Uncategorized

नहीं रहे दुनिया को बिग बैंग, ब्लैक होल्स का रहस्य बताने वाले ब्रिटिश वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग, 76 साल की उम्र में हुआ निधन

विज्ञापन

London: प्रख्यात ब्रिटिश वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का कैम्ब्रिज स्थित उनके आवास पर निधन हो गया. उनके परिवार ने इसकी जानकारी दी. ब्रिटिश वैज्ञानिक हॉकिंग के बच्चों लुसी, रॉबर्ट और टिम ने एक बयान में कहा है, ‘‘ हमें बहुत दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि हमारे पिता का आज निधन हो गया।’’ बयान में कहा गया कि वो एक महान वैज्ञानिक और अद्भुत व्यक्ति थे जिनके कार्य और विरासत आने वाले लंबे समय तक जीवित रहेंगे. प्रधा्नमंत्री मोदी ने उनके निधन पर शोक जताया है.

London: प्रख्यात ब्रिटिश वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का कैम्ब्रिज स्थित उनके आवास पर निधन हो गया. उनके परिवार ने इसकी जानकारी दी. ब्रिटिश वैज्ञानिक हॉकिंग के बच्चों लुसी, रॉबर्ट और टिम ने एक बयान में कहा है, ‘‘ हमें बहुत दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि हमारे पिता का आज निधन हो गया।’’ बयान में कहा गया कि वो एक महान वैज्ञानिक और अद्भुत व्यक्ति थे जिनके कार्य और विरासत आने वाले लंबे समय तक जीवित रहेंगे. प्रधा्नमंत्री मोदी ने उनके निधन पर शोक जताया है. पीएम ने कहा कि उनके धैर्य और दृढ़ता ने दुनियाभर के लोगों को प्रेरणा दी है.

इसे भी पढ़ें: लोहरदगा : सर्च अभियान में पुलिस को मिली सफलता, आइईडी बनाने का समान बरामद

ब्लैक होल, बिग बैंग का समझाया था रहस्य

दुनिया भर में मशहूर भौतिक विज्ञानी और कॉस्मोलॉजिस्ट हॉकिंग को ब्लैक होल्स पर उनके काम के लिए जाना जाता है. 8 जनवरी, 1942 को इंग्लैंड को ऑक्सफर्ड में सेंकड वर्ल्ड वॉर के समय स्टीफन हॉकिंग का जन्म हुआ था.1988 में उन्हें सबसे ज्यादा चर्चा मिली थी, जब उनकी पहली पुस्तक ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम: फ्रॉम द बिग बैंग टु ब्लैक होल्समार्केट में आयी. दुनिया भर में साइंस से जुड़ी सबसे ज्यादा बिकने वाली पुस्तक माना जाता है. पूरे विश्व में प्रसिद्ध इस ब्रह्मांड विज्ञानी पर 2014 में ‘‘ थ्योरी ऑफ एवरीथिंग’’ नामक फिल्म भी बन चुकी है.

इसे भी पढ़ें: वार्ड दो में भट्ठा टोला की सड़क बनी हुई है गटर, पानी की समस्या से हैं लोग परेशान

मोटर न्यूरॉन बीमारी से ग्रस्ति थे हॉकिंग

स्टीफन हॉकिंग मोटर न्यूरॉन बीमारी से पीड़ित थे. इस बीमारी में पूरा शरीर पैरालाइज्ड हो जाता है. व्यक्ति सिर्फ अपनी आंखों के जरिए ही इशारों में बात कर पाता है. 1963 में उनकी इस बीमारी के बारे में पता चला था. तब डॉक्टरों ने बोला था कि स्टीफन सिर्फ दो साल और जिंदा रह पाएंगे. बावजूद इसके हॉकिंग कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में आगे की पढ़ाई करने गए और एक महान वैज्ञानिक के रूप में सामने आए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबु और ट्विट पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close