न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : एनपीयू गठन के नौ वर्ष बाद हिन्दी विभाग में पीएचडी उपाधि के लिए मौखिकी संपन्न

69

Daltonganj : नीलाम्बर-पीताम्बर विश्वविद्यालय गठन के नौ वर्ष बाद जीएलए कॉलेज परिसर स्थित एनपीयू के मानविकी संकाय के अंतर्गत स्नातकोत्तर हिन्दी विभाग में पीएचडी उपाधि हेतु मौखिकी संपन्न हुई. मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथा और उपन्यासों में राजनीति का स्वरूपरूस्त्री विमर्श की दृष्टि सेविषय पर जीएलए कॉलेज के हिन्दी विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ कुमार वीरेन्द्र के निर्देशन में श्री चेतन आनन्द ने अपना शोध प्रबंध पीएचडी उपाधि हेतु समर्पित किया था.

मानविकी संकायाध्यक्ष की देखरेख में और प्रो रामानुज प्रसाद शर्मा की अध्यक्षता में सोमवार को संपन्न विभागीय शोध समिति में विश्वविद्यालय द्वारा नियुक्त बाह्य परीक्षक मार्खम कॉलेज ऑफ कॉमर्स के प्राचार्य डॉ मिथिलेश कुमार सिंह ने शोधार्थी से विषय से संबंधित प्रश्न किये और उत्तरों पर संतोष प्रकट किया.

इसे भी पढ़ें: अस्पताल में नहीं थे डॉक्टर, सफाई कर्मी बना डॉक्टर, टॉर्च की रौशनी में घायल महिला का किया ऑपरेशन

इसे भी पढ़ें: धनबाद पुलिस एसोसिएशन के उपाध्यक्ष शालीग्राम यादव का घूस लेते वीडियो वायरल, एसएसपी ने किया निलंबित

कुलपति डॉ सत्येन्द्र नारायण सिंह की पहल पर पीएचडी उपाधि के लिए पहली मौखिकी संपन्न

उल्लेखनीय है कि नीलाम्बर-पीताम्बर विश्वविद्यालय की स्थापना के तकरीबन 9 वर्षों के बाद शोध को बढ़ावा देने के लिए कटिबद्ध वर्तमान कुलपति डॉ सत्येन्द्र नारायण सिंह की पहल पर पीएचडी उपाधि के लिए पहली मौखिकी संपन्न हुई है. आगे के शोधार्थियों के लिए पीएचडी करने का मार्ग प्रशस्त हुआ है. इस अवसर पर डॉ सुवर्ण महतो, डॉ मंजू सिंह, डॉ सुरेश साहू, डॉ आरके सिन्हा, डॉ एनके सिंह, डॉ एसके सिंह, प्रो सर्फुद्दीन शेख, डॉ रवि शंकर, डॉ जसबीर बग्गा, डॉ सुनीता कुमारी, सुरेन्द्र कुमार रवि, डॉ एसके मिश्रा, डॉ आरके झा, डॉ विमल कुमार सिंह, प्रो राघवेन्द्र कुमार सिंह, डॉ दिलीप कुमार, डॉ गोविन्द तिवारी, डॉ सुनील कुमार सिंह, राम स्नेही राम सहित अन्य शिक्षक एवं बड़ी संख्या में विद्यार्थी और कर्मचारी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें: चारा घोटाला मामले में लालू दोषी, जगन्नाथ मिश्र बरी, 21-22 व 23 मार्च को सजा के बिंदु पर सुनवाई

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: