न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू पुलिस ने किया चार घंटे में डकैती कांड का उद्भेदन, चार डकैत गिरफ्तार

30

Daltonganj : डकैती की वारदात के चार घंटों के भीतर पुलिस ने चार अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने टीम बना कर छापामारी की और चार डकैतों को धर दबोचा. वहीं, उनका सरगनाह भागने में सफल हो गया. पुलिस का दावा है कि बहुत जल्द वह भी पुलिस की गिरफ्त में होगा. शुक्रवार को जिले के एसपी इंद्रजीत महथा ने प्रेस कांफ्रेंस कर सारी जानकारी दी.

इसे भी पढ़ेंः मुख्यमंत्री के ब्राह्मण विरोधी बयान के पक्ष में उतरे सांसद निशिकांत हुए ट्रोल, सोशल मीडिया पर जमकर उड़ा मजाक

इसे भी पढ़ेंः सीएम ने कहा विपक्ष को मिर्ची लग रही है क्या, तो हेमंत ने कहा आप अधिकारियों के जाल में फंस चुके हैं, बाहर निकलें

हथियार के बल पर अपराधियों ने लूटे पैसे

एसपी ने बताया कि गुरुवार की रात करीब 8:30 बजे उनके आवासीय कार्यालय में निमिया (शहर थाना) का एक दुकानदार राजकुमार गुप्ता बदहवास होकर आया. उसने जानकारी दी कि उसकी सिमेंट-छड़ की दुकान सह आवास में करीब शाम 7:45 बजे पांच अपराधी बलपूर्व दाखिल हुए. उनमें से दो के हाथ में पिस्तौल थी. पिस्तौल की नोक पर एक अपराधी ने राजकुमार गुप्ता की जेब में रखे बिक्री के 50 हजार रूपये लूट लिए, और फरार हो गये. भुक्तभोगी द्वारा हल्ला करने पर आस-पड़ोस के लोग दौड़े लेकिन अपराधी भागने में सफल रहे. इसी क्रम में एक अपराधी का मोबाईल गिर गया.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-07ः ढ़ाई साल में भी सीआइडी नहीं कर सकी चार मृतकों की पहचान

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड की जांच में तेजी आते ही बदल दिए गए सीआईडी एडीजी एमवी राव

डीएसपी के नेतृत्व में टीम का हुआ गठन

दुकानदार के बयान के बाद एसपी ने अविलंब डीएसपी मुख्यालय द्वितीय प्रेमनाथ के नेतृत्व में एक टीम गठित की और अपराधियों की धर-पकड़ के लिए रवाना कर दिया. इस टीम में पुलिस निरीक्षक-सह थाना प्रभारी तरूण कुमार, अवर निरीक्षक श्याम नंदन सिंह, सदर थाना प्रभारी ममता कुमारी, सअनि मंतुष्ट महतो, (टी.ओ.पी-1 प्रभारी) टीओपी-3 के प्रभारी भुपेन्द्र सिंह और टाईगर बल के जवान शामिल थे. छापामारी दल ने अपराधियों के मोबाईल में लगे सिम के आधार पर अभियान चलाते हुए मनोज ठाकुर और नुरेन आलम को धर दबोचा.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-02ः-चौकीदार ने तौलिया में लगाया खून, डीएसपी कार्यालय में हुई हथियार की मरम्मती !

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-03- चालक एजाज की पहचान पॉकेट में मिले ड्राइविंग लाइसेंस से हुई थी, लाइसेंस की बरामदगी दिखाई ईंट-भट्ठे से

अवैध देसी पिस्तौल, गोली, मोबाइल और बाइक बरामद

इनके पास से एक अवैध देसी पिस्तौल, .315 बोर की जिंदा गोली, एक सैमसंग का मोबाईल, एक कालेरंग की ग्लैमर बाइक बरामद की गयी है. पकड़े गए अभियुक्तों ने स्वीकार किया कि वे अपने अन्य तीन साथियों के साथ इस लूट कांड में शामिल थे. इनकी निशानदेही पर राहुल कुमार चौधरी, राकेश कुमार को क्रमशः निमिया और बैरिया से गिरफ्तार किया गया. राहुल के पास से नुरेन आलम का सैमसंग मोबाईल बरामद किया गया. इस कांड का सूत्रधार पांडू के कजरूकला निवासी मुन्ना सिंह फरार हो गया. पकड़े गए अपराधियों ने बताया कि लूट के 50 हजार रूपये मुन्ना सिंह के पास है. अपराधी मुन्ना सिंह, नक्सली बिनु सिंह का पुत्र है. उसकी अपराधिक पृष्टभूमि रही है. अन्य पकड़े गए अपराधियों के पारिवारिक पृष्टभूमि की जानकारी एकत्रित की जा रही है.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांडः डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी प्रधान, अनुराग गुप्ता समेत घटनास्थल गए सभी वरीय अफसरों का बयान दर्ज करने का निर्देश

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-01ः सीआईडी ने न तथ्यों की जांच की, न मृतकों के परिजन व घटना के समय पदस्थापित पुलिस अफसरों का बयान दर्ज किया

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: