न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : कुख्यात कुणाल सिंह सहित चार को सात वर्ष का सश्रम कारावास, पांच-पांच हजार का जुर्माना

61

Daltonganj : झारखंड-बिहार में कुख्यात आपराधिक गिरोह के सरगना और एक्स आर्मी मैन कुणाल किशोर सिंह सहित चार अपराधियों को आर्म्स एक्ट के छह वर्ष पुराने मामले में व्यवहार न्यायालय की एक निचली अदालत ने दोषी करार देते हुए सात-सात वर्ष की सश्रम कारावास की सजा सुनायी है. अदालत ने सभी को पांच-पांच हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है. अर्थदंड की राशि नहीं देने पर सभी को तीन-तीन माह की अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होगी. अपर सत्र न्यायाधीश तीन की अदालत ने जिले के पाटन थाना क्षेत्र के आर्म्स एक्ट के मामले में एक्स आर्मी और कुख्यात अपराधी सरगना कुणाल किशोर सिंह, आलोक पांडेय, राकेश पांडेय उर्फ पप्पू पांडेय और प्रकाश सिंह को सात-सात वर्ष की सश्रम कारावास की सजा सुनायी है. अदालत ने चारों को पांच-पांच हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है.

इसे भी पढ़ें – तत्कालीन भवन निर्माण विभाग की प्रधान सचिव राजबाला वर्मा ने टेंडर मैनेज करने वाले इंजीनियरों को दिया संरक्षण, सरयू राय ने जांच के लिए सीएम को लिखी चिट्ठी

इसे भी पढ़ें – रांची : पार्ट वन की परीक्षा में आया सिलेबस से बाहर का प्रश्न , विरोध में 20 हजार परीक्षार्थियों ने जमा कर दी खाली आंसर शीट

पाटन थाना प्रभारी ने अवैध हथियार के साथ आरोपियों को गिरफ्तार किया था 

अभियोग का सारांश है कि 27 नवम्बर 2012 को पाटन थाना प्रभारी विपिन कुमार ने कुणाल किशोर सिंह सहित अन्य अपराधियों को सशस्त्र बल के सहयोग से अवैध हथियार के साथ गिरफ्तार किया था. कुणाल सिंह उस समय रांची स्थित आर्मी कैम्प में कार्यरत था. इसके बाद से वह समाज की मुख्य धारा से भटक कर अपराध की दुनिया में चला गया और एक के बाद एक आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया.

इसे भी पढ़ें –  पुलिस के हत्थे चढ़े 4 साइबर अपराधी, फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को लगाते थे चूना  

इसे भी पढ़ें – चारा घोटाला : दुमका कोषागार से तीन करोड़ ग्यारह लाख की फर्जी निकासी मामले में फैसला टला, 16 को आ सकता है

इसे भी पढ़ें – कुख्यात राकेश भुइयां दस्ते का सफाया, अत्याधुनिक हथियार सहित शिकंजे में चार नक्सली

आजसू नेता की हत्या और व्यवसायी पुत्र के अपहरण में कुणाल सिंह का हाथ

कुणाल सिंह अपराध की दुनिया में तेजी से आगे बढ़ा और चर्चित आजसू पार्टी के नेता साजिद अहमद सिद्दीकी उर्फ बॉबी खान की हत्या में उसकी संलिप्तता सामने आयी. कुणाल सिंह यही तक शांत नहीं रहा. कुणाल ने अपने साथियों के साथ पलामू के लब्ध प्रतिष्ठित व्यवसायी और राजद के वरिष्ठ नेता ज्ञानचंद पांडेय के पोते अभिनव पांडेय का बड़े ही नाटकीय ढंग से अपहरण कर लिया था. इन घटनाओं के बाद कुणाल सिंह को रांची स्थित आर्मी कैम्प से गिरफ्तार किया गया था. कुणाल सिंह काफी शातिर अपराधी है. आर्मी कैम्प से निकलकर उसने बॉबी खान की हत्या की थी और फिर बड़े आराम से कैम्प में वापस आ गया था. पुलिस को उसकी गिरफ्तारी के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा था. फिलवक्त कुणाल सिंह बिहार के एक मामले में सुनवाई होने के कारण औरंगाबाद जेल में बंद है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: