Uncategorized

पलामू : सरकारी नौकरी में रहकर उठा रहे थे खाद्य सुरक्षा का लाभ,  सात धराये,  वेतन से होगी रिकवरी

Daltonganj :  पलामू जिले में साधन संपन्‍न लोगों ने भी फर्जीवाड़ा कर खाद्य सुरक्षा कानून के तहत राशन कार्ड बनवा लिये हैं. ऐसे लोग गरीबों का हक मार रहे हैं.   इस वजह से कई जरूरतमंद इसके लाभ से वंचित हैं. उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गयी है.  जिले के उपायुक्त अमित कुमार के आदेश पर गुरुवार को जिला खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी अलबर्ट विलुंग ने कार्डधारियों की जांच की. इस दौरान उन्होंने सात लोगों को चिन्हित किया,  जो हैं तो सरकारी नौकरी में, लेकिन खाद्य सुरक्षा कानून के तहत लाभ उठाते रहे हैं. जिन लोगों को आज चिन्हित किया गया,  उनमें हरिहर रजक (पिता-रामदेव बैठा), विनोद उरांव (पिता-धनेश्वर उरांव), ललन रजक (पिता धनेश्वर रजक), के नाम शामिल हैं. ये तीनों पुलिस विभाग में कार्यरत हैं. इसके अलावा अमित कुमार (पिता-विलास राम), विंदा देवी (पति रामसुंदर राम) और भूख नारायण सिंह (पिता-राजकुमार सिंह) सरकारी शिक्षक हैं, जबकि मंजू देवी (पति-गोविंद राम) सरकारी नौकारी में है. 

इसेे  भी  पढ़ें  :  पलामू : हलका कर्मचारी के फर्जी हस्ताक्षर बनाकर अनुदानित ट्रैक्टर लेने वाला गिरफ्तार

साधन-संपन्‍न राशन कार्ड सरेंडर कर दें  : खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी

श्री विलुंग ने दोहराया कि जिन साधन-संपन्‍न लोगों के पास राशन कार्ड हैं,  वे उसे सरेंडर कर दें. अन्यथा पकड़े जाने पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी और राशन का बाजार मूल्य ऐसे लोगों के वेतन से वसूला जायेगा. श्री विलुंग ने बताया कि आज जिन सरकारी कर्मियों को खाद्य सुरक्षा कानून के तहत लाभ लेते हुए पकड़ा गया है, उनके वेतन से राशन मूल्य की रिकवरी की जायेगी. इसके लिए कोषागार को पत्र लिखा जा रहा है. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button