न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नेताओं को जनता के पैसों से सुरक्षा मुहैया कराने की क्या जरूरत, पार्टी खर्चा उठाने में सक्षम : बंबई हाईकोर्ट

36

News Wing

Mumbai, 29 November : बंबई उच्च न्यायालय ने महाराष्ट्र सरकार से पूछा कि नेताओं को पुलिस सुरक्षा मुहैया करने पर कर दाताओं का धन खर्च करने की क्या जरूरत है. मुख्य न्यायाधीश मंजुला चेल्लुर और न्यायमूर्ति एमएस सोनक की एक खंड पीठ ने कहा कि ऐसा लगता है कि जिन नेताओं को पुलिस सुरक्षा की जरूरत है उन्हें उनकी संबद्ध पार्टियों को मिलने वाले कोष से बखूबी यह किया जा सकता है.

पार्टी उठा सकती है सुरक्षा का खर्च
मुख्य न्यायाधीश चेल्लुर ने कहा कि नेताओं को पुलिस सुरक्षा मुहैया करने पर सरकारी धन खर्च करने की राज्य सरकार को क्या जरूरत है? उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि उन लोगों को उनकी पार्टी के धन से इसका भुगतान हो सकता है.’’ उच्च न्ययालय ने प्राइवेट लोगों को पुलिस सुरक्षा दिए जाने की मौजूदा प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए सरकार को निर्देश देने के दौरान यह टिप्पणी की.

यह भी पढ़ें : विरोध प्रदर्शन के दौरान जान-माल की क्षति के लिये जिम्मेदारी तय की जाये : सुप्रीम कोर्ट

1000 कर्मी प्राइवेट लोगों की सुरक्षा में तैनात

silk_park

पीठ एक वकील द्वारा दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी. याचिका के जरिए राज्य पुलिस को यह निर्देश देने की मांग की गई है कि वह नेताओं, फिल्म कलाकारों से बकाये की वसूली करे. दरअसल, इन लोगों को सुरक्षा कवर मुहैया किया गया लेकिन उन्होंने इसके लिए भुगतान नहीं किया. पीआईएल के मुताबिक राज्य पुलिस के करीब 1000 कर्मी प्राइवेट लोगों को सुरक्षा मुहैया करने के लिए तैनात हैं.

यह भी पढ़ें : गुजरात के सीएम रूपानी का ऑडियो टेप वायरल, नरेन्द्र भाई से बातचीत का जिक्र, कह रहे स्थिति खराब है

पुलिसकर्मी अनिश्चित काल तक तैनात ना रहे
सुनवाई के दौरान पीठ ने महाराष्ट्र सरकार को सभी अर्जियों की समय-समय पर समीक्षा सुनिश्चित करने को भी कहा ताकि किसी व्यक्ति की जान को खतरा खत्म हो जाने के बाद भी उस व्यक्ति को पुलिस सुरक्षा जारी ना रहे. न्यायमूर्ति चेल्लुर ने यह भी कहा कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित करे कि प्राइवेट लोगों या नेताओं को अंगरक्षक के तौर पर लगाए गए पुलिसकर्मी अनिश्चित काल तक तैनात ना रहे, बल्कि उन्हें एक निश्चित अवधि के बाद अपनी ड्यूटी पर लौटने की इजाजत दी जाए.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: