न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बाबुल सुप्रियो को रानीगंज तनावग्रस्त इलाके में प्रवेश से रोका गया, प्राथमिकी दर्ज

47

Kolkata : केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो और पश्चिम बंगाल भाजपा के एक वरिष्ठ नेता को पुलिस ने गुरुवार को आसनसोल-रानीगंज इलाके में जाने से रोक दिया. इलाके में रामनवमी के जुलूस को लेकर शुरू हुई हिंसा के बाद स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है. सुप्रियो ने दावा किया कि उनके खिलाफ दो प्रथमिकियां दर्ज की गईं हैं जिसके बाद उन्होंने भी पुलिस के खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई है. हालांकि, पुलिस ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि इस तरह की प्राथमिकियां दर्ज की गईं हैं, या नहीं. वहीं प्रदेश भाजपा महिला मोर्चा प्रमुख लॉकेट चटर्जी को भी प्रभावित इलाकों में जाने से बुधवार को रोक दिया गया क्योंकि वहां हालात तनावपूर्ण बना हुआ है. पुलिस ने चटर्जी को भी दुर्गापुर में रोक लिया. वह भी रानीगंज जा रही थी. 

इसे भी पढ़ें- मुख्यमंत्री ने झारखंड का नियम बनने के बाद बिहार के नियम की गलत व्याख्या कर भ्रष्टाचार करने के आरोपी मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी को दी क्लीन चिट

सुप्रियो का दावा – पुलिस और उनके बीच हुई तीखी बहस

इधर सुप्रियो ने एक टीवी चैनल से बातचीत में दावा किया कि उन्हें पता चला है कि जब उन्होंने आसनसोल रानीगंज में घुसने की कोशिश की उनके और पुलिस के बीच तीखी बहस हुई, जिसके बाद उनके खिलाफ दो एफआईआर दर्ज की गई हैं. भारी उद्योग एवं लोक उपक्रम राज्य मंत्री एवं आसनसोल से सांसद सुप्रियो की कार को पश्चिम बर्धमान जिले के रेलपुर इलाके में प्रवेश से रोक दिया गया. पुलिस ने इसके लिए सुरक्षा कारणों का हवाला दिया. कुछ लोगों ने मंत्री के खिलाफ कथित रूप से नारेबाजी की और उनसे तत्काल इलाका छोड़ने की मांग की. टीवी चैनलों ने उन्हें पुलिसकर्मियों के साथ बहस करते हुए दिखाया है, जिन्होंने उनके वाहन को घेर लिया था.

कई इलाकों में लूटपाट व दुकानों को लगाया आग

इसे भी पढ़ें- चार लाख का केक, 19 लाख का फूल और 2.5 करोड़ का टेंट : झारखंड की बेदाग सरकार पर अब “स्थापना दिवस घोटाले” का दाग

स्थानीय लोगों का पुलिस पर विश्वास नहीं रह गया है : सुप्रियो

सुप्रियो ने दावा किया कि केवल केंद्रीय बलों की तैनाती के जरिये इलाके में शांति बहाल की जा सकती है और स्थानीय लोगों का पुलिस पर विश्वास नहीं रह गया है. मंत्री ने कहा कि जन प्रतिनिधि होने के नाते मुझे अपने संसदीय क्षेत्र में जाने का पूरा हक है और खासकर ऐसे समय जब लोग दिक्कत में हैं. यह मेरा कर्तव्य है. लेकिन पुलिस कह रही है कि मुझे इसकी अनुमति नहीं दी जाएगी क्योंकि इलाके में धारा 144 लागू है. मंत्री होने के नाते मैं नियमों का उल्लंघन नहीं कर सकता. सुप्रियो ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री राजनाथ सिंह को घटना की जानकारी देंगे.

इसे भी पढ़ें- CBSE प्रमुख ने कहा- फिर से परीक्षा कराने का निर्णय छात्रों के हित में

भाजपा सूबे में सांप्रदायिक सद्भाव और शांति भंग करने की कोशिश कर रही : संसदीय कार्य मंत्री

दोनों घटनाओं के बारे में पश्चिम बंगाल के संसदीय कार्य मंत्री पार्थ चटर्जी ने आरोप लगाया कि भाजपा सूबे में सांप्रदायिक सद्भाव और शांति भंग करने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि जब इलाके में पुलिस गश्त कर रही है तो वे रानीगंज क्यों जाना चाहते हैं? क्या वे पिछले दो दिनों की हिंसा से संतुष्ट नहीं हैं. तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और आसनसोल नगर निगम के महापौर जितेंद्र तिवारी ने सुप्रियो पर इलाके में शांति भंग करने का आरोप लगाया.

इसे भी पढ़ें- अरुण शौरी ने चेताया, नरेंद्र मोदी का सत्ता पर कमजोर हो रहा नियंत्रण-शाह का मजबूत, देश को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी

रामनवमी रैली को लेकर दो समूहों के बीच झड़प के बाद बढ़ी हिंसा

रानीगंज में रामनवमी की एक रैली को लेकर रविवार और सोमवार को दो समूहों के बीच हुई झड़प के बाद इलाके में इंटरनेट सेवाएं निलंबित हैं और सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगा दी गई है. पुलिस ने बताया कि बुधवार रात से इलाके में हिंसा की कोई खबर नहीं मिली है और स्थिति ‘नियंत्रण’ में है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दिल्ली से लौटने के बाद सचिवालय में उच्च-स्तरीय बैठक की. मुख्य सचिव, गृह सचिव, डीजीपी और एडीजीपी (कानून-व्यवस्था) ने बैठक में हिस्सा लिया. हालांकि ममता ने आसनसोल-रानीगंज इलाके में हिंसा को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की.

इसे भी पढ़ें-  एक अप्रैल से नहीं बढ़ेंगे बिजली के दाम, निकाय चुनाव के बाद पांच गुणा होगा टैरिफ

पुलिस पर बम से हमला, डीसीपी का हाथ उड़ा

पुलिस पर बम से हमला, डीसीपी का हाथ उड़ा
पुलिस पर बम से हमला, डीसीपी का हाथ उड़ा

पुलिसकर्मी तथा दोनों गुटों के 50 से भी अधिक व्यक्ति घायल हो गये थे. इस दंगे में पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय) अरिंदम दत्त चौधरी के हाथ बम विस्फोट में उड़ गया. जानकारी के मुताबिक पुलिस जब भीड़ को काबू करने की कोशिश कर रही थी तब उपद्रवियों ने पुलिस पर बम से हमला किया. इस दौरान एक बम डीसीपी अरिंदम दत्त चौधरी के हाथ के पास आकर फट गया, जिससे उनका हाथ उड़ गया है. हाथ का निचला हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था.

इसे भी पढ़ें- स्थापना दिवस घोटालाः वित्त विभाग की टिप्पणी को दरकिनार कर कैबिनेट ने पसंदीदा कंपनियों को 4.09 करोड़ का भुगतान का लिया फैसला

कई इलाकों में लूटपाट व दुकानों को लगाया आग

शहर में सामुदायिक हिंसा की बात फैलने पर असमाजिक तत्वों ने कई इलाकों में लूटपाट कर दुकानों मे आग लगा दिया था. इस दौरान कई लोग  घायल हो गए थे. भीड़ को काबू करने के लिए रैफ उतारा गया था. दंगे की खबर सूनते ही केंद्रीय राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो रानीगंज जाने के लिए आसनसोल से रवाना हुए थे लेकिन उन्हें रानीगंज जाने से रोक दिया गया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: