न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पति ने रखा वट सावित्री का व्रत, कहा- अगले जन्म में नहीं देना ऐसी बीवी

126

Belgavi (karnatka): पति और पत्नी के बीच अनबन नई बात नहीं. लेकिन अगर कोई पति अपनी बीवी से इतना परेशान हो जाय कि वो वट सावित्री का व्रत रखने लगे तो आप चौंक जाएंगे. वट सावित्री का व्रत रखने वाला पति मांग क्या रहा है, “ अगले जन्म में मुझे ऐसी बीवी नहीं चाहिए, प्लीज छुटकारा दिला ले भगवान”.

इसे भी पढ़ें-संत कबीर की मजार पहुंचे सीएम योगी, टोपी पहनने से किया मना

कर्नाटक के चिक्कोडी में एक शख्स ने अपनी पत्नी से आजिज आकर वट सावित्री पूजा की है, ताकि अगले जन्म में उसे ऐसी पत्नी न मिले. बता दें कि वट सावित्री व्रत का हिंदू धर्म में काफी महत्व रखता है, जिसमें शादीशुदा महिलाएं पति की लंबी उम्र, सेहत और संपन्नता के लिए व्रत रखती हैं. साथ ही अगले सात जन्म तक पति के साथ की कामना करती हैं.

बीवी से अजीज आ चुके हैं शशिधर
इस शख्स का नाम शशिधर रामचंद्र कोपार्डे है, ये पत्नी से पीड़ित पुरुषों के लिए सांत्वना केंद्र चलाते हैं. उन्होंने वट सावित्री व्रत के एक दिन पहले ही मंगलवार को यह पूजा की. शशिधर ने बताया कि वह अपनी बीवी से आजिज आ चुके हैं और उससे छुटकारा चाहते हैं. उनका दावा है कि उनकी पत्नी ने उनपर दहेज उत्पीड़न का फर्जी मुकदमा दर्ज कराया है.

‘पत्नी ने मेरा घर तो तोड़ा ही, आस-पड़ोस के परिवारों को तोड़ा’
शशिधर रामचंद्र कोपार्डे ने बताया कि मेरी पत्नी ने मेरे परिवार को तो तोड़ा ही, आसपड़ोस के परिवारों को भी परेशान कर रखा है. शशिधर का दावा है कि मेरी पत्नी के प्रभाव में आकर आस-पड़ोस की महिलाओं ने अपने-अपने सास-ससुर और पति के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का केस कर रखा है. इससे मोहल्ले में उनका रहना दुभर हो गया है.

इसे भी पढ़ें-आदिवासियों को डरा-धमका कर उनकी जमीन लिखवा रहे हैं बांग्लादेशी

शशिधर रुंधे गले से बताते हैं कि अगले जन्म में मैं चाहे ब्रह्मचारी रह जाऊं, लेकिन इस पत्नी से छुटकारा दिला ले भगवान. मुझे इस तरह परेशानियां खड़ी करने वाली पत्नी नहीं चाहिए. मैंने बरगद के पेड़ पर धागा बांधा और परंपरा अनुसार पूजा भी की है. बता दें कि यह त्योहार महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, गोवा और कर्नाटक के उत्तरी भागों में 27 जून को मनाया गया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: