न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बैंकों के बड़े कर्जदारों को बचाना चाहती है सरकार, कर्ज न चुकाने वालों पर हो फौजदारी कार्रवाई: AIBEA

18

News Wing

Indore, 27 November: बैंकों के बड़े कर्जदारों पर कार्रवाई के संबंध में सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) ने मांग की है कि जान-बूझकर बैंक का कर्ज नहीं चुकाने वाले लोगों के खिलाफ फौजदारी कार्रवाई शुरू की जानी चाहिये. एआईबीईए के महासचिव सीएच वेंकटाचलम ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि “सरकार बड़े बैंक कर्जदारों को बचाना चाहती है. वह उनके खिलाफ सख्त कदम नहीं उठाना चाहती.” वेंकटाचलम ने कहा कि सरकार को सभी बैंक कर्जदारों के नामों को सार्वजनिक करना चाहिये. जान-बूझकर कर्ज न चुकाने वाले लोगों के खिलाफ फौजदारी कार्रवाई शुरू की जानी चाहिये.” उन्होंने दावा किया कि विजय माल्या सरीखे कॉरपोरेट दिग्गजों के कर्ज नहीं चुकाने के कारण देश में बैंकों की कुल गैर-निष्पादित आस्तियां (एनपीए) बढ़कर 15 लाख करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गयी हैं.

सरकारी बैंकों का विलय और निजीकरण का विचार बेहद घातक

एआईबीईए महासचिव ने सरकार द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में अगले दो साल के भीतर 2.11 लाख करोड़ रुपये की पूंजी डालने की योजना पर भी सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि इन बैंकों को सरकार से मूल धन के रूप में पांच लाख करोड़ रुपये की जरूरत है. मूल धन की कमी के चलते इन बैंकों को कर्ज बांटने और अपना कारोबार बढ़ाने में खासी मुश्किल हो रही है. वेंकटाचलम ने देश के सरकारी बैंकों के विलय और निजीकरण के विचार को “बेहद घातक” बताते हुए कहा कि इन बैंकों की सुरक्षा सरकार की जिम्मेदारी है और उसे इनका विस्तार करना चाहिये.

27 दिसंबर की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का समर्थन करेगा AIBEA

उन्होंने कहा कि बैंकिंग सुधारों के नाम पर सरकार के उठाये जा रहे कथित गलत कदमों के बारे में आम लोगों को जागरूक करने के लिये एआईबीईए अगले महीने से देशव्यापी अभियान चलायेगा. वेंकटाचलम ने आईडीबीआई बैंक में वेतन वृद्धि की मांग के समर्थन में 27 दिसंबर को बुलायी गयी राष्ट्रव्यापी हड़ताल को एआईबीईए के समर्थन की घोषणा भी की. आईडीबीआई बैंककर्मियों की वेतन वृद्धि एक नवंबर 2012 से लंबित है. उन्होंने आरोप लगाया कि जीएसटी का बैंकिंग उद्योग पर विपरीत असर पड़ रहा है और खासकर छोटे कारोबारी नयी कर प्रणाली के दायरे में आने के “डर” से बैंकिंग लेन-देन से बच रहे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: