न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाक विवाद पर मनमोहन सिंह का पलटवार, कहा- माफी मांगे मोदी

15

News Wing

New Delhi, 12 December: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गुजरात के चुनाव में ‘‘पाकिस्तान के साथ मिलकर साजिश’’ की टिप्पणी पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार को तीखा पलटवार करते हुए कहा कि वह ‘‘आपत्तिजनक उदाहरण’’ स्थापित कर रहे हैं तथा उन्हें राष्ट्र से माफी मांगनी चाहिए.

हार को सामने देख बौखलाहट में असत्य एवं अफवाहों का सहारा ले रहे प्रधानमंत्री

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक बयान में कहा कि गुजरात में हार को सामने देख बौखलाहट में असत्य एवं अफवाहों का सहारा ले रहे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आचरण व शब्दों से मुझे अत्यंत पीड़ा एवं क्षोभ है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री हताशा में अपशब्दों का सहारा लेकर और ‘‘हर झूठे तिनके को पकड़कर अपनी चुनावी नैया को पार कराने का विफल प्रयास कर रहे हैं.’’ उन्होंने कहा कि यह खेदजनक और दुर्भाग्यपूर्ण है कि मोदीजी पूर्व प्रधानमंत्री और सेना अध्यक्ष सहित सभी संस्थागत पदों को बदनाम करने की कोशिश में एक आपत्तिजनक उदाहरण स्थापित कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान ने भारत से कहा, अपनी घरेलू राजनीति में हमें ना घसीटें

पाकिस्तान राज्य के विधानसभा चुनावों को प्रभावित करने का प्रयास कर रहा है: मोदी

’’ प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को गुजरात में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए सुझाव दिया कि पाकिस्तान राज्य के विधानसभा चुनावों को प्रभावित करने का प्रयास कर रहा है. उन्होंने दावा कि कुछ पाकिस्तानी अधिकारी एवं मनमोहन की कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के घर छह दिसंबर को बैठक हुई. इसके एक दिन बाद ही अय्यर ने मोदी को अपनी एक टिप्पणी में ‘नीच आदमी’ कहा था. इस बारे में अपनी स्थिति स्पष्ट करते हुए और प्रधानमंत्री मोदी के दावों को खारिज करते हुए मनमोहन ने कहा कि श्री मणिशंकर अय्यर द्वारा दिये गये रात्रिभोज पर मैंने गुजरात चुनाव के बारे में न तो किसी व्यक्ति से चर्चा की और न ही गुजरात का मुद्दा किसी तरह से चर्चा में आया.

पूर्व विदेश मंत्री महमूद कसूरी के सम्मान में दिया गया था रात्रि भोज 

चर्चा केवल भारत पाक संबंधों तक सीमित रही.’’ मोदी ने जिस बैठक का उल्लेख किया है दरअसल वह अय्यर द्वारा भारत आये पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री महमूद कसूरी के सम्मान में दिया गया रात्रि भोज था. मनमोहन ने कहा कि उनके एवं पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के अलावा अय्यर द्वारा कसूरी के सम्मान में दिये गये रात्रिभोज में पाकिस्तान के उच्चायुक्त, नटवर सिंह, के एस वाजपेयी, अजय शुक्ला, शरद सब्बरवाल, जनरल दीपक कपूर, टीसीए राघवन, सतीन्द्र के लाम्बा, एम के भद्रकुमार, सी आर गरेखान, प्रेमशंकर झा, सलमान हैदर एवं राहुल सिंह मौजूद थे.

न तो कांग्रेस पार्टी और न ही मुझे राष्ट्रभक्ति पर ऐसे प्रधानमंत्री या एक ऐसी पार्टी से उपदेश चाहिए

उन्होंने कहा कि इनमें से किसी पर भी देशद्रोह का इल्जाम लगाना सरासर झूठ एवं अधर्म होगा. पूर्व राजनयिक लाम्बा एवं पूर्व राजनयिक गरेखान ने कहा कि उस रात्रिभोज में भारत पाक संबंधों पर आम चर्चा हुई थी. गरेखान ने एक समाचार चैनल से कहा कि इसमें किसी भी प्रकार की राजनीति पर चर्चा नहीं हुई. पूर्व सेना प्रमुख जनरल कपूर के हवाले से भी कहा गया कि इस रात्रि भोज में गुजरात चुनाव पर बिल्कुल चर्चा नहीं हुई. मनमोहन ने कहा, ‘‘न तो कांग्रेस पार्टी और न ही मुझे राष्ट्रभक्ति पर ऐसे प्रधानमंत्री या एक ऐसी पार्टी से उपदेश चाहिए, जिनका उग्रवाद से लड़ने का रिकार्ड ढुलमुल रहा है.

माफी मांगें प्रधानमंत्री: आनंद शर्मा

मैं श्री नरेन्द्र मोदी को याद दिलाना चाहता हूं कि वे उधमपुर एवं गुरदासपुर के आतंकवादी हमलों के बावजूद बिन बुलाये पाकिस्तान गये. उन्होंने प्रधानमंत्री से सवाल किया कि क्या वे देश को बताएंगे कि किन कारणों से उन्होंने पाकिस्तान में रचे गये पठानकोट हमले के बाद पाकिस्तान की बदनाम आईएसआई को सुरक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण पठानकोट एयरबेस पर जांच के लिए आमंत्रित किया था. इस बीच, कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने भी प्रधानमंत्री पर ऐसे बयान देकर राजनीतिक विमर्श को ‘‘अस्वीकार्य निम्न’’ स्तर तक लाने का आरोप लगाया जिससे उनके पद की गरिमा को ठेस पहुंचती है. शर्मा ने प्रधानमंत्री से माफी मांगने की मांग की.

क्या कोई राजनीतिक पार्टी चुनाव जीतने के लिए किसी भी सीमा तक जा सकती है?: पी चिदंबरम

पूर्व गृह मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने भी इसी मुद्दे पर ट्वीट कर कहा कि पिछले कुछ दिनों में विशेषकर रविवार को गुजरात में भाजपा का अभियान अजीबो-गरीब स्थिति से परे निकल गया. क्या कोई राजनीतिक पार्टी चुनाव जीतने के लिए किसी भी सीमा तक जा सकती है?’’
 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: