न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : नक्सली बंद का दिखा व्यापक असर,  नहीं चले लंबी दूरी के वाहन

132

Daltonganj : पलामू जिले के छत्तरपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत मलंगा पहाड़ पर पिछले दिनों मुठभेड़ में पांच साथियों के मारे जाने के विरोध में मंगलवार को प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी का पलामू प्रमंडल बंद का ग्रामीण क्षेत्रों में व्यापक असर देखा गया. नक्सलियों के भय से इलाके की लगभग दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रहे. सड़क पर वाहन नहीं चलने से यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा. डालटनगंज-रांची और डालटनगंज-औरंगाबाद एनएच 39 और 98 पर लंबी दूरी की यात्री बसों का परिचालन पूरी तरह ठप रहा. छोटे-मोटे यात्री वाहन चलते नजर आए, लेकिन उनकी दूरी भी काफी कम रही. सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा. जिले के छत्तरपुर अनुमंडल क्षेत्र में बंद का खासा असर देखा गया. एनएच 98 के किनारे स्थित दुकानें बंद रही. हरिहरगंज इलाके में नक्सली बंद का व्यापक असर देखा गया. बाजार क्षेत्र की दुकानें करीब-करीब बंद रही. 

इसे भी पढ़ें – NEWSWING EXCLUSIVE: नौ लाख कंबलों में सखी मंडलों ने बनाया सिर्फ 1.80 लाख कंबल, एक दिन में चार लाख से अधिक कंबल बनाने का बना डाला रिकॉर्ड, जानकारी के बाद भी चुप रहा झारक्राफ्ट

इसे भी पढ़ें – NEWSWING EXCLUSIVE: झारखंड की बेदाग सरकार में हुआ 18 करोड़ का कंबल घोटाला, न सखी मंडल ने कंबल बनाये, न ही महिलाओं को रोजगार मिला

सरहुल से मिला बंद को समर्थन

सरहुल की सरकारी छुट्टी होने के कारण नक्सलियों के बंद को समर्थन मिला. सरकारी कार्यालय और बैंकों के बंद रहने के कारण ग्रामीणों का प्रखंड और जिला मुख्यालय में आना-जाना काफी कम हुआ.

इसे भी पढ़ें – आशा लकड़ा होंगी बीजेपी की मेयर कैंडिडेट, संजीव विजयवर्गीय होंगे उपमहापौर के उम्मीदवार: बीजेपी ने जारी की सूची

डालटनगंज का बाजार भी हुआ प्रभावित

नक्सल बंद के कारण डालटनगंज बाजार भी प्रभावित हुआ. बाजार क्षेत्र की दुकानें तो खुली रही, लेकिन वहां ग्राहक नहीं थे. बाजार में चहल-पहल भी देखने को नहीं मिली. नक्सली बंद को देखते हुए रेल प्रशासन भी सतर्क रहा, एहतियात बरतते हुए ट्रेनों का परिचालन कर रहा था. पलामू प्रमंडल अंतर्गत कई ऐसे स्टेशन हैं, जो नक्सलियों के गढ़ में स्थित है. वहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे.

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: