न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

बेबेसिओसिस से दो बाघों की मौत के बाद जू प्रशासन की टूटी नींद, सीसीटीवी से जानवरों की हो रही निगरानी

46

Jamshedpur : शहर में टाटा स्टील जूलॉजिकल पार्क में दो बाघों की मौत के बाद जू प्रशासन अलर्ट हो गया है. जू में सीसीटीवी कैमरे से जानवरों पर 24 घंटे नजर रखी जा रही है. साथ ही चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डेन एलआर सिंह ने जू प्रबंधर को एक एडवाइजरी जारी की है जिसमें यह कहा गया है कि जानवरों पर लगातार नजर रखा जाए और निरंतर उनकी जांच कराई जाए.

eidbanner

इसे भी पढ़ें- मुख्यमंत्री ने झारखंड का नियम बनने के बाद बिहार के नियम की गलत व्याख्या कर भ्रष्टाचार करने के आरोपी मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी को दी क्लीन चिट

सीसीटीवी कैमरे से 24 घंटे जानवरों पर रखी जा रही नजर

एलआर सिंह की ओर से जारी एडवाइजरी के बाद से जू में सीसीटीवी कैमरे से सभी जानवरों पर 24 घंटे नजर रखी जा रही है. इनमें से बाघों पर खास तौर पर नजर रखी जा रही है. बाघों का ज्यादा ध्यान इसलिए रखा जा रहा है क्योंकि उनकी संख्या कम होती जा रही है. साथ ही पिछले दिनों दो बाघों की मौत भी हो गयी थी. गौरतलब है कि जू में एक नर बाघ है जो सफेद बाघ है, तीन मादा है जिसमें दो शावक हैं.

इसे भी पढ़ें- चार लाख का केक, 19 लाख का फूल और 2.5 करोड़ का टेंट : झारखंड की बेदाग सरकार पर अब “स्थापना दिवस घोटाले” का दाग

बाघों की मौत के बाद जांच टीम पहुंची जू

बाघों की मौत के बाद बुधवार को टाटा स्टील के वाइस प्रेसिडेंट काॅरपोरेट सर्विसेज सुनील भाष्करन जू पहुंचे. उन्होंने जू निदेशक विपुल चक्रवर्ती और चिकित्सक डॉ एम पालित से बातचीत की और बाघों के बारे में व जू के बारे में पूरी जानकारी ली. इसके अलावा सेंट्रल जू अथॉरिटी की दो सदस्यीय टीम यहां आ रही है, जो बाघों की मौत की जांच करेगी.

इसे भी पढ़ें- CBSE प्रमुख ने कहा- फिर से परीक्षा कराने का निर्णय छात्रों के हित में

बाघों के ब्लड सैंपल की होगी जांच

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

जिन बाघों की मौत हुई है उनका ब्लड सैंपल बेंगलुरु के इंस्टीट्यूट ऑफ एनिमल एंड वेटनरी साइंसेस में भेजने का निर्देश भी दिया गया है. वहीं चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डेन एलआर सिंह ने बाघों के ब्लड सैंपल को भुवनेश्वर के वेटनरी कॉलेज में भेजकर जांच कराने की बात कही है, ताकि बाघों की मौत के कारणों का पता चल सके. इधर डीएफओ शबा आलम अंसारी ने भी ब्लड सैंपल की जांच रांची वेटनरी कॉलेज में कराने की बात कही है.

इसे भी पढ़ें- अरुण शौरी ने चेताया, नरेंद्र मोदी का सत्ता पर कमजोर हो रहा नियंत्रण-शाह का मजबूत, देश को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी

जानवरों के लिए जू में की जा रही बेहतर व्यवस्था

वीपी काॅरपोरेट सर्विसेज सुनील भाष्करन ने कहा की जू में जानवरों के लिए बेहतर व्यवस्था की जा रही है. ताकि उन्हें यहां रहने में किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत ना हो. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जानवरों में बेबेसिओसिस का फैलाव रोकने के लिए जरूरी कदम उठाये जा रहे है. और फिलहाल स्थिति संतोषजनक है.

किसी अन्य जानवर में बेबेसिओसिस का फैलाव नहीं : जू डायरेक्टर

बेबेसिओसिस के फैलाव के बारे में बात करते हुए जू के डायरेक्टर विपुल चक्रवर्ती ने कहा कि जू में किसी भी दूसरे जानवर में बेबेसिओसिस का फैलाव नहीं है. उन्होंने बताया कि जानवर काफी ज्यादा सेंसेटिव होते है, इसलिए इनका खास तौर पर ध्यान रखना जरूरी है. यह गाय और भैंस की तरह नहीं होते हैं कि कभी भी इंजेक्शन लगा दिया जाये. जानवरों के स्वास्थ्य के लिए जो भी जरूरी है वो सब कदम उठाया जा रहा है. जांच के लिए उच्चस्तरीय चिकित्सकों की टीम भी आ रही है. साथ ही सेंट्रल जू ऑथोरिटी के साथ झारखंड सरकार के सहयोग से जानवरों को सुरक्षित रखा जा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: