न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नक्सलवाद के खात्मे के 24 दिन शेष: गिरिडीह के बगोदर में फिर पोस्टरबाजी, दहशत

14

 

News Wing
Giridih, 06 December:
झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास और डीजीपी डीके पांडेय साल भर से यह दावा कर रहे हैं कि 31 दिसंबर 2017 तक नक्सलवाद खत्म हो जाएगा. 31 दिसंबर की समय सीमा खत्म होने में 24 दिन बचे हैं. और राज्य में नक्सली गतिविधि अब भी जारी है. 

इसे भी पढ़ें- नक्सलियों ने चिपकाए पोस्टर, पुलिस ने हटाया

एक तरफ झारखंड के डीजीपी लगातार अधिकारियों के साथ मीटिंग कर कड़ी रणनीति के साथ नक्सलवाद के खात्मे की घोषणा कर चुके हैं. वहीं दूसरी ओर कई जगहों में नक्सली पोस्टर, बैनर के माध्यम से अपनी उपस्थिति बता रहे हैं. हालिया दिनों में चल रहे घटनाक्रम से इसका अंदाजा लगाया जा सकता. लगातार भाकपा माओवादियों के नाम गिरिडीह जिले के अलग-अलग प्रखण्डों में पोस्टर बैनर के माध्यम से लोगों से कई तरह की अपील की जा रही है. डुमरी, मधुबन, पीरटांड़ आदि इलाकों के बाद मंगलवार को जिले के बगोदर में भाकपा माओवादी के नाम से बैनर, पोस्टर चिपके मिले हैं. ये पोस्टर व बैनर थाना क्षेत्र के खेतको में चिपकाये गये हैं. बता दें कि खेतको भाजपा के बगोदर विधायक नागेन्द्र महतो का पैतृक निवास स्थान है.

इसे भी पढ़ें- गिरिडीहः सरिया में नक्सलियों ने पोस्टर साटे, दहशत, पुलिस ने कहा हताश हो गए हैं नक्सली

पोस्टर खेतको स्थित शिवाला चौंक में कदम के एक पेड़ तथा प्रज्ञा केन्द्र की दीवार पर साटे गए हैं. वहीं अलगडीहा-खेतको मोड़ पर 10 मीटर लंबा बैनर लगाया गया है. खेतको-अलगडीहा मोड़ पर यज्ञ के दौरान स्थापित की गई असूर की प्रतिमा पर भी पोस्टर साटे गए हैं. पोस्टर में पीएलजीए की 17 वीं वर्षगांठ को दो से आठ दिसंबर तक सफल बनाने, केन्द्रीय कर्तव्य को पूरा करने के लिए लक्ष्य से पीएलजीए में कमीशनों और कमानों को विकसित करने, पुलिसिया-कार्पोरेट नीति को ध्वस्त करने का आह्वान, ऑपरेशन ग्रीनहंट का विरोध किया है. वहीं बैनर में लिखा है कि नक्सलबाड़ी की आग देश के कोने-कोने में जल रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: