न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नयी ट्रैफिक व्यवस्था पर ट्रैफिक पुलिस – आदेश सीएम की मानें या बात लोगों की सुनें

12

Chandi dutta jha

RANCHI, 25 NOVEMBER : मुख्यमंत्री का आदेश मानें या लोगों की परेशानी देखें, हमें तो कुछ समझ नहीं आ रहा है. ये पीड़ा है हरमू रोड में कार्यरत ट्रैफिक पुलिस वालों की. दरअसल सीएम के आदेश के बाद हरमू रोड में कट्स तो बंद कर दिये गये. लेकिन लोगों की परेशानी कम होने का नाम ले रही है. रोड के कट्स बंद होने के बावजूद भी से जाम की समस्या से निजात मिलती नहीं दिख रही है और इससे लोगों में आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है. अब स्थिती यह है कि हरमू मुक्तिधाम से लेकर रातु रोड तक आने में लोगों को घंटो लग जा रहे हैं.

हरमू रोड में लगाये गये थे अतिरिक्त 70 जवान

हरमू रोड में ट्रैफिक व्यवस्था संभालने के लिए अतिरिक्त 70 जवानों को लगाया गया था. ट्रैफिक पुलिस उपाधीक्षक प्रथम और द्वितीय दिनभर रोड के निरीक्षण में लगे रहे. फिर भी ट्रैफिक व्यवस्था को पुलिस संभालने में नाकाम हो रही है. शनिवार को दिन के करीब बारह बजे सहजानंद चौक से रातु रोड जाने वाली सड़क को बंद कर दिया गया था. रातु रोड जाने वाली गाड़ी को सहजानंद चौक से ही कडरू की तरफ भेजा जा रहा था.

विरोध में एकजुट हो रहे हैं लोग

वहीं किशोरगंज चौक बंद करने से आमजन के समक्ष बहुत बड़ी समस्या खड़ी हो गई है. सड़क के दोनो किनारों पर काफी संख्या में लोग रहते हैं. जिससे आसपास के लोगों को परेशानी हो रही है. वहीं वहां रह रहे लोगों में इसे लेकर भारी नाराजगी है और उनका कहना है कि हरमू रोड में नयी यातायात व्यवस्था आमजनता के हित में नही है.

दिनभर चलता रही नोकझोंक

हरमू बाईपास को जाम मुक्त बनाने के लिए बड़े बदलाव किए जा रहे हैं. सभी कट्स बंद कर दिए गए हैं. मुख्यमंत्री के आदेश के बाद किशोरगंज चौक पर 10 फीट रास्ता छोड़ दिया गया. जिससे एंबुलेस और पैदल जाने वाले लोगों को तो सुविधा मिल रही है. लेकिन वहां तैनात पुलिसकर्मी मुक्तिधाम की तरफ से आने वाली दोपहिया वाहनों को इस मार्ग होर जाने तो दे रहे थे , लेकिन दूसरी ओर से मुक्तिधाम की तरफ आने से रोक दिया जा रहा था. ऐसे में दिनभर पुलिस और लोगों के बीच नोंकझोंक होता रहा.

नये यातायात व्यवस्था से लोगों को हो रही थोड़ी परेशानी – पुलिस उपाधीक्षक

वहीं पुलिस उपाधीक्षक राधाप्रेम किशोर ने कहा कि नये यातायात व्यवस्था से लोगों को थोड़ी परेशानी हो रही है. बेहतर यातायात के लिए ऐसा किया जा रहा है और आमलोगों का इसमें सहयोग जरूरी है. साथ ही उनका कहना है कि सड़क के व्हाईट लाईन के बाहर ही गाड़ी पार्क करें. उन्होंने बताया कि लोगों की समस्या को लेकर वरीय अधिकारियों के साथ बैठक किया जायेगा और जल्द ही समस्या का समाधान कर लिया जायेगा.

 

यह व्यवस्था कहीं से सही नहीं – अधिकारी

वहीं नाम नहीं छापने की शर्त पर एक अधिकारी ने कहा कि यह व्यवस्था कहीं से सही नही है. लेकिन हमलोग से कभी कोई राय मशविरा इसपर नहीं लिया जाता. बस आदेश का पालन करने के लिए सड़क पर उतरना पड़ता है. लोगो की परेशानी जल्द समाप्त नहीं होगी, नई व्यवस्था में लोगों को ढ़लने में समय लगेगा. तभी कुछ स्थिति सामान्य हो पायेगी. 

लोगों की जुबानी, हरमू बाईपास की कहानी
शनि मंदिर के नजदीक से गुजरते हुए आलोक से पूछा गया कि नई यातायात व्यवस्था से क्या लग रहा है आपको तो उन्होंने कहा कि यहां की सरकार को सिर्फ अपनी सुविधा से मतलब है. आमलोगों की सुविघा से कोई लेनादेना नहीं है. खुद जाम में फंसे मुख्यमंत्री तो इस तरह के फैसले लेकर लोगों को परेशान कर रहे हैं. 

किशोरगंज चौक पर पूनम कुमारी ने बताया कि अगर मुख्यमंत्री को शहर जाम की इतनी ही चिंता है तो जाम के नाम से कुख्यात रातु रोड के लिए कोई उपाय क्यों नही करते हैं. शहर में सिर्फ यही सड़क जाम होती है क्या?
धर्मेद्र कुमार का कहना है कि मुख्यमंत्री और राज्य के आला-अधिकारी इस सड़क से गुजरते हैं. उनलोगों को कोई समस्या ना हो इसका उपाय किया गया है. चाहे आमलोग को कुछ भी परेशानी हो.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: