न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

देखिये-सुनिये सीएम रघुवर दास ने सदन में विपक्षी विधायकों को कौन सी गाली दी

92

Ranchi: मुख्यमंत्री रघुवर दास अक्सर आउट ऑफ कंट्रोल हो जाते हैं. कभी अधिकारियों के साथ बैठक में तो कभी भाजपा नेताओं की बैठक में वे आवेश में इस कदर बह जाते हैं कि उन्हें होश ही नहीं रहता कि वो क्या कह गये हैं. शुक्रवार को भी वह आवेश में कुछ ऐसा कह गये जो उन्हें नहीं कहना चाहिए था. राज्य की सबसे बड़ी संवैधानिक संस्था विधानसभा जहां जनता के चुने हुए जनप्रतिनिधि राज्य की नीतियों का निर्धारण करते हैं. जहां जनप्रतिनिधियों को अनुशासित और शालीन रहना पड़ता है. इसी विधानसभा की गरिमा को तार-तार करते हुए सीएम ने भरे विधानसभा में अपशब्द(गाली) का प्रयोग किया. उन्होंने विपक्ष के विधायकों के लिए अपशब्द का प्रयोग किया. सदन के अंदर कार्यवाही चल रही थी जो मुख्यमंत्री के मुख से निकला शब्द कैमरे में रिकॉर्ड हो गया और सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. आप भी देखें और सुनें कि आखिर सीएम ने विपक्षी विधायकों को कौन सी गाली दी.

IFrame

इसे भी पढ़ेंः सीएम रघुवर पर सदन में गाली देने का आरोप, हेमंत ने कहा माफी मांगें सीएम, जेएमएम ने फूंका पुतला

hosp3

इसे भी पढ़ेंः विधानसभा में चुंबन पर हंगामा बढ़ता देख भानू प्रताप शाही ने कहाः कहां जायें हम निर्दलीय विधायक, इस्तीफा ही ले लीजिए

स्थानीय नीति का विरोध कर रहे थे विपक्ष के विधायक

दरअसल सदन में स्थानीय नीति को लेकर झामुमो हंगामा कर रहा था. इसी बीच सीएम अपनी सीट से उठे और स्थानीय नीति पर सरकार का पक्ष रखने लगे. उन्होंने कहा कि सरकार बनने के साथ ही स्थानीय नीति घोषित की गयी. अभी तक 24 हजार 656 नियुक्तियां स्थानीय नीति के तहत हो चुकी है. सिर्फ 1000 नियुक्तियां ही बाहरी लोगों की हुई है. यानी 95 फीसदी नियुक्तियां स्थानीय नीति के तहत हुई है. सीएम ने झामुमो की ओर इशारा करते हुए कहा कि इनको झंडा ढोने के लिए नहीं मिल रहा है. इसलिए ये लोग बौखलाये हुए हैं और स्थानीय नीति का विरोध कर रहे हैं. इसके बाद सीएम ने कहा स्सा… मिर्चा लग रहा है.

इसे भी पढ़ेंः सीएम ने कहा विपक्ष को मिर्ची लग रही है क्या, तो हेमंत ने कहा आप अधिकारियों के जाल में फंस चुके हैं, बाहर निकलें

इसे भी पढ़ेंः शिक्षा न्यायाधिकरण विधेयक को लेकर हेमंत ने उठाया सवाल, कहा जब बिल गिर चुका है, तो प्रवर समिति को कैसे भेजा गया

स्पीकर ने साध ली चुप्पी

मुख्यमंत्री के मुंह से निकले अपशब्द को झामुमो ने पकड़ लिया. हेमंत सोरेन ने आरोप लगाया कि सीएम ने स्सा… शब्द का उपयोग उनके लिये किया है. इसके बाद झामुमो ने सदन का वॉकआउट किया और सीएम का पुतला फूंका. इस घटना के बाद एक बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर विधानसभा अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री पर अपशब्द बोलने के लिए कार्रवाई क्यों नहीं की. सदन में अमर्यादित आचरण करने वाले विधायकों को कई-कई दिनों तक सदन से बर्खास्त किया गया है, लेकिन मुख्यमंत्री के मामले में स्पीकर ने चुप्पी क्यों साध ली. जाहिर है स्पीकर की इस चुप्पी से विपक्ष को सरकार को घेरने के लिए एक और मौका मिलेगा.

इसे भी पढ़ेंः विधानसभा सत्र का आखिरी दिन, कार्यवाही से पहले बकोरिया कांड व मोमेंटम झारखंड को लेकर जेएमएम का हंगामा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: