न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : नीलाम्बर-पीताम्बर विश्वविद्यालय परिवार ने स्टीफन हॉकिंग को दी श्रद्धांजलि

44

Daltonganj : व्हील चेयर पर बैठेबैठे ब्रह्माण्ड का रहस्य सुलझाने वाले महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग की स्मृति में गुरुवार को जीएलए कॉलेज के कक्ष संख्या तीन में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता नीलाम्बर-पीताम्बर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो (डॉ) एसएन सिंह ने की और संचालन युवा साहित्यकार डॉ कुमार वीरेन्द्र ने किया. श्रद्धांजलि सभा शुरू होते ही भौतिक विज्ञान के सहायक प्रोफेसर डॉ आरके झा ने स्टीफन हॉकिंग के जीवन पर प्रकाश डाला.

सभा के अध्यक्ष कुलपति डॉ एसएन सिंह ने महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग को श्रद्धांजलि देते हुए उनके सिद्धान्तों, अवधारणाओं और योगदानों पर विस्तृत प्रकाश डाला. कुलपति ने कहा कि आठ जनवरी 1942 को जन्मे हॉकिंग ने 14 मार्च को कैम्ब्रिज में आखिरी सांसें ली और हमसे जुदा हो गए, लेकिन उनके विचार और सिद्धान्त हमारे लिए प्रेरणाश्रोत है. दर्शनशास्त्र आदि को लेकर भले ही उन्होंने कुछ विवादास्पद टिप्पणियां की थीं, लेकिन ब्लैक होल, क्वाण्टम फिजिक्स, आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस, बिग बैंग सापेक्षता, ऑटोमेशन आदि के संबंध में उनके सिद्धांत काफी महत्वपूर्ण है. अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम, द यूनिवर्स इन ए नटशेल, द ग्रैंड डिजाइन आदि पुस्तकों की विश्व भर में लोकप्रियता है.

इसे भी पढ़ें – तत्कालीन भवन निर्माण विभाग की प्रधान सचिव राजबाला वर्मा ने टेंडर मैनेज करने वाले इंजीनियरों को दिया संरक्षण, सरयू राय ने जांच के लिए सीएम को लिखी चिट्ठी

इसे भी पढ़ें – रांची : पार्ट वन की परीक्षा में आया सिलेबस से बाहर का प्रश्न , विरोध में 20 हजार परीक्षार्थियों ने जमा कर दी खाली आंसर शीट

स्टीफन हॉकिंग के निधन से बौद्धिक जगत को अपूरणीय क्षति हुई

सामाजिक सरोकारों को तवज्जो देने वाले और धरती की रक्षा के लिए चिंतित रहने वाले इस महान वैज्ञानिक ने दिव्यांगता को अवसर और चुनौती के तौर पर लेकर दुनिया भर में संघर्ष का एक नया अध्याय लिखा. उनके निधन से बौद्धिक जगत को अपूरणीय क्षति हुई है. नीलाम्बर- पीताम्बर विश्वविद्यालय के शिक्षक, छात्र-छात्राओं, कर्मचारियों और पदाधिकारियों की ओर से भी इस महान आत्मा को श्रद्धांजलि दी गयी. सभा में उपस्थित लोगों ने दो मिनट का मौन रखा.

इसे भी पढ़ें –  पुलिस के हत्थे चढ़े 4 साइबर अपराधी, फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को लगाते थे चूना  

इसे भी पढ़ें – चारा घोटाला : दुमका कोषागार से तीन करोड़ ग्यारह लाख की फर्जी निकासी मामले में फैसला टला, 16 को आ सकता है

इसे भी पढ़ें – कुख्यात राकेश भुइयां दस्ते का सफाया, अत्याधुनिक हथियार सहित शिकंजे में चार नक्सली

श्रद्धांजलि‍ कार्यक्रम में ये लोग हुये शामिल

सभा में जीएलए कॉलेज के प्राचार्य डॉ आईजे खलखो, साइंस डीन डॉ एसपी सिन्हा, डॉ महेंद्र राम, डॉ एएस उपाध्याय, डॉ एनके तिवारी, डॉ श्रवण कुमार, प्रो रामानुज शर्मा, डॉ रवि शंकर, डॉ एसके मिश्रा, डॉ राजेन्द्र सिंह, डॉ धर्मेन्द्र कुमार सिंह, डॉ एके यादव, प्रो संजीव कुमार सिंह, डॉ जे बग्गा, डॉ सुनीता कुमारी, डॉ मंजू सिंह, प्रो ऋचा सिंह, डॉ दिलीप कुमार, प्रो भीम राम, प्रो राघवेन्द्र कुमार सिंह, डॉ शिव पूजन सिंह, डॉ विजय पाण्डेय, राजीव रंजन श्रीवास्तव, अरुण तिवारी, धर्मेन्द्र कुमार रवि, घनश्याम कुमार सहित अन्य शिक्षक, कर्मचारी और विद्यार्थी बड़ी संख्या में उपस्थित थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: