुंची थी.

इसे भी पढ़ेंः खूंटी : पुलिस की बड़ी कार्रवाई, PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप की करोड़ों की संपत्ति जब्त

मोमेंटम झारखंड राज्य के औद्योगिक विकास में नया आयाम

उन्होंने कहा कि 20 दिसंबर को आयोजित होने वाली मोमेंटम झारखंड राज्य के औद्योगिक विकास में नया इतिहास रचेगा. राज्य में उद्योग लगने की असीम संभावनाएं हैं. उद्योग के लगने से यहां की अर्थव्यवस्था काफी मजबूत होगी. पलायन करने वाले लोगों को राज्य में ही रोजगार मिलेगा. 10 महीने के अंदर यह तीसरा बड़ा आयोजन राज्य में सरकार की ओर से किया जा रहा है. इस समारोह में उद्योगों को प्रोत्साहित करने का काम भी किया जाएगा. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार औद्योगिक वातावरण पूरे राज्य में तैयार कर रही है, ताकि छोटे से लेकर बड़े उद्योग भी यहां पर लग सके. लोगों को राज्य में ही रोजगार मिल सके. राज्य को पूरे देश में विकसित राज्य के रूप में स्थापित करने की दिशा में सरकार की ओर से एक सकारात्मक प्रयास किया जा रहा है. जिसमें सभी लोगों का सहयोग भी मिल रहा हैउद्योगों के लिए हर तरह की सुविधाएं मौजूद है. उन सुविधाओं को उद्योगपतियों तक पहुंचाने के लिए सरकार कटिबद्ध है.

इसे भी पढ़ेंः पलामू: ओबरा में आपसी विवाद में जेसीबी में लगायी आग, जांच में जुटी पुलिस

ये थे मौजूद

मुक्य सचिव राजबाला वर्मा के साथ उद्योग सचिव सुनील वर्णवाल, जिले के उपायुक्त राय महिमापत रे, डीआईजी प्रभात कुमार, जिले के एसपी कार्तिक एस सहित कई जिलों के अधिकारी मौजूद थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button