न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नगड़ी के वार्ड सदस्य ने कहा : 30 हजार दो, आवास योजना की राशि मिल जायेगी, BDO को भी जानकारी, पर कार्रवाई नहीं (देखें वीडियो)

68

Md. Asghar Khan

Ranchi, 01 December : काम के बदले दाम तो आम बात है, लेकिन इसी तर्ज पर योजनाओं के बदले घूस लेना अनोखी बात नहीं. लाभुकों को आवास के बदले घूस देना पड़ रहा है. मामला रांची के कांके प्रखंड का है, जहां वार्ड सदस्य नीलम टोप्पो ने प्रधानमंत्री आवास योजनाओं के तहत मकान की राशि दिलाने के एवज में 30-30 हजार रुपए की मांग की थी. लाभुकों के द्वारा कांके बीडीओ के पास इसकी लिखित शिकायत भी की जा चुकी है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गयी. फिर से लिखित शिकायत का इंतजार किया जा रहा है.

दे चुके हैं चार से दस हजार रुपये तक घूसः लाभुक

कांके प्रखंड के नगड़ी ग्राम के लाभुकों कहना है कि हमलोगों से प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनवाने के नाम पर नगड़ी गांव की वार्ड सदस्य नीलम ने तीस-तीस हजार रुपया की मांग की थी. किसी से चार तो किसी से दस हजार रुपए तक ठगा जा चुका है. इसे लेकर 27 नवंबर 2017 को कांके प्रखंड विकास पदाधिकारी को लिखित शिकायत भी कर चुके हैं. शिकायत से माध्यम से जांच कर कार्रवाई की मांग की है. जबकि इस बात को लेकर क्षेत्रीय जन विकास परिषद ने भी 29 नवंबर 2017 को कांके बीडीओ को लिखित शिकायत कर जांच की मांग की है. पैसे देने वालों में ठुमा उरांव (5,000), महेश गाड़ी (10,000), जेवियर लोहरा (4,000), महेश लोहरा (4,000) और विनोद टोप्पो (10,000) हैं. 

पैसा लेने की बात कबूल कर चुकी हैं वार्ड सदस्यः बीडीओ

कांके प्रखंड बीडीओ ज्ञान शंकर जायसवाल एक वीडियो में यह कहते नजर आ रहे हैं कि इस बाबत वार्ड सदस्य से पूछने पर उन्होंने पैसे लेने वाली बात स्वीकार की है. उन्होंने कहा कि लाभुक जेवियर लोहरा से मैंने चार हजार रुपये लिये हैं. इस पर बीडीओ ने वार्ड सदस्य को तत्काल लाभुक को पैसा वापस करने का आदेश दिया. बीडीओ ने कहा कि लाभुक जेवियर लोहरा मुझे लिखित शिकायत देंगे तब वार्ड सदस्य पर कार्रवाई की जायेगी.

बता दें कि लाभुक जेवियर लोहरा जांच एंव कार्रवाई के संबंध में 27 नवंबर 2017 को लिखित शिकायत कर चुके हैं, जिसकी उनके पास रिसीविंग भी है. लेकिन बीडीओ अब भी लाभुक के लिखित शिकायत का इंतजार कर रहे हैं.

बीडीओ का जवाबः अब तक 15 लोग पूछ चुके हैं कहकर कट कर दिया कॉल…

अब सवाल है कि अगर लाभुकों ने बीडीओ से अब तक लीखित शिकायत नहीं की है, तो बीडीओ ने कैसे वार्ड सदस्य से पूछ-ताछ की. जबकि वार्ड सदस्य के द्वारा घूस लेने वाली बात कबूल करने के बावजूद कार्रवाई हेतु एक बार फिर लाभुक की लिखित शिकायत का इंतजार किया जा रहा है. वहीं इन सब सवालों पर न्यूज विंग ने बीडीओ से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने यह कहकर फोन काट दिया कि अबतक 15 लोग इस बारे में पूछ चुके हैं. दोबारा कई बार करने पर फोन रिसीव नहीं किया गया.

घूस नहीं, बालू-सीमेंट गिराने का पैसा लिया थाः वार्ड सदस्य

वहीं इस पूरे मामले पर वार्ड सदस्य नीलम का कहना है कि मैंने लाभुकों से कुछ काम के लिए पैसे लिये थे. किस काम के लिए, पूछने पर नीलम ने कहा कि मैटेरियल गिरवाने के लिए पैसे लिये थे. जब उनसे पूछा गया कि क्या मैटेरियल गिराना था तो उन्होंने कहा कि बालू-सीमेंट का पैसा मैंने लिया था. योजना के तहत वार्ड सदस्य को बालू-सीमेंट गिरवाना पड़ता है? इस सावल पर नीलम ने कहा कि लाभुकों ने मुझसे कहा था कि आपका कोई जानने वाला है तो बालू गिरवा दीजिए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: