न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीडीएस दुकानों पर मिलेंगे घी, दाल, नूडल्स, बिस्कुट और मोमबत्ती, कोई भी कर सकता है खरीदारी

138

NEWS WING

Ranchi, 29 November: आपके मोहल्ले का जन वितरण प्रणाली दुकान (पीडीएस) हमेशा से कुछ खास लोगों के लिए काम का रहा है. लेकिन आने वाले दिनों में ये दुकान आपके लिए भी खास होने वाला है. अब जरूरी नहीं है कि वही उस दुकान पर जाएंगे जो बीपीएल कार्डधारी हों. अब कोई भी दुकान पर जाकर खरीदारी कर सकता है. झारखंड सरकार की तरफ से राजस्थान के तर्ज पर हर जिले के 25 पीडीएस दुकानों को डेवलप किया जा रहा है. इन दुकानों में नॉन पीडीएस आइटम भी बिकेंगे.

एजेंसी पीडीएस दुकानों को देगी सामान, जल्द ही होगा टेंडर

सरकार की तरफ से एक एजेंसी का चयन होगा. जो चुने गए पीडीएस दुकानों में सामान उपलब्ध कराएगी. वो बाजार से सामान उठाकर सीधा पीडीएस दुकानों तक सामान पहुंचाने का काम करेगी. इससे बीच के बिचौलिए की मुनाफाखोरी रोकी जा सकेगी. ऐसे में कम कीमत पर एजेंसी दुकानों को सामान उपलब्ध करा पाएगी. जिससे ग्राहकों को कम कीमत पर सामान उपलब्ध हो पाएगा. मीडिया से बात करते हुए खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने जानकारी दी कि सरकार की तरफ से सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली गयी हैं. जल्द ही टेंडर होगा. इसके बाद उन पीडीएस दुकानों का चयन कर लिया जाएगा जिसमें नॉन पीडीएस आइटम्स बेचे जा सकेंगे. इन पीडीएस दुकानों का नाम पंडित दीन दयाल लोक वस्तु भंडार होगा.

कौन से नॉन पीडीएस सामान बिकेंगे पीडीएस दुकानों पर

खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने बताया कि मंत्रालय ने यह तय कर लिया है कि कौन से नॉन-पीडीएस सामान पीडीएस दुकानों पर बिकेंगे. जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि अब पीडीएस दुकानों पर खाद्य तेल, मोटा अनाज, दाल, मेवा, नूडल्स, बिस्कुट, मोमबत्ती, चिप्स, चायपत्ती, कॉस्मेटिक सामग्री, नहाने का साबुन, कपड़ा धोने का साबुन, डिटर्जेंट पाउडर, टेलकम पाउडर, हर्बल शैंपू, टूथपेस्ट, सूजी, मैदा, साबूदाना, गुड़, मिश्री, सॉस, अचार, शहद, पापड़, चूड़ा, टूथ ब्रश, टंग क्लीनर, सत्तू, शेविंग सामग्रियां, स्टेशनरी सामग्री, चप्पल-जूता, फिनाइल, टॉयलेट क्लीनर, अगरबत्ती, माचिस-लाइटर, कंघी, बल्ब, बेसन, सेनेटरी नैपकिन, चॉकलेट-टॉफी, झाड़ू, बर्तन धोने का साबुन, मसाला, दालमोठ, मिल्क पाउडर, बेबी फूड और पोस्तो बिकेंगे.   

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: