न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बंगाल में हिन्दू और मुसलमानों के बीच कोई अंतर नहीं: ममता

8

News Wing

Konxa, 12 December: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि उनकी सरकार राज्य में किसी को भी हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच मतभेद पैदा नहीं करने देंगी. उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की इस बात के लिए निंदा की कि वह उनकी पार्टी को बदनाम करने के लिए ‘‘झूठा प्रचार’’ कर रही है.

राजस्थान में हमारे राज्य के एक व्यक्ति को जिंदा जला दिया गया 

पिछले सप्ताह राजस्थान के एक श्रमिक की हत्या की पृष्ठभूमि में बनर्जी की यह प्रतिक्रिया आई है. बनर्जी ने यहां एक जनसभा में कहा कि राजस्थान में हमारे राज्य के एक व्यक्ति को जिंदा जला दिया गया था. यह कब से चल रहा होगा? मैं नहीं जानती कि क्या वह मुस्लिम था या हिन्दू. पश्चिम बंगाल में हम हिन्दुओं तथा मुसलमानों के बीच और सिखों तथा ईसाइयों के बीच किसी को भी अंतर पैदा नहीं करने देंगे. हम सभी को अपने परिवार के सदस्य की तरह समझते हैं.’’ मुख्यमंत्री ने भाजपा की राज्य इकाई के प्रमुख दिलीप घोष पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग यह सवाल उठा रहे थे कि बंगाल के लोग (रोजगार के लिए) अन्य राज्यों में क्यों जायेंगे. घोष ने हाल में कहा था कि पश्चिम बंगाल के लोग राज्य की तृणमूल कांग्रेस सरकार में अन्य राज्यों में जा रहे हैं क्योंकि सरकार राज्य में रोजगार के अवसर पैदा करने में विफल रही है.

यह भी पढ़ें: पाक विवाद पर मनमोहन सिंह का पलटवार, कहा- माफी मांगे मोदी

silk_park

अन्य राज्यों के लोगों के लिए बंगाल आना सामान्य बात

मुख्यमंत्री ने कहा कि अन्य राज्यों के लोगों के लिए बंगाल आना सामान्य बात है. हम राजस्थान के अपने भाइयों और बहनों को बंगाल छोड़कर जाने के लिए कैसे कह सकते है? तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने उनकी पार्टी को बदनाम करने के लिए झूठा प्रचार करने का प्रयास करने के लिए भाजपा की आलोचना की. बनर्जी ने अपनी पार्टी के बीरभूम जिले के प्रमुख अनुब्रत मंडल को ‘‘अपमानजनक भाषा’’ का इस्तेमाल नहीं करने की चेतावनी दी. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ‘‘राजनीतिक और प्रशासनिक रूप से’’ भाजपा के साथ लड़ाई लड़ेगी.
 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: