न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएम ने नदियों को जोड़ने की वकालत की, चेताया- दुनिया की 17 प्रतिशत आबादी भारत में, जल केवल चार प्रतिशत 

55

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश भर की नदियों को आपस में जोड़ने का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि इस कदम से अधिक जल वाले क्षेत्रों तथा जल की कमी से जूझने वाले क्षेत्रों के बीच असंतुलन को समाप्त करने में सहायता मिल सकती है. मोदी ने स्मार्ट इंडिया हैकेथॉन के दौरान एक छात्र के सवाल के जवाब में कहा कि दुनिया की 17 प्रतिशत आबादी भारत में है, जबकि देश के पास जल का केवल चार प्रतिशत है. उन्होंने कहा कि, हमारी आबादी के लिहाज से पानी सीमित है. साथ ही  कुछ इलाके ऐसे हैं जहां बाढ़ आती है. कई जगह नदियां सूखी पड़ी हैं. अगर इन्हें आपस में जोड़ दिया जाये तो पानी की समस्या हल हो सकती है. 

इसे भी पढ़ें:स्थापना दिवस घोटालाः कैबिनेट को पता ही नहीं कि पहले से ही रांची प्रशासन ने तय कर ली थी दर, आयोजन के लिए सिर्फ ऊर्जा विभाग ने ही कराया था टेंडर

सरकार अकेले बदलाव नहीं ला सकती, जनता की भागीदारी जरूरी

पीएम ने कहा कि नदियों को जोड़ना सरकार की परिकल्पना है और एक दिन यह हकीकत बनेगी. इससे पहले उन्होंने अलग-अलग जगहों से जुड़े एक लाख प्रतिभागियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए कहा कि किसी के भी पास दुनियाभर का ज्ञान नहीं होता. प्रधानमंत्री ने कहा, यह सरकार पर भी लागू होता है. सरकारें यह सोच कर सबसे बड़ी गलती करती हैं कि वे अकेले बदलाव ला सकती हैं.  जबकि बदलाव लाता है भागीदारीपूर्ण शासन.  उन्होंने कहा कि सभी समस्याओं का मूल जानना जरूरी है और उन्हें हल करने के लिए अलग तरह से सोचने की जरूरत है. उनका मानना है कि नवोन्मेष महज एक शब्द भर नहीं है. नवोन्मेष एक सतत प्रक्रिया है. सवाल करना नवोन्मेष का अहम पहलू है. इस क्रम में मोदी ने कहा कि आईपीपीपी, इनोवेट, पेटेंट, प्रोड्यूस और प्रॉस्पर ही आने वाले दिनों में नवोन्मेष को संचालित करेंगी. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबु और ट्विट पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: