NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बकोरिया कांड को लेकर सदन में हंगामा, कार्यवाही 12:45 तक स्थगित

36

Ranchi: विधान सभा सत्र के तीसरे दिन सदन की कार्यवाही 12:45 तक स्थगित कर दी गई है. सदन की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई विपक्षी पार्टियों का हंगामा शुरू हो गया. सबसे पहले प्रदीप यादव ने बकोरिया कांड का मामला उठाया और कहा की सभी अखबारों ने इस कांड को प्रमुखता से आज गुरुवार को लिया है. जांच कर रहे अधिकारियों का तबादला कर दिया जा रहा है. जो की जांच में सच को छुपाने के लिए किया जा रहा है. बकोरिया कांड को लेकर थाना प्रभारी हरीश पाठक के बयान के बाद यह साबित हो चुका है कि एनकाउंटर फर्जी था.

इसे भी पढ़ें- सरकार रंगमंच बनाने में व्यस्त, सबसे ज्यादा खर्च कर रहा है पीआरडी विभाग, सरकार कर रही पैसों का बंदरबांट : हेमंत सोरेन

बकोरिया कांड रहा मुख्य मुद्दा

बकोरिया कांड की गूंज सदन के बाहर भी सुनाई दी. सदन की कार्यवाही स्थगित होते ही प्रदेश के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सुखदेव भगत ने बकोरिया कांड पर सीबीआई से जांच कराने की मांग की. उन्होंने कहा कि बाकोरिया कांड में सरकार की संलिप्तता है, इसी वजह से जो अधिकारी सही दिशा में जांच कर रहे थे उनका तबादला कर दिया गया. उसके बाद प्रदीप यादव ने भी बकोरिया कांड की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है. उन्होंने कहा कि एमवी राव और दूसरे अधिकारियों का तबादला इसलिए किया गया क्योंकि वे लोग सही दिशा में जांच कर रहे थे. अगर बकोरिया कांड की सीबीआई से जांच हो तो सभी वरीय पदाधिकारी जेल की सलाखों के पीछे जाएंगे.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांडः डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी प्रधान, अनुराग गुप्ता समेत घटनास्थल गए सभी वरीय अफसरों का बयान दर्ज करने का निर्देश

क्या खुलासा किया है थाना प्रभारी ने

पलामू के चर्चित बकोरिया कांड में अहम गवाह और वहां के तत्कालीन सदर थाना प्रभारी हरीश पाठक ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए सीआईडी को लिखित बयान दिया है. बयान में थाना प्रभारी ने कहा है कि घटनास्थल पर पहुंचने के आधे घंटे के बाद पहले से वहां मौजूद सतबरवा ओपी प्रभारी मो. रुस्तम मुझे बुलाने आये, और कहा कि एसपी साहब बुला रहे हैं. जब मैं वहां पहुंचा तो एसपी साहब कन्हैया मयूर पटेल ने मुझसे कहा कि जल्दी से इंक्वेस्ट तैयार कर सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दो. साथ ही तुम मामले के वादी बन जाओ. और दिखा देना कि तुम भी फायरिंग में शामिल थे. जिसके बाद मुझे यह पूरा मामला संदिग्ध लगने लगा. इसलिए मैंने एसपी साहब से कहा कि जब मैंने मुठभेड़ किया ही नहीं, तो मैं वादी कैसे बन सकता हूं. अगर कल जब इस मामले की जांच होगी तो मेरे मोबाइल फोन का लोकेशन देखा जाएगा, जो कि सदर थाना दिखेगा. तब मैं फंस सकता हूं. इस पर एसपी साहब ने कहा कि 15 दिन में केस का सुपरविजन हो जायेगा. कोई दिक्कत नहीं होगी. इसके बावजूद भी जब मैंने इनकार किया, तो वे नाराज हो गये और मुझे डांटा. बोले तुमको सस्पेंड कर देंगे. बाद में पता चला कि सतबरवा ओपी प्रभारी मो. रुस्तम इस कांड का वादी बन गया था.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांड की जांच में तेजी आते ही बदल दिए गए सीआईडी एडीजी एमवी राव

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया संगठन को बैन करने की मांग

बीजेपी विधायक अनंत ओझा ने साहिबगंज समेत पाकुड़ जिले में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया संगठन का नाम लेते हुए इस पर तुरंत बैन लगाने की मांग की. उन्होंने कहा कि यह संगठन विभाजनकारी नीतियों पर काम कर रही है, इस पर तुरंत बैन लगना चाहिए. इसका काउंटर करते हुए कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने कहा कि आखिर ये पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया क्या है. ऐसा लगता है कि इस संगठन को RSS वालों ने ही बनाया है और जब भी सदन की कार्रवाई चलती है तो इसकी चर्चा करते हैं और लोगों को खासकर अल्पसंख्यक समुदाय को डराने की कोशिश करते हैं.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांड: मृतक के परिजन को 20 लाख देकर केस मैनेज करने की कोशिश

बांग्लादेश को नहीं देने देंगे बिजली : इरफान अंसारी

इरफान अंसारी ने यह भी कहा कि यह लोग बांग्लादेशी घुसपैठियों की बात करते हैं. लेकिन अडानी को बुलाकर बिजली बनाकर बांग्लादेश को देने की बात करते हैं. भाजपा कहती है कि वह बांग्लादेश के राष्ट्रपति का स्वागत करेगी, ऐसा हम लोग कतई नहीं होने देंगे. हम विरोध करेंगे और बांग्लादेश को हमारे ओर से बिजली नहीं दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें- विधानसभा सत्र का तीसरा दिन, कार्यवाही से पहले हंगामा, विपक्षी पार्टियों ने भूमि अधिग्रहण बिल और राशन कार्ड का उठाया मुद्दा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

nilaai_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.