न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पंचम स्कंदमाताः मनुष्य को सुख-शांति की प्राप्ति होती है

“सिंहासनगता नित्यं पद्याञ्चितकरद्वया.शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥“

99

डॉ. स्वामी दिव्यानंद जी महाराज (डॉ. सुनील बर्मन)

श्री दुर्गा का पंचम रूप श्री स्कंदमाता हैं. श्री स्कंद (कुमार कार्तिकेय) की माता होने के कारण इन्हें स्कंदमाता कहा जाता है. नवरात्रि के पंचम दिन इनकी पूजा और आराधना की जाती है. इनकी आराधना से विशुद्ध चक्र से जाग्रत होनेवाली सिद्धियां स्वतः प्राप्त हो जाती हैं. इनकी आराधना से मनुष्य सुख-शांति की प्राप्ति करता है. सिंह के आसन पर विराजमान तथा कमल के पुष्प से सुशोभित दो हाथों वाली यशस्विनी देवी स्कन्दमाता शुभदायिनी हैं.

भगवान स्कन्द जी बालरूप में माता की गोद में बैठे होते हैं. स्कन्द मातृस्वरूपिणी देवी की चार भुजायें हैं, ये दाहिनी ऊपरी भुजा में भगवान स्कन्द को गोद में पकड़े हैं और दाहिनी निचली भुजा जो ऊपर को उठी है, उसमें कमल पकडा हुआ है. माँ का वर्ण पूर्णतः शुभ्र है और कमल के पुष्प पर विराजित रहती हैं. इसी से इन्हें पद्मासना की देवी और विद्यावाहिनी दुर्गा देवी भी कहा जाता है. इनका वाहन भी सिंह है.

माँ स्कंदमाता सूर्यमंडल की अधिष्ठात्री देवी हैं. इनकी उपासना करने से साधक अलौकिक तेज की प्राप्ति करता है.  यह अलौकिक प्रभामंडल प्रतिक्षण उसके योगक्षेम का निर्वहन करता है. एकाग्रभाव से मन को पवित्र करके माँ की स्तुति करने से दुःखों से मुक्ति पाकर मोक्ष का मार्ग सुलभ होता है.

इसे भी पढ़ें – चतुर्थ कुष्मांडाः भक्तों के समस्त रोग-शोक नष्ट हो जाते हैं

स्कन्दमाता की पूजा विधि :

कुण्डलिनी जागरण के उद्देश्य से जो साधक दुर्गा मां की उपासना कर रहे हैं उनके लिए दुर्गा पूजा का यह दिन विशुद्ध चक्र की साधना का होता है. इस चक्र का भेदन करने के लिए साधक को पहले मां की विधि सहित पूजा करनी चाहिए. पूजा के लिए कुश अथवा कम्बल के पवित्र आसन पर बैठकर पूजा प्रक्रिया को उसी प्रकार से शुरू करना चाहिए जैसे आपने अब तक के चार दिनों में किया है. फिर इस मंत्र से देवी की प्रार्थना करनी चाहिए “सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया. शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी. अब पंचोपचार विधि से देवी स्कन्दमाता की पूजा कीजिए. नवरात्र की पंचमी तिथि को कहीं-कहीं भक्त जन उद्यंग ललिता का व्रत भी रखते हैं. इस व्रत को फलदायक कहा गया है. जो भक्त देवी स्कन्दमाता की भक्ति-भाव सहित पूजन करते हैं उसे देवी की कृपा प्राप्त होती है. देवी की कृपा से भक्त की मुराद पूरी होती है और घर में सुख, शांति एवं समृद्धि रहती है.

इसे भी पढ़ें – रावण दहन : सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कम होगी आतिशबाजी

वात, पित्त, कफ जैसी बीमारियों से पीड़ित व्यक्ति को स्कंदमाता की पूजा करनी चाहिए और माता को अलसी चढ़ाकर प्रसाद में रूप में ग्रहण करना चाहिए.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: