न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पत्थलगड़ी अभियान का मास्टर माइंड विजय कुजूर अपने सहयोगी के साथ दिल्ली से गिरफ्तार

21

Ranchi : पत्थलगड़ी विवाद का मास्टरमाइंड विजय कुजूर व एक अन्य को सरायकेला पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है. सरायकेला पुलिस की टीम ने दिल्ली से दोनों को गिरफ्तार किया है. झारखंड के कई जिलों में इन दिनों चल रहे पत्थलगड़ी मामले का मास्टरमाइंड विजय कुजूर को माना जा रहा है. विजय कुजूर टिस्को के कोलकाता ब्रांच में कार्यरत है. उल्लखेनीय है कि झारखंड में पत्थलगड़ी का एक बड़ा मुद्दा बन गया है. राज्य के खूंटी, सिमडेगा, रांची, गमला, सरायकेला व चाईबासा के विभिन्न इलाकों में पत्थलगड़ी की जा रही है. इस दौरान ग्रामीणों और पुलिस के बीच कई बार झड़प हो चुकी है. सरकार पत्थलगड़ी को रोकने के लिए तमाम उपाय कर रही है, लेकिन सरकार को इसमें सफलता नहीं मिल रही है. उल्टे हालात और खराब होते जा रहे हैं. इस स्थिति में विजय कुजूर की गिरफ्तारी सरकार और पुलिस के लिए बड़ी सफलता है. विजय कुजूर के गिरफ्तारी की पुष्टि पुलिस के एक अधिकारी ने ऑफ द रिकॉर्ड कर दी है.

इसे भी पढ़ेंः पत्थलगड़ी के नाम पर लोगों को भड़काने वालों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई : झारखंड सरकार

इसे भी पढ़ेंः न्यूज विंग के खबर की हुई पुष्टि, पत्थलगड़ी वास्तविक लड़ाई नहीं, मामला अफीम का है : सीएम

कौन है विजय कुजूर

टिस्को में कार्यरत विजय कुजूर आदिवासी इलाके में बड़ा नाम बन कर उभरा है. खूंटी के बाद पूर्वी सिंहभूम व सरायकेला के गांवों में भी विजय कुजूर व उसके साथियों ने ग्रामसभा के अधिकार की अपनी संवैधानिक व्याख्या कर रखी है. स्कूल-कॉलेज व सार्वजनिक स्थलों की दीवारों पर लिखा है कि आदिवासी 2019 के चुनावों का बहिष्कार करेंगे. साथ ही यह भी लिखा कि आदिवासियों की परंपरा में चुनाव कराना असंवैधानिक है.

विशेष शाखा ने दी थी जानकारी विजय कुजूर पत्थलगड़ी के नाम पर आदिवासियों को भड़का रहा है

पिछले दिनों विशेष शाखा ने सरकार को एक रिपोर्ट भेजी थी, जिसमें कहा गया था कि सरायकेला जिले के इचागढ़ में सरकार के विरुद्ध भोलेभाले आदिवासियों को भड़काया जा रहा है. वहां भी पत्थलगड़ी की योजना है. विशेष शाखा से रिपोर्ट मिलने के बाद डीजीपी डीके पांडेय ने संबंधित जिले के अफसरों को अलर्ट रहने और ससमय कार्रवाई करने का आदेश दिया था. विशेष शाखा ने अपनी रिपोर्ट में टिस्को के कोलकाता ब्रांच में कार्यरत विजय कुजूर तथा रांची के डोरंडा थाना क्षेत्र की हुंडरू निवासी बबीता कच्छप के नेतृत्व में किसी भी समय सरायकेला में पत्थलगड़ी की बात कही थी. इस संदर्भ में प्रत्येक रविवार को जमशेदपुर स्थित आशियाना गेट के पास ट्रायबल कल्चर सेंटर में बैठक कर आवश्यक निर्देश दिया जाता है. विरोध करने पर पुलिस-पदाधिकारियों पर मामला दर्ज कराने का भी जिक्र थाा रिपोर्ट में.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: