न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बाबरी विध्वंस बरसीः विहिप-बजरंग दल ने मनाया शौर्य दिवस, मुस्लिम संगठनों ने किया विरोध-प्रदर्शन

14

News Wing Ranchi, 06 December: बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर राजधानी रांची में हिंदू संगठनों और मुस्लिम संगठनों ने प्रदर्शन किया. विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने आरोग्य भवन में रजत वर्ष सह शौर्य दिवस मनाया. इस मौके पर विहिप के प्रांत संगठन मंत्री ने कहा कि 6 दिसंबर को पूरे देश में शौर्य दिवस मनाया जा रहा है. विदेशी हमलावरों ने देश में हमला कर मंदिर को तोड़कर विजय चिन्ह बनाया था. उसे हटाकर कार सेवकों ने रामलला का एक छोटा सा मंदिर बनाया था.

मंदिर निर्माण के लिए जमा किया गया है 23 करोड़ रुपया

उन्होंने कहा कि इससे पहले भी 80 बार हिन्दू समाज के द्वारा मंदिर निर्माण प्रयास किया गया,लेकिन असफलता हाथ लगी थी. 06 दिसंबर 1992 को पूरे देश से कार सेवक अयोध्या में जुटे थे और विवादित ढांचा सरयू नदी में बहा दिया. उन्होंने कहा  आज संकल्प है कि 25 साल के बाद भी हम अयोध्या में भव्य मंदिर का निर्माण करेंगे. वर्तमान समय में अयोध्या मंदिर के निर्माण के लिए 23 करोड़ रूपया जमा किया गया है. आने वाले समय में अयोध्या में भव्य मंदिर का निर्माण किया जाएगा. 

यह भी पढ़ेंः गिरिडीह: बाबरी मस्जिद विध्वंस के विरोध में लगाये गए काले झंडे, पुलिस ने हटाया और लोगों को समझाया

100 किलोमीटर का सफर पैदल तय किया था: राजेंद्र दुबे 

6 दिसंबर 1992 को याद करते हुए कार सेवा में गए राजेंद्र दुबे ने कहा की उस वक्त सरकार के द्वारा दमन की नीति अपनायी जा रही थी. बावजूद इसके पूरे देश में एक ऐसा माहौल कायम हो गया था की हजारों की संख्या में पूरे देश से कार सेवक अयोध्या में जुटे थे. लोगों में सरकार के प्रति आक्रोश था, कार सेवक विवादित ढांचे को गिराने के लिए 100 किलोमीटर का सफर पैदल ही तय किया था. 

यह भी पढ़ेंः वाम दलों ने मनाया काला दिवस, संघ और भाजपा पर किया हमला, लिब्राहन आयोग रिपोर्ट आउट करने की मांग

सैनिक मार्केट के पास मुस्लिम संगठनों का विरोध-प्रदर्शन       

उधर बाबरी मस्जिद के गिराए जाने के  25 वें वर्षगांठ पर रांची मुस्लिम संगठनों ने सैनिक मार्केट के पास विरोध प्रदर्शन किया. भीमराव अम्बेडकर की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि यह दिन इतिहास में काला दिन है. देशभर में समाजिक-राजनीतिक दल छह दिसंबर को काला दिवस के रुप में मना रहे हैं. वहीं इस मौके पर दर्जनों समाजिक कार्यकर्ताओं ने काली पट्टी बांधकर विरोध प्रर्दशन किया. मौके पर मौजूद नदीम खान ने कहा कि बाबरी मस्जिद विध्वंस के दोषियों को सजा दी जाए. देश में हो रही साम्प्रादायिक घटनों और असमाजिक तत्वों के खिलाफ लगाम लगे.

यह भी पढ़ेंः हजारीबागः बाबरी विध्वंस की बरसी पर राजद और सीपीआई का धरना

आस्था के बुनियाद पर नहीं होगा इंसाफ

तनवीर अहमद और नदीम इकबाल ने छह दिसंबर को काला इतिहास बताते हुए कहा कि मस्जिद गिराकर देश की गंगा जमुनी संस्कृति से खिलवाड़ किया गया. ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. मुसलमानों को देश की न्यापालिका पर संपूर्ण विश्वास है कि अयोध्या के मामले का इंसाफ आस्था के बुनियाद पर नहीं होगा. मो जाहिद ने जाति-धर्म के नाप पर हो रहे हमले और सम्प्रादायिक प्रवृति पर रोक लगाने की मांग की. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: