Uncategorized

पथ और सेतु राज्य के विकास की रीढ़ : मुख्यमंत्री रघुवर दास

|| गढ़वा, लातेहार और डालटनगंज के निवासियों को मिलेगा लाभ ||
गढ़वा : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने शुक्रवार को गढ़वा जिले के सुंडीपुर-पंशा पथ में कोयल नदी पर उच्चस्तरीय सेतु का शिलान्यास किया। इस बीच जनसभा को संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा कि पथ और सेतु किसी भी राज्य के विकास की रीढ़ होते हैं, इसलिए उनकी सरकार ने सर्वप्रथम राज्य के सभी पथों और पुलों को बेहतर बनाने की दिशा में काम करना शुरु कर दिया है। इसी की कड़ी में इस सेतु के निर्माण कार्य भी शामिल है। जिसका नाम पंडित दीन दयाल उपाध्याय सेतु होगा।

उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि इस सेतु के बन जाने के बाद झारखंड के गढ़वा, लातेहार और डालटनगंज के लोगों को इसका फायदा मिलेगा। झारखंड के कई गांव और शहर सीधे एन.एच-टू से जुड़ जायेंगे।

श्री दास ने कहा कि पलामू-गढ़वा में सब्सिडी पर दो-दो गायें दी जायेंगी, जबकि पूरे राज्य में 40 पशु अस्पताल बनाने की सरकार की योजना है। दूध के उत्पादन और उसके ऑनलाइन विक्रय के लिए भी सरकार ब्लू प्रिंट तैयार कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 अगस्त से पहले पलामू और दुमका में आदिम जनजाति बटालियन का भी गठन हो जायेगा। पानी की समस्या पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सोन नदी से पानी लेकर पेयजल की समस्या का समाधान करने के लिए सरकार काम कर रही है, 4.5 वर्षों में इस समस्या को सुलझा लिया जायेगा। जपला फैक्ट्री पर उनका कहना था कि यहां निवेशकों को सरकार हर संभव मदद करेंगी, ताकि इस फैक्ट्री का पुनरुद्धार हो।

उन्होंने कहा कि बिजली, सड़क और पानी की व्यवस्था हो जाने से इस क्षेत्र में आर्थिक प्रगति के नये द्वार खुलेंगे। उन्होंने कहा कि 2016-17 गांव, गरीबों, किसानों का बजट होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि गढ़वा, पलामू और लातेहार को इसी साल दिसम्बर जबकि दस जुलाई तक संथाल परगना को 24 घंटे बिजली मिलनी सुनिश्चित हो जायेगी। पूरे राज्य में 24 घंटे बिजली की सुविधा 2017 तक उपलब्ध कराने की बात उन्‍होंने कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में झारखंड राज्य राजमार्ग प्राधिकार द्वारा कई योजनाओं को अंतिम रुप दिया जा रहा है। जिसमें नौ योजनाओं में पांच योजनाएं जैसे कोयल नदी पर उच्चस्तरीय सेतु, घाघरा-नेतरहाट पथ, मोहम्मदगंज-जपला-दंगवार पथ, छतरपुर-जपला पथ और गढ़वा-शाहपुर पथ का निर्माण कराया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि 89 करोड़ की लागत से बन रहे इस पुल में आम जनता की सुविधाओं का विशेष ख्याल रखा गया है। इस सेतु द्वारा टेलीफोन लाइन, जलापूर्ति पाइप लाइन, बिजली के केबल आदि ले जाने के लिए यूटिलिटी डक्ट का भी निर्माण कराया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हाल ही में सड़कों को सुदृढ़ करने की दिशा में उनकी सरकार ने एक और महत्वपूर्ण कदम बढ़ाया है। मंझिआंव-कांडी पथ और केतार-कांडी पथ का निर्माण पूरा कराया गया है, साथ ही भंडरिया-बड़गड़, मंझिआंव-सुंडीपुर, बी मोड़ (एनएच .75) उटारी पथ का निर्माण कार्य प्रगति पर है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग 75 पर गढ़वा के विलासपुर में चेक पोस्ट का निर्माण भी कराया जा रहा है।

इसी बीच मुख्यमंत्री ने नई योजनाओं की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि गढ़वा के लिए 400 करोड़ की योजनाएं हैं। महिला सशक्‍तीकरण हो या आनलाइन प्रमाण पत्रों के मिलने की बात या बायोमीट्रिक सिस्टम से पीडीएस को जोड़ने की व्यवस्था सभी पर सरकार काम कर रही है।

गौरतलब है कि सरकार ने महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए स्टेट हाइवे अथॉरिटी ऑफ झारखंड का गठन किया है, जिसके तहत गढ़वा और पलामू जिला के त्वरित विकास के लिए झारखंड सरकार छतरपुर-जपला पथ, गढ़वा-शाहपुर पथ, मोहम्मदगंज-जपला-दंगवार पथ, केतार-राजी पथ, भवनाथपुर-खरौंदी-कोन पथ, चैनपुर-रमकंडा-भंडरिया पथ और रंका-चिनिया पथ का निर्माण 350 करोड़ रुपये की लागत से करवाने जा रही है। इसके अलावा गढ़वा जिला के डंडई प्रखंड में कोयल नदी पर भी 45 करोड़ की लागत से पुल का निर्माण प्रस्तावित है। इस प्रकार करीब 400 करोड़ रुपये की योजनाएं गढ़वा जिले के लिए ली जा रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में 27 परंपरागत वन निवासियों के बीच 28 एकड़ वन भूमि का पट्टा वितरित किया। मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के लाभार्थियों के बीच चेक का वितरण किया गया। इसके अतिरिक्त करीब 30 करोड़ की परिसंपित्तियों का वितरण किया गया।

इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने कहा कि पलामू प्रमंडल के अन्तर्गत अनेक स्वास्थ्य केंद्रों का निर्माण विभाग की ओर से किया जा रहा है।
श्रम नियोजन एवं प्रशिक्षण मंत्री राज पलिवार ने सालों से बंद पड़ी जपला सीमेंट फैक्ट्री को पुनर्जीवित करने के लिए निवेशकों को आमंत्रित करते हुए सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराने की बात कही।

पथ निर्माण विभाग की प्रधान सचिव राजबाला बर्मा ने उच्च स्तरीय सेतु को डेढ़ साल के अंदर पूरा किये जाने की बात। उन्होंने कहा कि आईआईटी दिल्ली द्वारा सेतु की गुणवत्ता की जांच की जायेगी जिसके बाद भुगतान किया जायेगा।

इस मौके पर पलामू के सांसद बीडी राम, छत्तरपुर विधायक राधाकृष्ण किशोर, हुसैनाबाद विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता, विधायक आलोक चौरसिया, गढ़वा विधायक सत्येन्द्र नाथ तिवारी ने भी अपने विचार व्यक्त किये।
(सूजंसवि)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button