Uncategorized

पोस्टकार्ड का खूबसूरत सफर, पूरे किये 148 साल

News Wing
New Delhi, 1 October: आज तेजी से भागती दौड़ती जिंदगी में संदेशों ने भी रफ्तार पकड़ ली है. ईमेल, एसएमएस, टि्वटर, व्हाट्सएप और फेसबुक के आने के बाद चुटकी बजाते ही आप किसी को भी अपना संदेश भेज सकते हैं लेकिन एक वक्त था जब इत्मिनान से बैठकर अपने शब्दों को अहसासों के धागों में पिरोकर पोस्टकार्ड से उन्हें अपने प्रियजनों के पास भेजा जाता था और ना जाने कितने घरों में बेसब्री से पोस्टकार्ड का इंतजार होता था.

पोस्टकार्डों की इस खूबसूरत दुनिया को आज 148 साल हो गए हैं. दुनिया में सबसे पहली बार एक अक्तूबर 1869 में ऑस्ट्रिया में पोस्टकार्ड की पहली प्रति जारी किये जाने का वर्णन मिलता है.

एक अक्तूबर 1869 में जारी की गई पोस्टकार्ड की पहली प्रति

ram janam hospital
Catalyst IAS

वेबसाइट www.old-prague.com पर दी गई जानकारी के अनुसार, पोस्टकार्ड का विचार सबसे पहले ऑस्ट्रियाई प्रतिनिधि कोल्बेंस्टीनर के दिमाग में आया था जिन्होंने इसके बारे में वीनर न्योस्टॉ में सैन्य अकादमी में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर डॉ. एमैनुएल हर्मेन को बताया. उन्हें यह विचार काफी आकर्षक लगा और उन्होंने 26 जनवरी 1869 को एक अखबार में इसके बारे में लेख लिखा. ऑस्ट्रिया के डाक मंत्रालय ने इस विचार पर बहुत तेजी से काम किया और पोस्टकार्ड की पहली प्रति एक अक्तूबर 1869 में जारी की गई। यहीं से पोस्टकार्ड के सफर की शुरुआत हुई.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

पीले रंग का था पहला पोस्टकार्ड

दुनिया का यह पहला पोस्टकार्ड पीले रंग का था जिसका आकार 122 मिलीमीटर लंबा और 85 मिलीमीटर चौड़ा था. इसके एक तरफ पता लिखने के लिए जगह छोड़ी गई थी जबकि दूसरी तरफ संदेश लिखने के लिए खाली जगह छोड़ी गई. ऑस्ट्रिया-हंगरी में पहले तीन महीने के दौरान करीब तीन लाख पोस्टकार्ड बिक गए. ऑस्ट्रिया-हंगरी में पोस्टकार्ड की तेजी से बढ़ती लोकप्रियता के चलते अन्य देशों ने भी पोस्टकार्ड को अपनाया. इंग्लैंड में तो पहले ही दिन 5,75,000 लाख पोस्टकार्ड बिक गए.

भारत का पहला पोस्टकार्ड 1879 में जारी

भारत का पहला पोस्टकार्ड 1879 में जारी किया गया। भारत के पहले पोस्टकार्ड की कीमत 3 पैसे रखी गई थी. देश का पहला पोस्टकार्ड हल्के भूरे रंग में छपा था. इस कार्ड पर ‘ईस्ट इण्डिया पोस्टकार्ड’ छपा था. बीच में ग्रेट ब्रिटेन का राजचिह्न मुद्रित था और ऊपर की तरफ दाएं कोने मे लाल-भूरे रंग में छपी ताज पहने साम्राज्ञी विक्टोरिया की मुखाकृति थी. वक्त के साथ-साथ पोस्टकार्ड में कई तब्दीलियां हुई.

भारतीय डाक की वेबसाइट पर तीन तरह के पोस्टकार्ड

भारतीय डाक की वेबसाइट पर तीन तरह के पोस्टकार्ड है. एक सामान्य पोस्टकार्ड है, दूसरा प्रिंटेड पोस्टकार्ड और तीसरा मेघदूत पोस्टकार्ड. इन तीनों पोस्टकार्ड की लंबाई 14 सेंटीमीटर और चौड़ाई 9 सेंटीमीटर होती है. मौजूदा समय में पोस्टकार्ड का न्यूनतम मूल्य 50 पैसे है.

सबसे खूबसूरत माध्यम

आज इंटरनेट की तेजी से बदलती दुनिया में पोस्टकार्ड का चलन कम हो गया है और यह अपनी अंतिम सांसें गिन रहा है लेकिन इस बात में कोई शक नहीं है कि अंदाज़-ए-बयां का यह सबसे खूबसूरत माध्यम है. दूर दराज के इलाकों में आज भी पोस्टकार्ड की प्रासंगिकता बनी हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button