न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू समेत 35 नक्सल प्रभावित जिलों को केन्द्र ने दी विशेष आर्थिक सहायता

12

NEWSWING

Daltonganj, 11 December : केन्द्र सरकार ने पलामू, लातेहार और गढ़वा समेत देश के 35 अति नक्सल प्रभावित जिलों के लिए विशेष आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने का फैसला किया है. इसके लिए स्पेशल सेंट्रल असिस्टेंस (एससीए) नाम से योजना तैयार की गयी है. इस योजना में राज्य के पलामू, गढ़वा, लातेहार, रांची, गिरिडीह, हजारीबाग, खूंटी, सिंहभूम, दुमका, चतरा, लोहरदगा, रामगढ़ और गुमला को शामिल किया गया है. 

इसे भी पढ़ें : बकोरिया कांड का सच-06ः जांच हुए बिना डीजीपी ने बांटे लाखों रुपये नकद इनाम, जवानों को दिल्ली ले जाकर गृह मंत्री से मिलवाया

3000 करोड़ रूपये खर्च करेगी सरकार

इस योजना के तहत अतिनक्सल प्रभावित 35 जिलों के लिए अगले तीन वर्षों में 3000 करोड़ रूपये खर्च किये जायेंगे. अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक यह योजना वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक के लिए तैयार की गयी है. इसके तहत प्रत्येक वर्ष 1000 करोड़ रूपये खर्च होंगे. प्रत्येक जिले में 28.57 करोड़ रूपये की लागत से योजनाएं संचालित होंगी. इसके तहत आधारभूत संसाधनों और सुविधाओं का विस्तार किया जायेगा.

 

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड- हाई कोर्ट के आदेश पर हेमंत टोप्पो व दारोगा हरीश पाठक का बयान दर्ज

स्कूल, आंगनबाड़ी, स्वास्थ्य, पेयजल आदि की होगी व्यवस्था

केन्द्र सरकार की  इस राशि से मुख्यतः स्कूल भवन, आंगनबाड़ी केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, पेयजलापूर्ति, ग्रामीण सड़क, स्कूलों में बेंच-डेस्क आदि की व्यवस्था की जायेगी. केन्द्र सरकार की इस योजना से पलामू जैसे नक्सलग्रस्त इलाकों को विशेष राहत मिलेगी. इससे सुरक्षा और विकास साथ-साथ चलाने की अवधारणा को बल मिलेगा. केन्द्र के इस राहत पैकेज से पलामू पुलिस बेहद उत्साहित है. 

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड-सीआईडी को दिए बयान में ग्रामीणों ने कहा, कोई मुठभेड़ नहीं हुआ, जेजेएमपी ने सभी को मारा

एससीए नक्सलवाद के खिलाफ बड़ा हथियार

जिले के एसपी इन्द्रजीत महथा आईएपी की तर्ज पर शुरू की गयी एससीए योजना से बेहद खुश हैं. उनका कहना है कि पलामू जैसे नक्सल प्रभावित इलाकों के लिए यह योजना बड़ा हथियार साबित होगी. उन्होंने कहा कि बड़ी योजनाओं के शुरू होने में कभी-कभी काफी देर हो जाती है. ऐसे में इस मद की राशि से छोटी-छोटी योजनाएं संचालित करने में सहुलियत होगी.

श्री माहथा ने केन्द्र सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया है. उन्होंने कहा कि पिछले दिनों कन्द्रीय गृहमंत्रालय ने देश के 35 अतिनक्सल प्रभावित जिलों के पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की थी. बैठक के दौरान इंटीग्रेटेड डेवलपमेंट सेंटर और आईएपी की तर्ज पर नक्सल प्रभावित इलाकों के लिए विशेष योजना शुरू करने का कांसेप्ट दिया गया था. जिसे सरकार ने स्वीकार कर लिया है.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-05- स्कॉर्पियो के शीशा पर गोली किधर से लगी यह पता न चले, इसलिए शीशा तोड़ दिया

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: