न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बूटी बस्ती के निर्भया मामले में बोले विधायक अमित महतो- सरकार दे रही गुणाहगारों को पनाह तो कैसे मिले न्याय

72

Ranchi: झारखंड छात्र मोर्चा के जिला अध्यक्ष अनिकेत ओहदार के नेतृव में आरटीसी कॉलेज एवं रांची विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने राजभवन के पास एक दिवसीय धरना दिया. प्रदेश सरकार एवं ज़िला प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की तथा निर्भया के इंसाफ की मांग की. सिल्ली विधायक सह झारखंड छात्र मोर्चा के केन्द्रीय अध्यक्ष अमित कुमार महतो ने कहा कि यह सरकार सिर्फ गुणाहगारों को पनाह देने का काम कर रही है. सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा दे रही है, लेकिन बेटियों को न्याय और सुरक्षा नहीं दे पा रही है. विधायक ने कहा कि मैं यहां से दिल्ली तक गया, केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से भी मिला, लेकिन उन्होंने भी कहा जब तक राज्य सरकार इस पर कोई रिपोर्ट नहीं भेजती हम कुछ नहीं कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः सीएम ने कहा विपक्ष को मिर्ची लग रही है क्या, तो हेमंत ने कहा आप अधिकारियों के जाल में फंस चुके हैं, बाहर निकलें

राज्यपाल को भी सौंपा ज्ञापन

मोर्चा ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि एक वर्ष होने को आया है, लेकिन अभी तक पुलिस-प्रशासन ने किसी की गिरफ्तारी नहीं की है. न ही वर्तमान सरकार इस मामले में सकारात्मक रवैया दिखा रही है. प्रतिनिधिमंडल ने यह आग्रह किया कि जल्द से जल्द इस मामले पर संज्ञान लिया जाए. हत्यारों को पकड़ने के लिए विशेष जांच कमिटी गठित की जाए.

क्या है मामला

16 दिसम्बर 2016 को बूटी बस्ती में इंजीनियरिंग की छात्रा का रेप करने के बाद जिंदा जलाकर हत्या कर दी गयी थी. उस दिन छात्रा घर में अकेली थी, जिसका फायदा अपराधियों ने उठाया. सुबह जब आसपास के लोगों ने घर से धुआं उठते देखा. लोग घर के पास पहुंचे, लेकिन दरवाजा बाहर से बंद था. इसकी जानकारी पुलिस को दी गई. मामले को लेकर एक साल बीतने के बाद भी पुलिस अंधेरे में ही तीर चला रही है.

इसे भी पढ़ेंः सीएम के प्रेस सलाहकार अजय कुमार पर कार्रवाई, मोमेंटम झारखंड के बाद हुए एमओयू को लेकर लाया गया कार्यस्थगन प्रस्ताव

इसे भी पढ़ेंः सीएम ने कहा विपक्ष को मिर्ची लग रही है क्या, तो हेमंत ने कहा आप अधिकारियों के जाल में फंस चुके हैं, बाहर निकलें

मामले को लेकर ये है सालभर की पुलिस की कार्रवाई

– मामले को लेकर छात्रा के साथ हुई घटना को लेकर काफी विरोध प्रदर्शन किया गया.

– पुलिस अपने स्तर से पता लगाने का विफल रही.

– पुलिस ने मामले को लेकर सार्वजनिक सुचना जारी किया, लोगों से अपराधी की जानकारी देने की अपील की.

– 50 हजार ईनाम तक की घोषणा की गई थी. पुलिस ने सुचना गुप्त रखने का भी भरोसा दिया था, जो विफल रहा.

– इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री ने भी कहा था कि सफेदपोश लोगों का हाथ है. दो दिन के अंदर खुलासा हो जायेगा.

palamu_12

– मुख्यमंत्री ने डीजीपी को 48 घंटे के अंदर अपराधियों को गिरफ्तार करने की हिदायत दी थी. सीएम ने चेतावनी भरे लहजे में डीजीपी से कहा कि अगर खुलासा नहीं हुआ तो मामला सीबीआई को सौंप दिया जायेगा.

– अब मामले की जांच सीआईडी के हाथ में है, लेकिन अबतक अपराधी का पता नहीं चला है.

– सीआईडी ने जांच के लिए 17 बिन्दू को रखा. जबकि सीआईडी 500 लोगों से पुछताछ कर चुकी है.

– साक्ष्य तलाशने के लिए सीआईडी की टीम अबतक दस बार छात्रा के घर गई है. बूटी बस्ती में 400 लोगों से पुछताछ की गई है.

– छात्रा के कॉलेज में 100 लोगों से पुछताछ का गई. घटना स्थल से भी जितने साक्ष्य मिले थे वे भी पुलिस को अपराधी तक नहीं पहुंचा सकी. 

ये थे मौजूद

धरना प्रदर्शन में मुख्य रूप से केन्द्रीय उपाध्यक्ष मिन्हाज अली, विश्वविद्यालय अध्यक्ष आशुतोष वर्मा, सचिव दिनेश मुर्मू, संतोष महतो, विशाल कुमार, अजीत, शुभम, दीनबंधू, विराट, रोहित, मुकेश, शिवानी सिंह, अंजली कच्छप आदि मौजूद थे.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-01ः सीआईडी ने न तथ्यों की जांच की, न मृतकों के परिजन व घटना के समय पदस्थापित पुलिस अफसरों का बयान दर्ज किया

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-02ः-चौकीदार ने तौलिया में लगाया खून, डीएसपी कार्यालय में हुई हथियार की मरम्मती !

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-03- चालक एजाज की पहचान पॉकेट में मिले ड्राइविंग लाइसेंस से हुई थी, लाइसेंस की बरामदगी दिखाई ईंट-भट्ठे से

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: