न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकिस्तान के पूर्व मंत्री कसूरी ने कहा मणिशंकर अय्यर के घर डिनर में ‘गुजरात’ शब्द तक का जिक्र नहीं

64

Lahore : पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद महमूद कसूरी ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उन्हें भारतीय राजनीति में बिना वजह घसीटे जाने पर नाराजगी जताई और कहा कि नयी दिल्ली में एक निजी रात्रिभोज में किसी ने ‘गुजरात’ शब्द तक नहीं बोला.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान के बयान पर भड़के रविशंकर प्रसाद, कहा- हमें नसीहत की जरूरत नहीं

मणिशंकर अय्यर की मेजबानी में पिछले सप्ताह रात्रिभोज में शामिल हुए थे महमूद कसूरी 

नयी दिल्ली में कांग्रेस के निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर की मेजबानी में पिछले सप्ताह रात्रिभोज में शामिल कसूरी का नाम विवाद में आया है, क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पाकिस्तान गुजरात चुनावों को प्रभावित करने का प्रयास कर रहा है. गुजरात के पालनपुर में इस सप्ताह एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने दावा किया कि कुछ पाकिस्तानी अधिकारियों और मनमोहन सिंह ने छह दिसंबर को रात्रिभोज पर अय्यर के घर पर मुलाकात की थी. पीटीआई से विशेष बातचीत में कसूरी ने भारतीय राजनीति में बिना वजह ‘‘घसीटे जाने’’ पर नाराजगी जताई.

यह भी पढ़ें: पाक विवाद पर मनमोहन सिंह का पलटवार, कहा- माफी मांगे मोदी

मैं आश्चर्यचकित और दुखी हूं कि मेरा नाम भारत की अंदरूनी राजनीति में घसीटा जा रहा है

कसूरी ने कहा कि मैं आपको बताता हूं कि भारत या पाकिस्तान की आंतरिक राजनीति के बारे में कोई चर्चा नहीं हुई. यहां तक कि चर्चा के दौरान किसी भी व्यक्ति ने ‘गुजरात’ शब्द तक नहीं बोला.’’ उन्होंने कहा कि मैं आश्चर्यचकित और दुखी हूं कि मेरा नाम भारत की अंदरूनी राजनीति में घसीटा जा रहा है. आरोपों की प्रकृति को लेकर और ऐसा लगता है कि पाकिस्तान विरोधी नारेबाजी से भारत में शायद अब भी वोट हासिल किये जा सकते हैं.’’ यह पूछे जाने पर कि मोदी ने गुजरात चुनावों में पाकिस्तान की दखलअंदाजी का आरोप क्यों लगाया, कसूरी ने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है क्योंकि भारत एक परिपक्व लोकतंत्र है. वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान में हमारे चुनावी अभियानों के दौरान, भारत का कभी जिक्र नहीं होता.’’ रात्रिभोज में शामिल होने वाले मेहमानों के बारे में बताते हुए कसूरी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री सिंह, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व मंत्री के नटवर सिंह, नयी दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहेल महसूद, इस्लामाबाद में भारत के कुछ पूर्व उच्चायुक्त, रक्षा विशेषज्ञ और चर्चित पत्रकार भी मौजूद थे.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान ने भारत से कहा, अपनी घरेलू राजनीति में हमें ना घसीटें

पाकिस्तानी खुफिया अधिकारी की मौजूदगी के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है 

उन्होंने कहा कि सोहेल महमूद को इसलिए आमंत्रित किया गया क्योंकि रात्रिभोज पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री के लिए आयोजित किया गया था.’’ कसूरी ने बैठक में किसी पूर्व पाकिस्तानी खुफिया अधिकारी की मौजूदगी के बारे में जानकारी होने से इंकार किया. उन्होंने कहा कि मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है.’’ उन्होंने कहा कि उनके मोदी की पार्टी भाजपा के नेताओं से भी संबंध हैं और उन्होंने लालकृष्ण आडवाणी की पाकिस्तान यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

यह भी पढ़ें: शिवसेना का मोदी पर हमला, कहा : गुजरात चुनाव जीतने के लिए पाकिस्तान को घसीटना एक ‘‘नापाक’’ कोशिश

मेरे निमंत्रण पर आडवाणी पाकिस्तान में कटासराज मंदिर गये थे

कसूरी ने कहा, ‘‘मेरे निमंत्रण पर आडवाणी पाकिस्तान में कटासराज मंदिर गये थे. मीडिया में यह बात कहा जाना कि मेरे केवल कांग्रेसी नेताओं से संबंध हैं, गलत है.’’ उन्होंने अय्यर को ‘‘कैंब्रिज के दिनों का पुराना दोस्त’’ बताया और कहा कि रात्रिभोज में ‘‘गणमान्य लोगों’’ की उपस्थिति का कारण ‘‘शांति प्रक्रिया में उनका शामिल होना’’ है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: