न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारो : पेटरवार में करोड़ों की लागत से बना मातृ शिशु केंद्र दो वर्षों से पड़ा है बेकार, लोग हो रहे हैं परेशान

16

News wing

Bokaro 09 December : राज्य सरकार के स्वास्थ एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से पेटरवार में बनाया गया मातृ शिशु केंद्र दो वर्षों से बेकार पड़ा है. जहां पर ना तो एक भी डिलीवरी हो पायी है और ना ही किसी भी प्रसूता का इलाज ही हो पाया है. दो साल पहले भी इसी अस्पताल परिसर में पेटरवार सामुदायिक अस्पताल चलता था. लेकिन जब से प्रखंड मुख्यालय के पास नया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण हुआ है. उसके बाद से इस अस्पताल में ताला जड़ा हुआ है. वहीं मातृ शिशु गृह सुचारु रुप से कैसे चले, इसके लिए भी राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोई ठोस पहल नहीं की जा रही है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में स्वास्थ्य, कुपोषण, शिक्षा की स्थिति बदतर, पिछड़े 115 जिलों में झारखंड के 19 जिले शामिल: नीति आयोग

मातृ शिशु केंद्र करीब तीन करोड़ की लागत से बना है और बेकार पड़ा है. इस अस्पताल में 30 बेड की सुविधा भी होनी थी, ताकि जच्चा – बच्चा का सही लाज हो सके. लेकिन अब तो अस्पताल के खिड़की के सारे शीशे भी टूट चुके हैं और परिसर में गंदगी का अंबार लगा हुआ है. इसके अलावा  अस्पताल परिसर में स्वास्थ्य कर्मियों के रहने के लिए आवास का निर्माण भी कराया गया है. जिसमें चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मी रहते हैं.

लोगों को रही है परेशानी

वहीं पेटरवार के ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले मरीजों की भीड़ इस सामुदायिक स्वास्थ केंद्र परिसर में रहती थी. लेकिन जब से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र इस नए सामुदायिक स्वास्थ केंद्र में चला गया है तो उसके बाद से पूरी तरह से बेकार पड़ा हुआ है. इस बारे में सिविल सर्जन का कहना है कि भवन में ओपीडी चलता है. लेकिन जब वहां का विजिट किया गया तो यह सामने आया कि वहां कोई ओपीडी खुला ही नहीं था. जबकि अस्पताल परिसर में रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि अस्पताल दो वर्षों से बंद पड़ा है.

इसे भी पढ़ें – दारू-दारू हुई झारखंड की राजनीति- जेएमएम विधायकों को खुलवानी है अपने घर में शराब दुकान तो लिस्ट बना कर दें: बीजेपी, 12 दिसंबर को बियर लेकर जाऊंगा विधानसभा, सीएम को करूंगा गिफ्टः जेएमएम

विभाग की उपेक्षा का शिकार है अस्पताल

दूसरी ओर पेटरवार प्रखंड के बुंडू पंचायत मुखिया अजय सिंह ने बताया कि राज्य सरकार को कई बार इसके लिए पत्राचार भी किया गया. लेकिन राज्य सरकार की ओर से की पहल नहीं की गयी. जिससे सुदूर गांव से आने वाली गर्भवतियों को परेशानी होती है.

जल्द शुरू होगा अस्पताल : सिविल सर्जन

इधर जिले के सिविल सर्जन डॉ सोबान मुर्मू ने बताया कि मातृ शिशु केंद्र को सुचारु रुप से चलाने के लिए सरकार की ओर से स्वास्थ्य कर्मियों की नियुक्ति की जा रही है. ताकि वहां पर हर समय बच्चों का इलाज हो सके. साथ ही उन्होंने कहा कि सुबह में वहां पर ओपीडी की व्यवस्था की गई है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: