Uncategorized

बकोरिया कांडः प्राथमिकी में 11 बजे हुई मुठभेड़, तब के लातेहार एसपी अजय लिंडा ने अपनी गवाही में कहा रात 2.30 बजे तक एसपी पलामू को नहीं था पता

Ranchi: आठ जून 2015 की रात पलामू के सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया के जिस कथित मुठभेड़ में नक्सली अनुराग और 11  निर्दोष लोग मारे गए थे, उस मामले में लातेहार के तत्कालीन एसपी अजय लिंडा ने अपनी गवाही दर्ज करा दी है. अजय लिंडा ने अपने लिखित बयान में कहा है कि आठ जून की रात 2.30 बजे तक पलामू एसपी को इस बात की कोई सूचना नहीं थी कि वहां पर मुठभेड़ हुआ था. उल्लेखनीय है कि घटना को लेकर दर्ज प्राथमिकी में मुठभेड़ का वक्त रात 11.00 बजे का बताया गया है. प्राथमिकी में इस बात का भी जिक्र है कि मुठभेड़ की सूचना तुरंत पलामू के एसपी कन्हैया मयूर पटेल को दी गयी थी. 

Ranchi: आठ जून 2015 की रात पलामू के सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया के जिस कथित मुठभेड़ में नक्सली अनुराग और 11  निर्दोष लोग मारे गए थे, उस मामले में लातेहार के तत्कालीन एसपी अजय लिंडा ने अपनी गवाही दर्ज करा दी है. अजय लिंडा ने अपने लिखित बयान में कहा है कि आठ जून की रात 2.30 बजे तक पलामू एसपी को इस बात की कोई सूचना नहीं थी कि वहां पर मुठभेड़ हुआ था. उल्लेखनीय है कि घटना को लेकर दर्ज प्राथमिकी में मुठभेड़ का वक्त रात 11.00 बजे का बताया गया है. प्राथमिकी में इस बात का भी जिक्र है कि मुठभेड़ की सूचना तुरंत पलामू के एसपी कन्हैया मयूर पटेल को दी गयी थी. 

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांडः 30 माह बाद हुई नक्सली बताकर मारे गए तीन नाबालिग बच्चों की पहचान

ram janam hospital
Catalyst IAS

अजय लिंडा ने अपने बयान में कहा है कि आठ जून की रात फोन ड्यूटी ने उन्हें जगाया था और मुख्यालय में बात करने के लिए कहा था. इसके कुछ देर बाद पलामू रेंज के तत्कालीन डीआइजी हेमंत सोरेन ने उन्हें फोन करके पूछा था कि मनिका थाना क्षेत्र में कोई मुठभेड़ हुआ है. तब उन्होंने मनिका थाना के प्रभारी से पूछा था. थाना प्रभारी ने किसी तरह का मुठभेड़ होने से इंकार किया था. बाद में सीआऱपीएफ के तत्कालीन आइजी आरके मिश्रा ने उन्हें फोन करके बताया कि मनिका थाना क्षेत्र से सटे पलामू जिला में पुलिस व नक्सलियों के बीत मुठभेड़ हुआ है. इस सूचना पर जब वह पुलिस फोर्स के साथ पहले मनिका और फिर बकोरिया में पहुंचे, तो वहां पर एक जगह पर पलामू एसपी कन्हैया मयूर पटेल बैठे थे. रात के करीब 2.30 बजे जब अजय लिंडा ने पलामू एसपी श्री पटेल से मुठभेड़ के बारे में पूछा, तो श्री पटेल ने किसी मुठभेड़ की जानकारी होने से इंकार किया. यहां उल्लेखनीय है कि तत्कालीन डीआइजी ने भी अपने बयान में कहा है कि आठ जून की रात डीजीपी डीके पांडेय ने उन्हें मुठभेड़ के बारे में पूछा था. जब उन्होंने पलामू एसपी और सतबरवा थाना प्रभारी से पूछा था, तब दोनों ने मुठभेड़ होने की बात से इंकार किया था. 

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें –Hydrogel क्या है? यह जलसंकट से कैसे बचा सकता है.

मुठभेड़ जैसी गंभीर मामले के आरोपी की लगातार जिलों में पोस्टिंग

बकोरिया में हुए कथित मुठभेड़, जिसमें 11 निर्दोष लोग मारे गए, उसमें एक आरोपी पलामू के तत्कालीन एसपी कन्हैया मयूर पटेल हैं. उन पर सरकार  और पुलिस मुख्यालय की कृपा अब भी भी बनी हुई है. पलामू के बाद उनका तबादला दुमका जिला किया गया. लंबे समय तक दुमका में एसपी रहने के बाद पांच फरवरी को सरकार ने उनका तबादला चाईबासा जिला में किया है. आयरन ओर खादानों के कारण चाईबासा जिला पुलिस और माइनिंग विभाग के अफसरोंं के लिए झारखंड का मलाईदार जिला माना जाता है.

इसे भी पढ़ेंः सीआइडी ने कोर्ट को झूठ कहा है कि इंस्पेक्टर हरीश पाठक ने  NHRC को क्या बयान दिया, जानकारी नहीं

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-11 : जब्त हथियार से फायरिंग कर सार्जेंट मेजर ने मुठभेड़ का साक्ष्य बनाया, फिर जांच के लिए एफएसएल भेजा

इसे भी पढ़ें : उग्रवादी गोपाल ने JJMP के जिस पप्पू लोहरा दस्ता पर बकोरिया कांड को अंजाम देने की बात कही थी, उसी दस्ते का गुडडू यादव लातेहार में मारा गया

इसे भी पढ़ेंः जेजेएमपी ने मारा था नक्सली अनुराग व 11 निर्दोष लोगों को, पुलिस का एक आदमी भी था साथ ! (देखें वीडियो)

 

इसे भी पढ़ेंः डीजीपी डीके पांडेय ने एडीजी एमवी राव से कहा था कोर्ट के आदेश की परवाह मत करो !

इसे भी पढ़ें : बकोरिया कांड का सच-01ः सीआईडी ने न तथ्यों की जांच की, न मृतकों के परिजन व घटना के समय पदस्थापित पुलिस अफसरों का बयान दर्ज किया

इसे भी पढ़ें : बकोरिया कांड का सच-02ः-चौकीदार ने तौलिया में लगाया खून, डीएसपी कार्यालय में हुई हथियार की मरम्मती !

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-03- चालक एजाज की पहचान पॉकेट में मिले ड्राइविंग लाइसेंस से हुई थी, लाइसेंस की बरामदगी दिखाई ईंट-भट्ठे से

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-04-मारे गये 12 लोगों में दो नाबालिग और आठ के नक्सली होने का रिकॉर्ड नहीं

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड- हाई कोर्ट के आदेश पर हेमंत टोप्पो व दारोगा हरीश पाठक का बयान दर्ज

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड-सीआईडी को दिए बयान में ग्रामीणों ने कहा, कोई मुठभेड़ नहीं हुआ, जेजेएमपी ने सभी को मारा

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-05- स्कॉर्पियो के शीशा पर गोली किधर से लगी यह पता न चले, इसलिए शीशा तोड़ दिया

इसे भी पढ़ेः बकोरिया कांड का सच-06- जांच हुए बिना डीजीपी ने बांटे लाखों रुपये नकद इनाम, जवानों को दिल्ली ले जाकर गृह मंत्री से मिलवाया

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-07ः ढ़ाई साल में भी सीआइडी नहीं कर सकी चार मृतकों की पहचान

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-08: जेजेएमपी ने मारा था नक्सली अनुराग व 11 निर्दोष लोगों को, पुलिस का एक आदमी भी था साथ ! (देखें वीडियो)

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button