न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

नासा की खोज : अंतरिक्ष में एक साल रहे, तो शक्ल-सूरत बदल जायेगी 

29

Nw desk : अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने दावा किया है कि अंतरिक्ष में अगर आप एक साल रहेंगे, तो आपकी शक्ल-सूरत के साथ-साथ जीन में भी बदलाव होगा. नासा ने यह बात दो जुड़वां भाइयों पर रिसर्च करने के बाद कही है. 10 से ज्यादा वैज्ञानिकों की टीम केली भाइयों के आंत के बैक्टीरियाहड्डियों और इम्यून सिस्टम की जांच कर रही है, रिसर्च के नतीजे 2018 में ही जारी किये जायेंगे. नासा ने इस संबंध में पांच बार अंतरिक्ष की यात्रा कर जा स्कॉट केली और उनके हमशक्ल भाई मार्क केली पर प्रयेाग किया है. प्रयोग के अनुसार मार्च 2015 में स्कॉट केली को छठी बार लगभग साल भर के लिए अंतरिक्ष में भेजा गया. एक मार्च 2016 को  धरती पर उनकी वापसी हुई.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- अप्रैल में धरती पर गिरने वाला है चीन का 8000 किलो वजनी स्पेस स्टेशन,  जद में भारत भी आयेगा

इसे भी पढ़ें- वैज्ञानिकों ने खोज निकाला बुढ़ापे में कमजोर पड़ती मांसपेशियों को जवान करने का राज

अंतरिक्ष में 11 महीने रहने से स्कॉट के शरीर में बदलाव देखने को मिले

अंतरिक्ष में 11 महीने रहने से स्कॉट के शरीर में गजब के बदलाव देखने को मिले. नासा के अनुसार स्कॉट केली के सात फीसदी जीन धरती पर लौटने के बाद भी पुरानी और सामान्य अवस्था में नहीं लौट सके. शोध के क्रम में स्कॉट को अंतरिक्ष में भेजने से पूर्व कई टेस्ट किये गये. उनके अंतरिक्ष से लौटने के बाद हूबहू वही टेस्ट दोबारा किये गये. टेस्ट के नतीजों को स्कॉट के हमशक्ल जुड़वां भाई मार्क केली से मिलाया गया. नासा की एनालिसिस में पता चला कि अंतरिक्ष में रहने की वजह से स्कॉट के ज्यादातर जीन बदल गये. हालांकि 93 फीसदी जेनेटिक गुण धरती पर लौटने के बाद पुरानी अवस्था में आ गये, लेकिन सात फीसदी जीन बदले हुए मिले. बदले हुए जीन कम से कम पांच जैविक अनुवांशिक गुणों से जुड़े हुए हैं.

इसे भी पढ़ें- ब्रह्मांड में नयी दुनिया का पता लगाना है तो इस्तेमाल कीजिये गूगल का आर्टिफिशयल इंटेलीजेंस

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

इसे भी पढ़ें- देश में 5जी,  आईओटी के क्षेत्र में सिरमौर बनना है,  तो बुनियादी तंत्र विकसित करना होगा : दूरसंचार सचिव

अंतरिक्ष में भारहीनता, विकीरण, तनाव के कारण शरीर में बड़े बदलाव होते हैं

वैज्ञानिकों के अनुसार अंतरिक्ष में भारहीनता, विकीरण, तनाव और भोजन में व्यापक बदलाव के कारण शरीर में कई किस्म के बड़े बदलाव होते हैं.  इनका असर मनुष़्कय के  डीएनए और आरएनए पर भी पड़ता है. अंतरिक्ष यात्रा से पहले स्कॉट और मार्क की जिनोम सीक्वेंसिंग काफी हद तक एक जैसी थी, लेकिन अंतरिक्ष यात्रा ने इसे बदल दिया.  बताया जा रहा है कि जुड़वां भाइयों पर हो रहे शोध से अंतरिक्ष में इंसान के शरीर के व्यवहार को समझने में मदद मिलेगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: