न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

पलामू में 35 विद्यालयों का विलय, विरोध में मुखर हुई पारा शिक्षकों की आवाज

87

Daltonganj : पलामू के उपायुक्त अमित कुमार के कार्यालय में जिला प्रारंभिक शिक्षा समिति की बैठक आयोजित की गयी. बैठक में नवसृजित प्राथमिक विद्यालय और कुछ अन्य सरकारी विद्यालय, जहां विद्यार्थियों की संख्या कम है; उन्हें मर्ज करने पर विचार किया गया. जिले में कुल 135 विद्यालयों को मर्ज किया जाना है, जिसमें आज 35 विद्यालयों को मर्ज किया गया.

eidbanner

कौन-कौन विद्यालय हुए मर्ज 

मर्ज किये गये विद्यालयों में डालटनगंज प्रखंड में सात, पांकी में छह, नवडीहा में आठ, सतबरवा में चार, नावा में पांच, चैनपुर और विश्रामपुर में दो-दो एवं मनातू में एक प्राथमिक विद्यालय को मर्ज किया गया है. उपायुक्त ने बैठक में प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि सरकार के गाइडलाईन के अनुसार प्रखंड साक्षरता समिति की बैठक में अनुमोदन कराकर पुनः सूची को जिला कार्यालय में भेजें, ताकि उन 101 विद्यालयों को दूसरे विद्यालयों से मर्ज किया जा सके. उपायुक्त ने कहा कि जिले में वैसे विद्यालयों को मर्ज किया जा रहा है, जहां विद्यार्थियों की संख्या नहीं के बराबर है.

इसे भी पढ़ें- कोयला माफिया व अफीम कारोबारियोंं से मिले हुए हैं चतरा के कुछ कनीय पुलिस अफसर, जल्द होगा तबादला

बैठक में ये रहे शामिल

बैठक में हुसैनाबाद के विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता, सांसद प्रतिनिधि विजय ओझा, स्थानीय विधायक आलोक चौरसिया के प्रतिनिधि भीष्म चौरसिया, प्रभारी जिला शिक्षा अधीक्षक ब्रजमोहन राम, शिक्षक प्रतिनिधि के रूप में अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष सुधीर कुमार दुबे के अलावा जिले के सभी विधायकों के प्रतिनिधि उपस्थित थे.

पारा शिक्षकों ने किया विद्यालय विलय का विरोध

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

विद्यालय विलय को लेकर प्रारंभिक शिक्षा समिति की जहां एक तरफ डीसी के कार्यालय में बैठक चल रही थी, वहीं बाहर एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा से जुड़े पारा शिक्षक विलय के विरोध में प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी कर रहे थे. पारा शिक्षकों की शिकायत थी कि स्कूलों को मर्ज करने में संबंधित कई प्रखण्ड शिक्षा समितियों द्वारा भेदभाव व अनियमितता बरती गयी है. पारा शिक्षकों ने विद्यालय विलय की प्रक्रिया का विरोध किया है.

इसे भी पढ़ें- पलामू : भारत बंद के दौरान तोड़फोड़ करने वालों पर गिरी गाज, अध्यक्ष-उपाध्यक्ष प्रत्याशी सहित 107 पर प्राथमिकी

शिक्षा सें वंचित करने की साजिश !

मोर्चा के राज्य इकाई के सदस्य सिंटू सिंह, ने कहा कि विद्यालय विलय का प्रस्ताव गरीब बच्चों को शिक्षा सें वंचित करने की साजिश है. सरकार के तुगलकी फरमान से छोटे-छोटे बच्चे शिक्षा से वंचित होंगे. साक्षरता दर में कमी आयेगी. उन्होंने कहा कि पारा शिक्षक और रसोइया को रोजगार से वंचित करने के सरकारी प्रयास को कामयाब नहीं होने देंगे. मौके पर सांसद, विधायकों के प्रतिनिधियों ने आश्वस्त किया कि विद्यालय मापडंड के विरूद्ध विलय नहीं होगा. मौके पर मिथिलेश उपाध्याय, कांति देवी, अनुराग सिंह, महेश मेहता, विनय मांझी, मुकेश कुमार, दीपक कुमार चंद्रवंशी, अरविंद विश्वकर्मा, कृष्ण कुमार मिश्र, संजय पांडेय, गिरिवर प्रजापति सहित काफी संख्या में पारा शिक्षक मौजूद थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: