न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

निगम के अधिकारियों पर भड़कीं मेयर, कहा ‘बिना टेंडर के ही हो रहा है करोड़ों का काम’

13

नियमों को दरकिनार कर विज्ञापन एजेंसियों को दिया गया करोंड़ों का काम

बाजार शाखा के इंचार्ज के खिलाफ होगी कार्रवाई

NEWSWING

Ranchi, 09 December : रांची नगर निगम में करोड़ों के टेंडर नियमों को अनदेखी कर खैरात की तरह दिये जा रहे हैं. यह काम रांची नगर निगम के कर्मचारी और अधिकारियों की मिलीभगत से लंबे अरसे से हो रहा है. रांची नगर निगम के बाजार शाखा के अधिकारी संदीप करन ने अपने निजी स्‍वार्थ के लिए कई विज्ञापन एजेंसियों को नियमों की अनदेखी कर काम दिया है.

यह सब बातें किसी और ने नहीं रांची नगर निगम की मेयर आशा लकड़ा ने कही. मेयर ने बताया कि ब्राईट एजेंसी का काम दो महीना पहले खत्‍म हो चुका है. बिना निगम बोर्ड की सहमति के निगम के बाजार शाखा ने उस एजेंसी को दो महीने का ऐक्‍सटेंशन दे दिया. उन्‍होंने कहा कि यह काम सिर्फ एक खास कंपनी को ही क्‍यों दे दिया गया. यह मामला पहले बोर्ड में आना चाहिए और कायदे से टेंडर होना चाहिए था. यहां के अधिकारी मनमानी करने पर उतर आये है. मेयर ने कहा कि अधिकारी से पूछने पर बताया कंपनी ने रिक्‍वेस्‍ट भेजा था इसलिए एजेंसी को काम दिया गया. उन्‍होंने सवाल उठाया कि क्‍या यहां के अधिकारी किसी के एक रिक्‍वेस्‍ट लेटर पर टेंडर का काम दे देंगे. यह सरासर गलत है. ये लोग निगम को बेचने का काम कर रहे हैं.

मेयर ने कहा है ये यहां के अधिकारियों में जनता और उनके प्रतिनिधियों में गुमराह करने की आदत बनी हुई है, नियम विरूद्ध काम करने का. हमारे पास पहले से नियम है. उस नियम के अनुसार इन लोगों को काम करना चाहिए, लेकिन ये ऐसा नहीं कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : बकोरिया कांड का सच-05ः स्कॉर्पियो के शीशा पर गोली किधर से लगी यह पता न चले, इसलिए शीशा तोड़ दिया

नगर आयुक्त पर भी बरसीं मेयर

मेयर रांची नगर निगम के नगर आयुक्‍त पर भी बरसीं. मेयर के समीक्षा बैठक में नगर आयुक्‍त को भी बुलाया गया था, पर वह नहीं पहुंचे. उन्‍होंने कहा कि नगर आयुक्‍त को पावर है कि वह नगर निगम के नियमों का पालन करते हुए टेंडर करते. पर उन्‍होंने ऐसा नहीं किया. बिना टेंडर के ही यह सब पास करा दिया.

अधिकारी बतायें कंपनी पर क्यों हैं मेहरबान

मेयर आशा लकड़ा ने बताया कि मैंने आज बैठक कर अधिकारियों को ब्राइट नियोन का जो बोर्ड लगा हुआ है, उसे काटने का आदेश दिया है. मैंने पूछा कि बताइये कि आप कब तक काटियेगा, बाइतये, पर अधिकारी इस मामले पर चुप्‍पी साधे हुए हैं. ये लोग निजी हित के लिए ऐसा कर रहे हैं. अधिकारियों को बताना चाहिए कि वो इन कंपनियों पर क्‍यों मेहरबान हैं.

मेयर ने नगर आयुक्‍त, सहायक नगर आयुक्‍त, एएमसी समेत सभी की कार्यशैली पर सवाल खड़ा किया है. मेयर ने एक चिट्ठी दिखाते हुए बताया कि नगर आयुक्‍त ने निर्देश जारी किया था कि दो रोड पर ब्राइट नियोन काम रहेगा, बाकी जगह पर निरस्‍त किया जाता है. जब वो निरस्‍त कर चुके हैं तो फिर कैसे बाकी जगहों पर भी ब्राइट को काम दिया गया. अभी ईएसएल और सूर्या कंपनी काम कर रही हैं और मेनटेनेंस कर रही हैं तो ब्राइट पर मेहरबानी क्‍यों.

इसे भी पढ़ें : दंगे हर घर तक पहुंच गये हैं, भारत धीरे-धीरे गृह युद्ध की तरफ बढ़ रहा : कन्हैया कुमार

जहां सीसीटीवी कैमरा लगना था वहां भी लगा दिये विज्ञापन बोर्ड

मेयर आशा लकड़ा ने बताया कि बिना नगर निगम बोर्ड की जानकारी के जहां सीसीटीवी कैमरा लगाया जाना था वह स्‍थान भी विज्ञापन के लिए ब्राइट कंपनी को दे दिये गये. सीसीटीवी कैमरा लगाने के लिए ओवरहेड साइन ऐज के लिए 71 जगहों का चयन किया गया था. इन स्‍थानों पर कैमरे लगाने के बजाय ब्राइट कंपनी को विज्ञापन लगाने के लिए मुहैया करा दिया गया.

न मूल्‍यांकन हुआ और न रेट रिवाइज किया गया

ब्राइट कंपनी के साथ 2005 से 2012 तक का एग्रीमेंट हुआ था, उसके बाद यह 2012 से 2017 तक का एग्रीमेंट हुआ. एग्रीमेंट के अनुसार हर साल कंपनी को रिन्‍युअल कराना होता है. रिन्‍युअल के लिए उसे निगम की बोर्ड की मंजूरी के लिए लाना होता है. अधिकारियों ने कभी भी ब्राइट कंपनी के रिन्‍युअल को बोर्ड में आने नहीं दिया. सब एक रिक्‍वेस्‍ट लेटर पर लाइसेंस ऐक्‍टेंशन होता रहा. इसका अधिकारियों के पास कोई जवाब नहीं है. उन्‍होंने कहा कि ब्राइट कंपनी का कभी मूल्‍यांकन नहीं हुआ और पुराने दर पर ही रिन्‍युअल होता रहा. झारखंड म्‍यूनिशिपल एक्‍ट 91 के अनुसार नगर निगम के साथ काम करने वाली एजेंसी का हर साल मूल्‍यांकन होना चाहिए. इसमें उसके काम को देखा जाता और नया रेट भी तय होता है. पर अधिकारियों ने कभी ऐसा नहीं किया गया. ऐसा 2012 से 2017 तक लगातार होता रहा है.

इसे भी पढ़ें : मोदी राजनीतिक फायदे के लिए ओबीसी कार्ड खेल रहे, लोगों को धोखा दे रहे, गुस्सा आता है उन पर : पटोले

बाजार शाखा के अधिकारी को हटाया जाए

रांची नगर निगम की मेयर आशा लकड़ा ने निगम के कई अधिकारियों पर लापरवाही और वित्तिय अनियमितता का आरोप लगाया है. साथ ही कहा है कि बाजार शाखा के अधिकारी हर तरह से गलत कर रहे हैं और उन्‍हें निगम से हटाया जाए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: