न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नोएडा : पढ़ाई के लिए टोकना इतना बुरा लगा कि बेटे ने कर दी मां-बहन की हत्या

45

News Wing
Noida, 09 December:
नोएडा के थाना बिसरख क्षेत्र के गौड़ सिटी दो के एक फ्लैट में मां-बेटी की हत्या मामले में पकड़े गये नाबालिग बेटे ने अपना जुर्म कुबूल करते हुए कहा कि पढ़ाई के लिए डांटे जाने पर आक्रोश में आकर उसने अपनी मां और बहन की निर्मम हत्या कर दी थी. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक लव कुमार ने सूरजपुर स्थित पुलिस लाइन में बताया कि थाना बिसरख क्षेत्र के गौड़ सिटी दो में रहने वाले व्यावसायी सौम्य अग्रवाल की पत्नी श्रीमती अंजली अग्रवाल (42 वर्ष) और उनकी बेटी मणिकर्णिका अग्रवाल (13 वर्ष) की निर्मम हत्या कर दी गयी थी. दोनों के शव बेड पर रजाई से ढंके हुए मिले थे. घटना स्थल से पुलिस ने खून से सना एक क्रिकेट बैट और खून से सने कुछ कपड़े भी बरामद किये थे. इस घटना के बाद से अग्रवाल का बेटा प्रखर लापता था. प्रखर अग्रवाल उर्फ राघव 11वीं कक्षा का छात्र है. सर्विलांस के माध्यम से पुलिस ने कल प्रखर को वाराणसी से पकड़ लिया.

पढ़ाई को लेकर डाटती थी मां

एसएसपी ने बताया कि परिजनों की मौजूदगी में पुलिस द्वारा पूछताछ में प्रखर ने बताया कि वह पढ़ाई में काफी कमजोर है जिसको लेकर अक्सर उसकी मां उसे डाटती थी. घटना वाले दिन वह घर में सोफे पर बैठ कर पढ़ रहा था. उसकी मां ने उसे डाइनिंग टेबल पर बैठ कर पढ़ने को कहा. इस बात को लेकर मां बेटे में विवाद हो गया और मां ने उसकी पिटाई कर दी इससे वह खासा नाराज हो गया.

इसे भी पढ़ें- हजारीबाग जेल में गड़बड़ियों के लिए कैदी, सिपाही से लेकर अधीक्षक तक जिम्मेदार, पर जेलर नहीं

कैसे दिया घटना को अंजाम

उन्होंने बताया कि रात्रि में जब अंजली और उसकी बेटी मणिकर्णिका बेड रूम में जाकर सो गयी तो प्रखर ने क्रिकेट बैट से उन पर कई प्रहार किये. इसके बाद गुस्साये प्रखर ने कैची व पिज्जा कटर से अपनी मां व बहन के सर व चेहरे पर कई वार कर उन्हें मौत के घाट उतार दिया. और उसने दोनों के शवों को रजाई से ढंक दिया. इसके बाद वह घर पर रखे हुए पैसे ले कर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुंचा. वहां से ट्रेन पकड़कर चंडीगढ़ पहुंचा और वहां से बस से शिमला चला गया. शिमला से वह फिर चंडीगढ़ वापस आया और रेलवे स्टेशन से रांची जाने वाली ट्रेन में बैठ गया.

अश्वमेघ घाट से पुलिस ने प्रखर को पकड़ा

आठ दिसंबर की सुबह वह ट्रेन से मुगल सराय उतर गया और वहां से बनारस पहुंचा. वाराणसी में वह सड़क पर ही रहा. जहां उसे पुलिस ने अश्वमेघ घाट से पकड़ लिया. एसएसपी ने बताया कि प्रखर का इस समय मानसिक संतुलन ठीक नहीं है.

इसे भी पढ़ें- कौन लेता है जेएमएम के बड़े फैसले, आखिर किसके कब्जे में हैं कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन?

प्रखर को अपने किये पर पछतावा है : एसएसपी

एसएसपी ने बताया कि उसे अपने किये पर बहुत पछतावा है, और वह लगातार रो रहा है. एसएसपी ने बताया कि प्रखर को इस बात की हमेशा कुंठा रहती थी कि उसके मां-बाप उसकी बहन को ज्यादा प्यार करते हैं उसे कम प्यार करते हैं. उसके स्कूल के बच्चे भी उसका मजाक उड़ाते थे. उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि प्रखर कुछ वीडियो गेम खेलता था. हाई स्कूल गैंगस्टर नामक गेम वह कई बार खेलता था. पुलिस यह जानने का प्रयास कर रही है कि कहीं उसने उस गेम को देखकर इस घटना को अंजाम तो नहीं दिया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: