न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : मुंशी हत्याकांड का पुलिस ने किया उद्भेदन, हथियार के साथ चार अपराधी गिरफ्तार

260

Daltonganj : नक्सल प्रभावित हरिहरगंज के हलका गांव में गत 21 मार्च को बतरे नदी पर पुल निर्माण कार्य में लगे मुंशी गोविंद चंद्रवंशी की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है. जिले के पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महथा ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर कहा कि यह पूर्णतः आपराधिक घटना थी. उन्होंने बताया कि घटना में शामिल चार अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. उनके पास से हत्या में प्रयुक्त हथियार और अन्य सामग्री बरामद कर ली गयी है.

इस हत्याकांड के उद्भेदन के लिए पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर एक विशेष टीम का गठन किया गया था. इस टीम का नेतृत्व छत्तरपुर के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कर रहे थे. टीम में अन्य लोगों के अलावा प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षक विमलेश कुमार त्रिपाठी, हरिहरगंज के थाना प्रभारी वंशनारायण सिंह और पुलिस अधीक्षक कार्यालय की तकनीकी शाखा के कर्मी शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – पलामू : एसीबी ने मुखिया को 15 हजार रुपये घूस लेते रंगेहाथ दबोचा

हत्याकांड में पुल निर्माण कंपनी में कार्य कर रहे एक अन्य मुंशी की संलिप्तता सामने आयी

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस हत्याकांड के प्रारंभिक अनुसंधान में इसी पुल में कार्य कर रहे एक अन्य मुंशी विनोद यादव (जगदीशपुर, हरिहरगंज थाना निवासी) की संलिप्तता के साक्ष्य प्राप्त हुए. इस आधार पर विनोद यादव से पूछताछ की गयी तो उसने इस घटना में शामिल होने की बात स्वीकार की. इसके बाद उसके स्वीकारोक्ति बयान के आधार पर इस घटना में शामिल अन्य अपराधकर्मी प्रमोद यादव, वीरेन्द्र पासवान और रंजन ठाकुर (तीनों हरिहरगंज निवासी) को गिरफ्तार किया गया. गिरफ्तार अपराधियों के पास से .315 बोर का एक देसी कट्टा, तीन जिंदा कारतूस और दो मोबाईल फोन बरामद किए गए. सभी अपराधकर्मियों ने घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार की. उन्होंने इस घटना में शामिल अन्य दो अपराधियों के भी नाम बताये हैं, जिनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.

इसे भी पढ़ें – लातेहार : पुलिस वाहन पलटने से एक दर्जन जवान घायल, दो रिम्स रेफर

अपराधियों ने लेवी के लिए ठेकेदार पर बनाया था दबाव, नहीं मिलने पर मुंशी की कर दी हत्या

पुलिस अधीक्षक श्री महथा ने बताया कि अपराधकर्मियों ने लेवी के लिए ठेकेदार पर दबाव बनाया था, लेकिन जब लेवी की राशि नहीं मिली तो इन लोगों ने मुंशी गोविंद चंद्रवंशी की हत्या कर दी. उन्होंने बताया कि नक्सल प्रभावित क्षेत्र रहने के कारण इस क्षेत्र में नक्सलियों द्वारा लेवी वसूली की परंपरा रही है. हाल के दिनों में पुलिस के द्वारा नक्सलियों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई की गयी, जिसके कारण इनका प्रभाव काफी सीमित हुआ है. इसी का फायदा उठाकर अपराधियों द्वारा लेवी मांगे जाने का गोरख धंधा शुरू किया गया है. पुलिस अधीक्षक ने दावा किया कि इस क्षेत्र में नक्सलियों व अपराधियों को किसी भी हालत में पनपने नहीं दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – विकास तिवारी गैंग के 40 लोगों की हत्या करने वाले हैं श्रीवास्तव गिरोह के अपराधी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: